1. हिन्दी समाचार
  2. प्लास्टिक वेस्ट से पेट्रोल डीजल बनाने वाला प्लांट शुरु, भारत बना चौथा देश

प्लास्टिक वेस्ट से पेट्रोल डीजल बनाने वाला प्लांट शुरु, भारत बना चौथा देश

Union Minister Harsh Vardhan Inaugurates Plant Of Making Diesel Petrol From Plastic Waste In Dehradun

By पर्दाफाश समूह 
Updated Date

देहरादून। उत्तराखंड की राजधानी देहरादून के आईआईपी के परिसर में प्लास्टिक वेस्ट से पेट्रोल-डीजल बनाने का प्लांट बनाया गया है। दुनिया का यह चौथा प्लांट है जहां प्लास्टिक से डीजल- पेट्रोल के साथ कई तरह के केमिकल तैयार होंगे।

पढ़ें :- देश के हर व्यक्ति को मिलेगा कोरोना का टीका, कोई नहीं छूटेगा : पीएम मोदी

वैज्ञानिकों का कहना है कि इससे आसानी से डीजल बनाया जा सकेगा जो वाहनों के साथ औद्योगिक क्षेत्रों में भी इस्तेमाल किया जाएगा। सबसे बड़ी बात यह है कि प्लास्टिक वेस्ट एक चुनौती बन गया है। यह पर्यावरण को जहां नुकसान पहुंचा रहा है वहीं जीव जंतुओं के लिए भी काफी खतरनाक बना हुआ है।

इसके चलते आईआईपी में एक ऐसे प्लांट को लगाया गया है जिससे प्लास्टिक वेस्ट से डीजल बनाया जा रहा है। देहरादून में प्लास्टिक वेस्ट से डीजल बनाने के इस प्लांट को आईआईपी के वैज्ञानिकों ने 10 साल की कड़ी मेहनत के बाद तैयार किया है।

वैज्ञानिकों ने प्लास्टिक वेस्ट से डीजल बनाने के लिए कई सालों तक रिसर्च किया है। केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने इस प्लांट का शुभारंभ किया। प्लांट अभी 1 टन की क्षमता का बनाया गया है। जिससे 800 लीटर डीजल बनाने का काम शुरू हो गया है। केंद्रीय डॉ हर्षवर्धन का कहना है कि अब इस तरह के प्लांट को देश के कई राज्यों में भी लगाया जाएगा।

बता दें कि उत्तराखंड राज्य में यह पहला मौका है जब इस तरह का प्लांट तैयार हुआ है जहां 1 टन प्लास्टिक वेस्ट को डीजल पेट्रोल या दूसरे केमिकल में बदला जा सकता है। आज देश के सामने प्लास्टिक वेस्ट किसी चुनौती से कम नहीं है। केंद्र सरकार बीट द प्लास्टिक अभियान चला रही है जिसके तहत प्लास्टिक के कम इस्तेमाल पर फोकस करने की बात कही जा रही है।

पढ़ें :- बसपा के बागी सात विधायकों को मायावती ने किया निलंबित, अखिलेश यादव पर साधा निशाना

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...