1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. महाकाल के बारे में अनोखी बातें जिसे जानकर रह जाएगें हैरान

महाकाल के बारे में अनोखी बातें जिसे जानकर रह जाएगें हैरान

एक ऐसे नगरी जिसे महाकाल के नगरी के नाम से जाना जाता है। यहां पर ऐसा कहा जाता है कि अकाल मृत्यु वो मरे जो काम करे चंडाल का काल भी उसका क्या करे जो भक्त हो महाकाल का। तो चलिए आप को रूबरू करातें है महाकाल नगरी से।

By प्रिया सिंह 
Updated Date

एक ऐसे नगरी जिसे महाकाल के नगरी के नाम से जाना जाता है। यहां पर ऐसा कहा जाता है कि अकाल मृत्यु वो मरे जो काम करे चंडाल का काल भी उसका क्या करे जो भक्त हो महाकाल का। तो चलिए आप को रूबरू करातें है महाकाल नगरी से।

पढ़ें :- अगर सिक्किम जाने का बना रहे हैं आप प्लान,तो इन दो जगहों का ज़रूर करें दीदार

महाकालेश्वर मंदिर को लेकर कई सारी कहानियां हैं। लोगो का कहना है कि महाकालेश्वर का मेन मंदिर वो है। जहां भगवान को शराब पिलाई जाती है। लेकिन मैं आपको बता दूं कि ये दो अलग-अलग मंदिर हैं। ये मंदिर बहुत दूर नहीं हैं। इस मंदिर के गर्भग्रह में एक गुफा है। जो महाकाल मंदिर से जुड़ी हुई है। जहां भैरो बाबा का मंदिर अपने आप में प्रसिद्ध है।

उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर और काल भैरव के मंदिर के बारे में आप को भी पता होगा। काल भैरव का मंदिर देश का ही नहीं बल्कि दुनिया का एकमात्र ऐसा मंदिर है। जहां भगवान शिव को शराब पिलाई जाती है और यही नहीं यहां प्रसाद बेचने वाले लोग भी शराब अपने पास रखते हैं। 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक महाकालेश्वर का शिवलिंग स्वयंभू (अपने आप प्रकट हुआ) माना जाता है।

पढ़ें :- फरवरी मा​​​ह में विवाह के हैं 13 शुभ मुहूर्त, गृह प्रवेश, मुंडन व वाहन खरीद की नोट कर लें शुभ घड़ी?

महाकाल के दर्शन से नही होती है अकाल मृत्यु

बताया जाता है कि महाकाल में भस्म आरती काफी शानदार होती है पहले यहां जलती हुई चिता की राख से भगवान महाकाल की पूजा की जाती थी।

आखिर मंदिर परिसर में क्यों नही रुकते है राजा और मंत्री

पढ़ें :- अगर श्रीनगर घूमने का बना रहे प्लान,तो इस जगह जाना ना भूले

महाकालेश्वर मंदिर के परिसर में ऐसा माना जाता है कि जो भी राजा या मंत्री यहां रात गुजारता है। उसका राजपाठ खत्म हो जाता है। इससे जुड़े कई उदाहरण भी प्रसिद्ध हैं बताया जाता है कि देश के चौथे प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई मंदिर के दर्शन करने के बाद रात में यहां रुके थे। तो उनकी सरकार अगले ही दिन गिर गई थी।

उज्जैन में महाकाल कैसे हुए विराजमान

दरसल प्राचीन काल में राजा चंद्रसेन शिव के बहुत बड़े उपासक थे। एक दिन राजा शिव के मंत्रो का जाप कर रहें थे। राजा के मुख से मंत्रो का जाप सुन एक किसान का बेटा भी उनके साथ जाप करने लगा। लेकिन वहा पर मौजूद सिपाहियों ने उसे दूर भेज दिया। जिसके बाद वह जंगल के पास जाकर पूजा करने लगा और वहां उसे अहसास हुआ कि दुश्मन राजा उज्जैन पर आक्रमण करने जा रहे हैं। उसके बाद वह प्रार्थना के दौरान ही यह बात पुजारी को बता दी। यह खबर आस- पास के इलाके में आग की तरह फैल गई। उस समय विरोधी राक्षस दूषण के साथ उज्जैन पर आक्रमण कर रहे थे। दूषण को भगवान ब्रह्मा का वर्दान प्राप्त था कि वो दिखाई नहीं देगा।

उस वक्त पूरी प्रजा भगवान शिव की अराधना करने लगा। भक्तों की पुकार सुनकर भगवान महाकाल प्रकट हुए। उसके बाद भगवान महाकाल ने दूषण का वध किया और उसकी राख से ही अपना श्रृंगार किया। उसके बाद वो यहीं विराजमान हो गए। तब से यहां आए दिन की सबसे पहला भस्म आरती होती है।

पढ़ें :- 31 जनवरी 2023 राशिफल: मेष राशि के जातकों को होगा अच्छा मुनाफा, जाने अपनी राशि का हाल

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...