यूपी बोर्ड परीक्षा: अलीगढ़ में पकड़ा गया मुन्ना भाई, जीतू के नाम पर नाजिम दे रहा था पेपर

up board exam
यूपी बोर्ड परीक्षा: अलीगढ़ में पकड़ा गया मुन्ना भाई, जीतू के नाम पर नाजिम दे रहा था पेपर

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की मंगलवार से शुरुआत हो चुकी है। वहीं पहले ही दिन नकल का सिलसिला शुरू हो गया। अलीगढ़ में जीतू के नाम पर हाईस्कूल के हिंदी का पेपर नाजिम दे रहा था। आपको बता दें कि यूपी बोर्ड प​रीक्षा पूरे एशिया की सबसे बड़ी परीक्षा मानी जाती है।

Up Board Exam Munna Bhai Caught In Aligarh Nazim Was Giving Paper In The Name Of Jeetu :

बताया गया कि अलीगढ़ स्थित अतरौली के एसजीएस इंटर कॉलेज के चकथाल परीक्षा केंद्र में जब परीक्षा के दौरान चेकिंग हुई तो जीतू शर्मा के स्थान पर कंकर खेड़ा मेरठ का रहने वाला नाज़िम परीक्षा दे रहा था। चेकिंग बल ने पकड़े गए परीक्षार्थी के विरुद्ध थाने में रिपोर्ट दर्ज करा दी है।

आपको बता दें कि इंटरमीडिएट और हाईस्कूल की परीक्षा एक साथ ही कराई जाती है। पहले दिन हाईस्कूल में पहली पाली में हिंदी की परीक्षा हुई, दूसरी पाली में प्रारम्भिक हिन्दी की परीक्षा आयोजित होगी। बता दें दो पालियों में आयोजित हो रही परीक्षा के लिए प्रदेश भर में 7784 परीक्षा केन्द्र बनाये गए हैं। पहले दिन हाईस्कूल में 7783 परीक्षा केन्द्रों पर तीस लाख चाल हजार 634 परीक्षार्थी परीक्षा में सम्मिलित हो रहे हैं। जबकि इंटरमीडिए की परीक्षा में 7725 परीक्षा केन्द्रों पर 25 लाख 18 हजार 770 परीक्षार्थी परीक्षा देंगे।

यूपी बोर्ड की सचिव नीना श्रीवास्तव के मुताबिक यूपी बोर्ड की परीक्षाओं में नकल रोकने के लिए बोर्ड ने इस बार और सख्त कदम उठायें हैं। प्रदेश में 938 संवेदनशील और 395 अतिसंवेदनशील परीक्षा केन्द्र बनाये गए हैं। यूपी बोर्ड ने जहां 2018 की परीक्षा में परीक्षा केन्द्रों पर सीसीटीवी कैमरे लगवाये थे। वहीं 2019 की बोर्ड परीक्षा में बोलकर नकल कराने की प्रवृत्ति पर रोक लगाने के लिए सीसीटीवी कैमरों में वॉयस रिकार्डर भी लगवाये गए थे। लेकिन यूपी बोर्ड परीक्षा में सख्ती बढ़ाते हुए अब परीक्षा केन्द्रों को ब्राडबैंड और राउटर से भी जोड़ दिया है। वहीं इस बार कुछ जिलों में सिलाई वाली कापियां भी भेजी गईं हैं, ताकि कापियों के पेज न बदले जा सकें। बता दें कि उच्च शिक्षा मंत्री दिनेश शर्मा ने भी पहले ही दिन लखनऊ के एक स्कूल जाकर परिक्षा केन्द्र का जायजा लिया है।

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की मंगलवार से शुरुआत हो चुकी है। वहीं पहले ही दिन नकल का सिलसिला शुरू हो गया। अलीगढ़ में जीतू के नाम पर हाईस्कूल के हिंदी का पेपर नाजिम दे रहा था। आपको बता दें कि यूपी बोर्ड प​रीक्षा पूरे एशिया की सबसे बड़ी परीक्षा मानी जाती है। बताया गया कि अलीगढ़ स्थित अतरौली के एसजीएस इंटर कॉलेज के चकथाल परीक्षा केंद्र में जब परीक्षा के दौरान चेकिंग हुई तो जीतू शर्मा के स्थान पर कंकर खेड़ा मेरठ का रहने वाला नाज़िम परीक्षा दे रहा था। चेकिंग बल ने पकड़े गए परीक्षार्थी के विरुद्ध थाने में रिपोर्ट दर्ज करा दी है। आपको बता दें कि इंटरमीडिएट और हाईस्कूल की परीक्षा एक साथ ही कराई जाती है। पहले दिन हाईस्कूल में पहली पाली में हिंदी की परीक्षा हुई, दूसरी पाली में प्रारम्भिक हिन्दी की परीक्षा आयोजित होगी। बता दें दो पालियों में आयोजित हो रही परीक्षा के लिए प्रदेश भर में 7784 परीक्षा केन्द्र बनाये गए हैं। पहले दिन हाईस्कूल में 7783 परीक्षा केन्द्रों पर तीस लाख चाल हजार 634 परीक्षार्थी परीक्षा में सम्मिलित हो रहे हैं। जबकि इंटरमीडिए की परीक्षा में 7725 परीक्षा केन्द्रों पर 25 लाख 18 हजार 770 परीक्षार्थी परीक्षा देंगे। यूपी बोर्ड की सचिव नीना श्रीवास्तव के मुताबिक यूपी बोर्ड की परीक्षाओं में नकल रोकने के लिए बोर्ड ने इस बार और सख्त कदम उठायें हैं। प्रदेश में 938 संवेदनशील और 395 अतिसंवेदनशील परीक्षा केन्द्र बनाये गए हैं। यूपी बोर्ड ने जहां 2018 की परीक्षा में परीक्षा केन्द्रों पर सीसीटीवी कैमरे लगवाये थे। वहीं 2019 की बोर्ड परीक्षा में बोलकर नकल कराने की प्रवृत्ति पर रोक लगाने के लिए सीसीटीवी कैमरों में वॉयस रिकार्डर भी लगवाये गए थे। लेकिन यूपी बोर्ड परीक्षा में सख्ती बढ़ाते हुए अब परीक्षा केन्द्रों को ब्राडबैंड और राउटर से भी जोड़ दिया है। वहीं इस बार कुछ जिलों में सिलाई वाली कापियां भी भेजी गईं हैं, ताकि कापियों के पेज न बदले जा सकें। बता दें कि उच्च शिक्षा मंत्री दिनेश शर्मा ने भी पहले ही दिन लखनऊ के एक स्कूल जाकर परिक्षा केन्द्र का जायजा लिया है।