भागलपुर हिंसा: केंद्रीय मंत्री के बेटे ने कहा- मैं सरेंडर नहीं करूंगा, ऐसी कोई बात ही नहीं

arjit shaswat bihar bhagalpur
भागलपुर हिंसा: केंद्रीय मंत्री के बेटे ने कहा- मैं सरेंडर नहीं करूंगा, ऐसी कोई बात ही नहीं

पटना। बिहार के भागलपुर में दंगा भड़काने के मामले में केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत चौबे ने कहा कि अगर पुलिस मुझे गिरफ्तार करने आती है तो मैं वो करूंगा जो वह कहेंगे। मैंने अग्रिम जमानत याचिका कोर्ट में दायर कर दी है। उन्होंने कहा, “मैं सरेंडर नहीं करूंगा। सरेंडर करने जैसी कोई बात नहीं है। जांच में पुलिस का भी सहयोग करूंगा। मुझे देश की न्याय व्यवस्था पर भरोसा है।”

Union Minister Ashvini Choubey Son Arijit Shashwat Asks Why Should I Surrender :

बता दें कि 24 मार्च को भागलपुर की अदालत से अर्जित समेत 9 के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी हुआ था। एडीजी मुख्यालय संजीव कुमार सिंघल ने बताया कि नाथनगर मामले में दो केस दर्ज हुए हैं। एक केस में वारंट जारी हो चुका है। अब दूसरे केस में भी अदालत से आरोपियों की गिरफ्तारी वारंट लेने में पुलिस जुटी है।

अर्जित शाश्वत पर आरोप है कि उन्होंने प्रशासन की इजाजत के बिना पिछले रविवार को शोभा यात्रा निकाली और भड़काऊ भाषण दिए। जिसकी वजह से भागलपुर के नाथनगर में सांप्रदायिक तनाव की स्थिति पैदा हो गयी। हालांकि, अर्जित की तरफ से कहा गया कि उन्होंने शोभा यात्रा निकालने की जानकारी प्रशासन को दी थी, लेकिन प्रशासन उस पर मौन रहा। प्रशासन ने इजाजत भी नहीं दी और न ही मना किया।

उधर, पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने भी पूरे प्रकरण पर नीतीश कुमार को घेरा है। तेजस्वी ने ट्वीट में लिखा है, नीतीश सरकार सुनिए, केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित चौबे एक केस में फरार है। नीतीश सरकार ने उनके खिलाफ भागलपुर में दंगा फैलाने का वारंट जारी किया है पर वह तो राम नवमी के अवसर पर तलवार थामे बीजेपी विधायकों के साथ जुलूस निकाल रहा है।

पटना। बिहार के भागलपुर में दंगा भड़काने के मामले में केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत चौबे ने कहा कि अगर पुलिस मुझे गिरफ्तार करने आती है तो मैं वो करूंगा जो वह कहेंगे। मैंने अग्रिम जमानत याचिका कोर्ट में दायर कर दी है। उन्होंने कहा, "मैं सरेंडर नहीं करूंगा। सरेंडर करने जैसी कोई बात नहीं है। जांच में पुलिस का भी सहयोग करूंगा। मुझे देश की न्याय व्यवस्था पर भरोसा है।"बता दें कि 24 मार्च को भागलपुर की अदालत से अर्जित समेत 9 के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी हुआ था। एडीजी मुख्यालय संजीव कुमार सिंघल ने बताया कि नाथनगर मामले में दो केस दर्ज हुए हैं। एक केस में वारंट जारी हो चुका है। अब दूसरे केस में भी अदालत से आरोपियों की गिरफ्तारी वारंट लेने में पुलिस जुटी है। अर्जित शाश्वत पर आरोप है कि उन्होंने प्रशासन की इजाजत के बिना पिछले रविवार को शोभा यात्रा निकाली और भड़काऊ भाषण दिए। जिसकी वजह से भागलपुर के नाथनगर में सांप्रदायिक तनाव की स्थिति पैदा हो गयी। हालांकि, अर्जित की तरफ से कहा गया कि उन्होंने शोभा यात्रा निकालने की जानकारी प्रशासन को दी थी, लेकिन प्रशासन उस पर मौन रहा। प्रशासन ने इजाजत भी नहीं दी और न ही मना किया।उधर, पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने भी पूरे प्रकरण पर नीतीश कुमार को घेरा है। तेजस्वी ने ट्वीट में लिखा है, नीतीश सरकार सुनिए, केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित चौबे एक केस में फरार है। नीतीश सरकार ने उनके खिलाफ भागलपुर में दंगा फैलाने का वारंट जारी किया है पर वह तो राम नवमी के अवसर पर तलवार थामे बीजेपी विधायकों के साथ जुलूस निकाल रहा है।