Pray for Amazonia: विश्व के सबसे बड़े रेन फॉरेस्ट में बेकाबू आग से हो सकता है खतरा

amazonia
Pray for Amazonia: विश्व के सबसे बड़े रेन फॉरेस्ट में बेकाबू आग से हो सकता है खतरा

नई दिल्ली। दक्षिण अमेरिका के ब्राजील में स्थित विश्व के सबसे बड़े रेन फॉरेस्ट अमेजन जंगल का विशाल हिस्सा आग की चपेट में है। इस साल यहां पर कई बार आग लगने की घटनाएं सामने आयी हैं। लेकिन इस बार लगी आग के कारण ब्राजील का साओ पाउलो शहर में अंधेरा छा गया। अगस्त महीने के पहले हफ्ते में लगी आग पर अब तक काबू नहीं पाया जा सका है। जिसके चलते कई शहर और इलाके प्रभावित हुए हैं।

Uncontrolled Fire Of The Worlds Largest Rain Forest Is Dangerous :

दरअसल, अमेजन और रोंडानिया के राज्यों में लगी आग से निकलने वाली तेज हवाओं ने करीब 3000 किमी क्षेत्र को प्रभावित किया। ब्राजील के शहर साओ पाउलो में दिन के 3-4 बजे ही अंधेरा हो गया है। यह अंधेरा जंगल में फैली आग की वजह से है, सारा शहर धुंध नज़र आ रहा है।

वहीं, ब्राजीलियन स्पेस रिसर्च एजेंसी ने अपने सेटेलाइट डाटा को खंगाला और पाया साल 2018 में करीब 83 प्रतिशत घटनाओं में इजाफा हुआ है। इसके कारण यहां प्रदूषण खतरनाक स्तर तक पहुंच गया है। जंगल में आग लगने से जंगल में रह रहे जानवरों को भी काफी दिक्कत हुई है। कई जानवरों की तस्वीरें भी सामने आई हैं जो अमेजन की आग के कारण जख्मी हो गए हैं।

साथ ही दुनिया भर में लोग सोशल मीडिया का सहारा लेकरर फोटो और वीडियोज शेयर करते हुए हालात जल्द बेहतर होने की दुआ और जागरूक कर रहे हैं। हालांकि यहां के स्थानीय लोग मीडिया के ख़िलाफ़ ग़ुस्सा भी ज़ाहिर कर रहे हैं। उनके मुताबिक यह आग अगस्त महीने के पहले हफ़्ते में ही लग गई थी लेकिन इंटरनेशनल मीडिया ने इस ख़बर को महत्व ही नहीं दी।

इतना ही नहीं ब्राजील के राष्ट्रपति जय बोल्सोनारो ने अपने वनों की कटाई के आंकड़ों के बीच एजेंसी के प्रमुख को निकाल दिया है। वहीं संरक्षणवादियों ने बोल्सनारो को ही इस घटना के लिए दोषी ठहराया है। उनका कहना है कि बोल्सोनारो लोगों और किसानों को भूमि खाली करने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं।

बता दें, साल 2013 के बाद से जनवरी और अगस्त के बीच आग लगने की घटनाओं में लगातार इजाफा हो रहा है। इस साल भी कई बार जंगल की आग को देखा था।

नई दिल्ली। दक्षिण अमेरिका के ब्राजील में स्थित विश्व के सबसे बड़े रेन फॉरेस्ट अमेजन जंगल का विशाल हिस्सा आग की चपेट में है। इस साल यहां पर कई बार आग लगने की घटनाएं सामने आयी हैं। लेकिन इस बार लगी आग के कारण ब्राजील का साओ पाउलो शहर में अंधेरा छा गया। अगस्त महीने के पहले हफ्ते में लगी आग पर अब तक काबू नहीं पाया जा सका है। जिसके चलते कई शहर और इलाके प्रभावित हुए हैं। दरअसल, अमेजन और रोंडानिया के राज्यों में लगी आग से निकलने वाली तेज हवाओं ने करीब 3000 किमी क्षेत्र को प्रभावित किया। ब्राजील के शहर साओ पाउलो में दिन के 3-4 बजे ही अंधेरा हो गया है। यह अंधेरा जंगल में फैली आग की वजह से है, सारा शहर धुंध नज़र आ रहा है। वहीं, ब्राजीलियन स्पेस रिसर्च एजेंसी ने अपने सेटेलाइट डाटा को खंगाला और पाया साल 2018 में करीब 83 प्रतिशत घटनाओं में इजाफा हुआ है। इसके कारण यहां प्रदूषण खतरनाक स्तर तक पहुंच गया है। जंगल में आग लगने से जंगल में रह रहे जानवरों को भी काफी दिक्कत हुई है। कई जानवरों की तस्वीरें भी सामने आई हैं जो अमेजन की आग के कारण जख्मी हो गए हैं। साथ ही दुनिया भर में लोग सोशल मीडिया का सहारा लेकरर फोटो और वीडियोज शेयर करते हुए हालात जल्द बेहतर होने की दुआ और जागरूक कर रहे हैं। हालांकि यहां के स्थानीय लोग मीडिया के ख़िलाफ़ ग़ुस्सा भी ज़ाहिर कर रहे हैं। उनके मुताबिक यह आग अगस्त महीने के पहले हफ़्ते में ही लग गई थी लेकिन इंटरनेशनल मीडिया ने इस ख़बर को महत्व ही नहीं दी। इतना ही नहीं ब्राजील के राष्ट्रपति जय बोल्सोनारो ने अपने वनों की कटाई के आंकड़ों के बीच एजेंसी के प्रमुख को निकाल दिया है। वहीं संरक्षणवादियों ने बोल्सनारो को ही इस घटना के लिए दोषी ठहराया है। उनका कहना है कि बोल्सोनारो लोगों और किसानों को भूमि खाली करने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। बता दें, साल 2013 के बाद से जनवरी और अगस्त के बीच आग लगने की घटनाओं में लगातार इजाफा हो रहा है। इस साल भी कई बार जंगल की आग को देखा था। https://www.youtube.com/watch?v=oy3KEZ8Ou9c