1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. प्रोटोकॉल के तहत होगी नेपाल से आने वाले यात्रियों की जांच

प्रोटोकॉल के तहत होगी नेपाल से आने वाले यात्रियों की जांच

By रवि तिवारी 
Updated Date

सोनौली महराजगंज। भारत-नेपाल की सभी सीमा पर अब प्रोटोकॉल के तहत नेपाल से आने वाले सभी भारतीय एवं नेपाली यात्रियों को कोरोना वायरस की जांच से गुजरना होगा। गुरुवार की दोपहर जिलाधिकारी महराजगंज डॉ उज्ज्वल कुमार और पुलिस अधीक्षक रोहित सिंह सजवान ने भारत नेपाल सीमा का दौरा कर स्थानीय अधिकारियों को कड़े निर्देश दिए। इस दौरान उन्होंने बताया कि भारत सरकार की नई गाइड लाइन और डब्लू एचओ के नियमानुसार सीमा पर अब जांच होगी।

शुक्रवार से नेपाल और भूटान के यात्रियों को छोड़ अन्य सभी देश के नागरिकों के भारत आगमन पर रोक है। आज मध्यरात्री से नेपाल के रास्ते स्थल मार्ग से किसी भी विदेशी नागरिकों को जिस को भारत आने मे वीजा लगता है उस की एंट्री भारत मे आगामी 15 अप्रैल तक बन्द है। आब्रजन विभाग अब एराइवल जारी नही करेगा। इसके पूर्व कोरोना कैम्प में पहुच कर डॉक्टरों द्वारा की जा रही जांच को उन्होंने गम्भीरता से जाचा और उपस्थिति सीएमओ महराजगंज डा एके श्रीवास्तव को समस्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में दस बेड रिजर्ब करने को निर्देशित किया। जिससे आपात काल मे सभी स्वास्थ केंद्र पर आइसोलेशन वार्ड की सुबिधा होगी।

यात्रियों की संख्या को देखते हुए सरहद पर अब दो स्वास्थ्य शिविर

जिलाधिकारी ने कहा की नोमैन्स लैंड के पास एक केरोना हेल्थ हेल्प डेस्क और बनाया जाएगा और बैरियर, अब नेपाल से भारत आने वाले हर नेपाली,भारतीय की भी स्कैनिंग कर भारत मे आने दिया जाएगा थर्मल स्कैनर अब नो मैंन्स लैंड के पास लगेगी नेपाल, भूटान के लोगों को बिना पासपोर्ट और वीजा के इंडिया आने की अनुमति है। एव मालदीव के लोगों को सिर्फ पासपोर्ट ले के आना पड़ता है वीजा नहीं लगता उनका। इस लिए इन देशों के नागरिकों के लिए भारत आने के लिए अभी रोक नही है,सिर्फ वीजा लेकर जो भारत आते है उन के लिए यह नियम है।

नेपाल के विदेशियों के लिए सभी स्थल मार्ग बंद

चीन से नेपाल आने के लिए स्थलमार्ग रशुवागढी और तातो पानी स्थल मार्ग एक महीने से बंद है,अब भारत ने भी नेपाल के सभी स्थल मार्गो से विदेशी नागरिकों के आने पर प्रतिबंध लगा दिया है,जिस कारण अब विदेशी नागरिक स्थल मार्ग से चीन और भारत नही जा सकते।

नेपाल मे कोरेना संक्रमण की आकांशा मै 450 लोगो का स्वास्थ्य जांच किया गया, जिसमे 6 लोगो को आइसोलेशन वार्ड मैं रखा गया है। इस बात की जानकारी नेपाल स्वास्थ्य तथा जनसंख्या मंत्रालय के प्रवक्ता विकास देवकोटा ने दी। उन्होंने बताया कि कोरोना को लेकर नेपाल सरकार गम्भीर है। भारत नेपाल की सभी सीमा सहित चाइना और बांग्लादेश की सीमा पर जाच किया जा रहा है।

सरहद पर लगेगा बैरियर हैंड मशीन से होगी स्क्रीनिग

डीएम ने कोरोना वायरस को लेकर सरहद अधिकारियों को सतर्क रहने के निर्देश दिए है। उन्होंने डाक्टरो के साथ एसएसबी जवानों को भी जांच करने के लिए निर्देशित किया। सीएमओ डॉ एके श्रीवास्तव ने बताया कि बैरियर लगाकर कर यात्रियों को रोका जाएगा और आज ही नए कैम्प लगाकर कर अलग से तीन डॉक्टर और फार्मासिस्ट की तैनाती किया जाएगा। जिससे सभी की जांच शुरू हो सके।

आपातकाल के दौरान 100 बेड के आसोलेसन बनाने के निर्देश

डीएम महराजगंज ने सोनौली सीमा के निरीक्षण के दौरान सीएमओ महराजगंज को निर्देशित किया कि कोरोना वायरस अब तेजी से पाव फैला रहा है। आपातकाल के दौरान कोरोना के लझण मिलने पर जिले में 100 बेड के आसोलेसन वार्ड की स्थापना जल्द शुरू किया जाए। जिससे मरीज मिलने पर उनका इलाज तुरन्त किया जा सके।

फ्रांस और स्पेन के रोके गए यात्री

भारत नेपाल सीमा सोनौली के रास्ते फ्रांस और स्पेन के दो नागरिको को नेपाल आब्रजन ने नेपाल प्रवेश देने से मना कर दिया है। दोनों यात्री सरहद पर रुके हुए है। और दूतावास के सम्पर्क में है।

गुरुवार की शाम फ्रांस का एक और स्पेन का एक नागरिक भारत की यात्रा पूरी कर आब्रजन कार्यालय सोनौली पहुचा जहां डिपार्चर के साथ कोरोना वायरस की जांच डाक्टरो द्वारा किया गया। फिर वह नेपाल जाने के लिए नेपाल आब्रजन कार्यालय पहुचा। जहां अधिकारियों ने दोनों नागरिको को नेपाल में प्रवेश की अनुमति देने से मना कर दिया। आब्रजन अधिकारी चीफ बेलहिया गिरिराज ने बताया कि नेपाल सरकार ने दस देशो के नागरिकों के प्रवेश पर रोक लगाया है। जिसमे दोनों नागरिक आते है। दोनों नागरिको को बताया गया है कि अपने अपने दूतावास से संर्पक करे।

कोरोना वायरस को लेकर 653 लोगो की हुई जांच

भारत नेपाल सीमा सोनौली के रास्ते भारत से नेपाल आने जाने वाले 653 यात्री और पर्यटको की जांच स्थानीय कोरोना वायरस कैम्प में किया गया।

गुरुवार की शाम चार बजे तक डॉ अशोक कुमार ,पारस नाथ फार्मासिस्ट राजेश वर्मा के नेतृत्व में भारत से नेपाल आने जाने के दौरान 653 विदेशी यात्री और पर्यटको की जांच किया गया। डाक्टर अशोक चौधरी ने बताया कि किसी भी यात्री में संक्रमण नही मिले

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...