यूपी: प्रदूषण फैलाने वालों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई , रेलवे समेत चार पर 12 लाख का जुर्माना

vayu pradushan
यूपी: प्रदूषण फैलाने वालों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई , रेलवे समेत चार पर 12 लाख का जुर्माना

लखनऊ। उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (यूपीपीसीबी) ने वायु प्रदूषण फैलाने में पूर्वोत्तर रेलवे के डीआरएम सहित 4 पर करीब 12 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। डीआरएम पर 3.98 लाख का जुर्माना गोमतीनगर स्टेशन पर प्रदूषण न रोक पाने के चलते लगाया गया है।

Up Big Action Against Polluters Fined 12 Lakhs Including Railways :

वहीं गाजियाबाद में प्रशासन और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने प्रदूषण फैलाने में आठ लोगों को गिरफ्तार किया है। साथ ही दो कंपनियों पर कोयले का इस्तेमाल करने पर एक-एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है। लोनी में 16 के खिलाफ केस दर्ज किया गया है।

प्रदेश में बढ़ते वायु प्रदूषण के प्रभाव को कम करने के लिए मुख्य सचिव ने कूड़ा, पॉलिथीन व पराली जलाने की घटनाओं को पूरी तरह रोकने का निर्देश दिया है। निर्देशों का पालन नहीं करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने को कहा है।

मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने रविवार को कहा कि पराली न जलाए जाने के संबंध में किसानों को जागरूक किया जाए। उन्हें पराली जलाने से होने वाले नुकसान की जानकारी दी जाए। पराली को खेत की मिट्टी में मिलाकर कंपोस्टिंग के लिए जरूरी व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराई जाएं। निर्माण स्थलों के आसपास धूल पर नियंत्रण के लिए नियमित पानी का छिड़काव कराने को कहा है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (यूपीपीसीबी) ने वायु प्रदूषण फैलाने में पूर्वोत्तर रेलवे के डीआरएम सहित 4 पर करीब 12 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। डीआरएम पर 3.98 लाख का जुर्माना गोमतीनगर स्टेशन पर प्रदूषण न रोक पाने के चलते लगाया गया है। वहीं गाजियाबाद में प्रशासन और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने प्रदूषण फैलाने में आठ लोगों को गिरफ्तार किया है। साथ ही दो कंपनियों पर कोयले का इस्तेमाल करने पर एक-एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है। लोनी में 16 के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। प्रदेश में बढ़ते वायु प्रदूषण के प्रभाव को कम करने के लिए मुख्य सचिव ने कूड़ा, पॉलिथीन व पराली जलाने की घटनाओं को पूरी तरह रोकने का निर्देश दिया है। निर्देशों का पालन नहीं करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने को कहा है। मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने रविवार को कहा कि पराली न जलाए जाने के संबंध में किसानों को जागरूक किया जाए। उन्हें पराली जलाने से होने वाले नुकसान की जानकारी दी जाए। पराली को खेत की मिट्टी में मिलाकर कंपोस्टिंग के लिए जरूरी व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराई जाएं। निर्माण स्थलों के आसपास धूल पर नियंत्रण के लिए नियमित पानी का छिड़काव कराने को कहा है।