यूपी में धार्मिक स्थलों पर अब बिना परमिशन नहीं बजेंगे लाउडस्पीकर

loud

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने इलहाबाद हाईकोर्ट के फैसले को सख्ती में आते हुए आदेश जारी कर दिया है। जिसके अनुसार अब धार्मिक व सार्वजनिक स्थलों पर बिना परिमिशन लाउडस्पीकर नहीं बजाया जा सकता। साथ ही नियम का उलंघन करते पाये जाने पर एक साल की जेल व पांच लाख रुपये जुर्माना की सज़ा रखी गयी है। गृह विभाग ने जिला अधिकारियों को ऐसे स्थलों पर निगरानी रखने का आदेश देते हुए उन्हें 15 जनवरी तक चिन्हित करने को कहा है। हालांकि सरकार के इस कदम के बाद सियासी घमासान मच गया है।

ढिलाई बरतने वाले अफसरों पर भी सख्त ऐक्शन होगा। प्रमुख सचिव गृह को इस मामले में एक फरवरी को हाई कोर्ट को रिपोर्ट देनी है। प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार ने सभी जिलों के डीएम और एसपी को निर्देश दिए हैं कि राजस्व और पुलिस की एक टीम बनाकर 10 जनवरी तक ऐसे धार्मिक स्थलों और सार्वजनिक स्थानों को चिह्नित कर लें, जहां बिना परमिशन के लाउडस्पीकर बजाए जा रहे हैं। सभी को 15 जनवरी तक का समय देकर तय प्रारुप के मुताबिक परमिशन लेने का नोटिस दें। अगर वे परमिशन नहीं लेते हैं और लाउडस्पीकर बजाते हैं तो उनके खिलाफ ध्वनि प्रदूषण नियम-2000 के तहत कार्रवाई की जाए।

{ यह भी पढ़ें:- स्वीकृत लोड से 5 से 10 गुना त​क​ बिजली की ओवरलोडिंग कर रहे योगी सरकार के मंत्रियों के बंगले }

ग़ौरतलब है कि राज्य सरकार यह कार्रवाई इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच के एक आदेश के मद्देनज़र कर रही है। कोर्ट ने वकील मोतीलाल यादव की जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए बीती 20 दिसंबर को सरकार से पूछा था कि धार्मिक और सार्वजनिक स्थलों पर जो लाउडस्पीकर लगे हैं क्या उनकी लिखित अनुमति ली गई है? और अगर अनुमति नहीं ली गई तो अनधिकृत लाउडस्पीकरों को हटाने के लिए सरकार ने अब तक क्या कार्रवाई की है? सरकार को इस बाबत 21 फरवरी को होने वाली सुनवाई के दौरान अदालत को जवाब देना है।

एसएसपी लखनऊ का आदेश
एसएसपी लखनऊ दीपक कुमार ने भी शहर के सभी थाना अध्यक्षों को आदेश दे दिया है कि वे जल्द से जल्द ऐसे धार्मिक स्थलों को चिन्हित करें जो जो बिना परमिशन के लाउडस्पीकर बजा शोर मचा रहे हैं।
ध्वनि सीमा तय
सार्वजनिक और निजी स्थानों पर लाउडस्पीकर की ध्वनि सीमा क्रमश:10 डेसिबिल और पांच डेसिबिल से अधिक नहीं होगी।

{ यह भी पढ़ें:- कश्मीर में पत्थरबाजी करने के लिए यूपी से बुलाये जाते थे लड़के }

रिहाइशी इलाके
6AM से 10PM: 55 डेसिबल
10PM से 6AM: 45 डेसिबल

कमर्शल एरिया
6AM से 10PM: 65 डेसिबल
10PM से 6AM: 55 डेसिबल

इंडस्ट्रियल एरिया
6AM से 10PM: 75 डेसिबल
10PM से 6AM: 70 डेसिबल

{ यह भी पढ़ें:- अखिलेश यादव ने कहा, मुझे PM नहीं सिर्फ यूपी का CM ही बनना पसंद }

साइलंस जोन
6AM से 10PM 50 डेसिबल
10PM से 6AM: 40 डेसिबल

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने इलहाबाद हाईकोर्ट के फैसले को सख्ती में आते हुए आदेश जारी कर दिया है। जिसके अनुसार अब धार्मिक व सार्वजनिक स्थलों पर बिना परिमिशन लाउडस्पीकर नहीं बजाया जा सकता। साथ ही नियम का उलंघन करते पाये जाने पर एक साल की जेल व पांच लाख रुपये जुर्माना की सज़ा रखी गयी है। गृह विभाग ने जिला अधिकारियों को ऐसे स्थलों पर निगरानी रखने का आदेश देते हुए उन्हें 15 जनवरी तक चिन्हित करने…
Loading...