उन्नाव गैंगरेप मामला: HC ने एक घंटे में योगी सरकार से मांगा जवाब, ‘विधायक को गिरफ्तार करेंगे या नहीं’

allahabad highcourt unnaw gangrape
इलाहाबाद हाईकोर्ट

लखनऊ। उन्नाव गैंगरेप मामले में सीबीआई जांच की संस्तुति होने और आरोपी भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की गिरफ्तारी ना होने के बाद विरोध तेज हो गया है। इसी बीच इलाहाबाद हाईकोर्ट ने योगी सरकार से इस मामले में एक घंटे के अंदर जवाब तलब किया है। कोर्ट ने सरकार से पूछा है, ‘विधायक को गिरफ्तार करेंगे या नहीं।’

Unnaw Gangrape Allahabad High Court :

बता दें कि इलाहाबाद हाईकोर्ट में आज उन्नाव गैंगरेप मामले में सुनवाई हो रही है। हाईकोर्ट ने बुधवार को स्वत: संज्ञान लेते हुए पूरे मामले पर राज्य सरकार से रिपोर्ट मांगी थी। इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट में भी याचिका दाखिल की गई है। इससे पहले प्रेस कान्फ्रेंस कर प्रमुख सचिव ग्रह अरविन्द कुमार ने कहा कि आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। अब इस मामले में आगे की कार्रवाई सीबीआई करेंगी।

प्रमुख सचिव ग्रह ने अपने बयान में कहा कि मामले की जांच कर रही एसआईटी, जिलाधिकारी उन्नाव एनजी ​रवि कुमार और डीआईजी जेल ने पूरे मामले की जांच कराई और अलग—अलग अपनी रिपोर्ट दी, जिसका अध्ययन करने के बाद विधायक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने का फैसला लिया गया है।

लखनऊ। उन्नाव गैंगरेप मामले में सीबीआई जांच की संस्तुति होने और आरोपी भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की गिरफ्तारी ना होने के बाद विरोध तेज हो गया है। इसी बीच इलाहाबाद हाईकोर्ट ने योगी सरकार से इस मामले में एक घंटे के अंदर जवाब तलब किया है। कोर्ट ने सरकार से पूछा है, 'विधायक को गिरफ्तार करेंगे या नहीं।'बता दें कि इलाहाबाद हाईकोर्ट में आज उन्नाव गैंगरेप मामले में सुनवाई हो रही है। हाईकोर्ट ने बुधवार को स्वत: संज्ञान लेते हुए पूरे मामले पर राज्य सरकार से रिपोर्ट मांगी थी। इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट में भी याचिका दाखिल की गई है। इससे पहले प्रेस कान्फ्रेंस कर प्रमुख सचिव ग्रह अरविन्द कुमार ने कहा कि आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। अब इस मामले में आगे की कार्रवाई सीबीआई करेंगी।प्रमुख सचिव ग्रह ने अपने बयान में कहा कि मामले की जांच कर रही एसआईटी, जिलाधिकारी उन्नाव एनजी ​रवि कुमार और डीआईजी जेल ने पूरे मामले की जांच कराई और अलग—अलग अपनी रिपोर्ट दी, जिसका अध्ययन करने के बाद विधायक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने का फैसला लिया गया है।