उन्नाव मामला: पांचो आरोपियों का लिया गया ब्लड सैंपल, करवाया जायेगा डीएनए मिलान

Unnao case
उन्नाव मामला: पांचो आरोपियों का लिया गया ब्लड सैंपल, करवाया जायेगा डीएनए मिलान

लखनऊ। उन्नाव के बिहार थाना क्षेत्र में रेप पीड़िता को जलाने के मामले में 5 नामजद आरोपियों को जेल भेजा गया था। अब डीएनए मिलान के लिए सभी आरोपियों का ब्लड सैंपल लिया गया है। उन्नाव के पुलिस अधीक्षक विक्रांत वीर ने जानकारी देते हुए बताया कि पुलिस द्वारा दुष्कर्म पीड़िता के सामान जैसे उसके कपड़े, सेल फोन, बैग और बोतल को संरक्षित किया गया है, अब आरोपियों के डीएनए नमूनों का मिलान किया जायेगा।

Unnao Case Blood Samples Of Five Accused Taken Dna Matching Will Be Done :

आपको बता दें कि बीते पांच दिसंबर को उन्नाव के बिहार थाना क्षेत्र में रहने वाली 25 वर्षीय रेप पीड़िता को जला दिया गया था। पीड़िता ने इस मामले में 5 लोगों पर आरोप लगाया था, जिसके बाद उसी दिन पांचो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया था। पीड़िता को नाजुक हालत में दिल्ली के अस्पताल में भर्ती करवाया गया था लेकिन इलाज के दौरान अगले ही दिन उसकी मौत हो गयी। मौत के बाद पूरे देश में जमकर हंगामा हुआ और इस मामले की जांच एसआईटी को दे दी गयी साथ ही तत्कालीन बिहार थाना प्रभारी समेत 7 पुलिस कर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया था।

बताया गया कि स्थानीय अदालत ने सोमवार को पांचों आरोपियों -शुभम, शिवम, हरि शंकर, उमेश और राम किशोर-के रक्त और डीएनए नमूने लेने के लिए पुलिस को अनुमति दी थी। उन्नाव एसपी का कहना है कि चार्जशीट दाखिल करने से पहले पूरे मामले को वैज्ञानिक सबूतों पर आधारित किया जायेगा। पुलिस का कहना है कि आरोपियों के मोबाइल फोन के लोकेशन लिये गये हैं। अरोपियों ने जो बयान दिये हैं उनमे विरोधाभास है।

लखनऊ। उन्नाव के बिहार थाना क्षेत्र में रेप पीड़िता को जलाने के मामले में 5 नामजद आरोपियों को जेल भेजा गया था। अब डीएनए मिलान के लिए सभी आरोपियों का ब्लड सैंपल लिया गया है। उन्नाव के पुलिस अधीक्षक विक्रांत वीर ने जानकारी देते हुए बताया कि पुलिस द्वारा दुष्कर्म पीड़िता के सामान जैसे उसके कपड़े, सेल फोन, बैग और बोतल को संरक्षित किया गया है, अब आरोपियों के डीएनए नमूनों का मिलान किया जायेगा। आपको बता दें कि बीते पांच दिसंबर को उन्नाव के बिहार थाना क्षेत्र में रहने वाली 25 वर्षीय रेप पीड़िता को जला दिया गया था। पीड़िता ने इस मामले में 5 लोगों पर आरोप लगाया था, जिसके बाद उसी दिन पांचो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया था। पीड़िता को नाजुक हालत में दिल्ली के अस्पताल में भर्ती करवाया गया था लेकिन इलाज के दौरान अगले ही दिन उसकी मौत हो गयी। मौत के बाद पूरे देश में जमकर हंगामा हुआ और इस मामले की जांच एसआईटी को दे दी गयी साथ ही तत्कालीन बिहार थाना प्रभारी समेत 7 पुलिस कर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया था। बताया गया कि स्थानीय अदालत ने सोमवार को पांचों आरोपियों -शुभम, शिवम, हरि शंकर, उमेश और राम किशोर-के रक्त और डीएनए नमूने लेने के लिए पुलिस को अनुमति दी थी। उन्नाव एसपी का कहना है कि चार्जशीट दाखिल करने से पहले पूरे मामले को वैज्ञानिक सबूतों पर आधारित किया जायेगा। पुलिस का कहना है कि आरोपियों के मोबाइल फोन के लोकेशन लिये गये हैं। अरोपियों ने जो बयान दिये हैं उनमे विरोधाभास है।