यूपी बजट: सपा ने बताया जन विरोधी, कांग्रेस ने कहा दिशाहीन, बसपा बोली- छलावा

yogi sarkar par hamla
यूपी बजट: सपा ने बताया जन विरोधी, कांग्रेस ने कहा दिशाहीन, बसपा बोली छलावा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए मंगलवार को विधानसभा में अब तक का सबसे बड़ा बजट पेश किया है। जहां एक तरफ सरकार इस बजट को लेकर वाहवाही लूटने में लगी है वहीं दूसरी तरफ विपक्षी पार्टियों ने ​इस बजट पर कई सवाल खड़े कर दिये हैं। जहां सपा ने इस बजट को पूरी तरह से जन विरोधी करार दिया है वहीं कांग्रेस ने बजट को दिशाहीन कहा है जबकि बसपा ने इस बजट को यूपी की जनता के साथ छलाव बताया है।

Up Budget Sp Said Anti People Congress Said Directionless Bsp Said Cheating :

बसपा बोली जनता की आशाओं व अकांक्षाओं के साथ छलावा

मंगलवार को बसपा सुप्रीमो ने ट्वीट करके कहा यूपी सरकार का आज विधानसभा में पेश बजट जनता की आशाओं व आकांक्षाओं के साथ छलावा है। इस बजट से प्रदेश का विकास व यहाँ की 22 करोड़ जनता का हित/कल्याण संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि यही बुरा हाल इनके पिछले बजटों का भी रहा है, जो जनहित/जनकल्याण के मामलें में बीजेपी की कमजोर इच्छाशक्ति का परिणाम है। उन्होने कहा कि यूपी सरकार के आज के बजट में जो भी बड़े-बड़े दावे/वादे किए गए हैं वे पिछले अनुभवों के आधार पर काफी खोखले व कागजी ही ज्यादा लगते हैं। केन्द्र की तरह यूपी बीजेपी सरकार ऐसे दावे व वादे क्यों करती है जो लोगों को आम तौर पर जमीनी हकीकत से दूर तथा विश्वास से परे लगते हैं?

सपा ने कहा- पुराने बोतल में रखा नया पानी

योगी सरकार के चौथे बजट को सपा नेता रामगोविन्द चौधरी ने जन विरोधी बताते हुए कहा कि ये बजट गरीब, किसान, मजलूम, नौजवान और महिला विरोधी है। समाजवादी पार्टी ने इस बजट को जन विरोधी करार देते हुए कहा है कि इसमें नया कुछ भी नहीं है। यह बजट सिर्फ अनुमान पर आधारित है। उन्होने कहा कि बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने शेरो शायरी कही। इनका बजट पुराने बोतल में नया पानी रखा है। केवल अनुमान पर आधारित बजट है। ये बजट दिशाहीन है। जितने गोवंश स्लाटर हाउस में नही कटे, उससे ज्यादा इस सरकार में गाय की मौत हुई।

कांग्रेस ने बताया दिशाहीन, सिर्फ हैं किताबी दावे

विधान परिषद में कांग्रेस नेता दीपक सिंह ने कहा, ” इस बजट में सिर्फ अभिभाषण के सिवा कुछ नही है, इस बजट में सिर्फ एक ही बात है। इसमें किए गए दावे सिर्फ किताबी हैं। इसमें सिर्फ आयोजन की बात कही गई है। आईपीसी की धाराओं का जिक्र बजट में किया गया है। रोजगार के नाम पर सरकार ने कुछ नही दिया। सिर्फ योजनाओ के नाम बदलकर अपनी पीठ थपथपाई है। वहीं उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू कहा ने कहा कि युवाओं और किसानों को इस बजट से घोर निराशा के साथ धोखा हुआ है। रिटायर्ड शिक्षकों को माध्यमिक शिक्षा बोर्ड में नौकरी देने की घोषणा बेरोजगार युवाओं के साथ विश्वासघात है। वहीं कौशल विकास योजना भी छलावा साबित हुई।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए मंगलवार को विधानसभा में अब तक का सबसे बड़ा बजट पेश किया है। जहां एक तरफ सरकार इस बजट को लेकर वाहवाही लूटने में लगी है वहीं दूसरी तरफ विपक्षी पार्टियों ने ​इस बजट पर कई सवाल खड़े कर दिये हैं। जहां सपा ने इस बजट को पूरी तरह से जन विरोधी करार दिया है वहीं कांग्रेस ने बजट को दिशाहीन कहा है जबकि बसपा ने इस बजट को यूपी की जनता के साथ छलाव बताया है। बसपा बोली जनता की आशाओं व अकांक्षाओं के साथ छलावा मंगलवार को बसपा सुप्रीमो ने ट्वीट करके कहा यूपी सरकार का आज विधानसभा में पेश बजट जनता की आशाओं व आकांक्षाओं के साथ छलावा है। इस बजट से प्रदेश का विकास व यहाँ की 22 करोड़ जनता का हित/कल्याण संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि यही बुरा हाल इनके पिछले बजटों का भी रहा है, जो जनहित/जनकल्याण के मामलें में बीजेपी की कमजोर इच्छाशक्ति का परिणाम है। उन्होने कहा कि यूपी सरकार के आज के बजट में जो भी बड़े-बड़े दावे/वादे किए गए हैं वे पिछले अनुभवों के आधार पर काफी खोखले व कागजी ही ज्यादा लगते हैं। केन्द्र की तरह यूपी बीजेपी सरकार ऐसे दावे व वादे क्यों करती है जो लोगों को आम तौर पर जमीनी हकीकत से दूर तथा विश्वास से परे लगते हैं? सपा ने कहा- पुराने बोतल में रखा नया पानी योगी सरकार के चौथे बजट को सपा नेता रामगोविन्द चौधरी ने जन विरोधी बताते हुए कहा कि ये बजट गरीब, किसान, मजलूम, नौजवान और महिला विरोधी है। समाजवादी पार्टी ने इस बजट को जन विरोधी करार देते हुए कहा है कि इसमें नया कुछ भी नहीं है। यह बजट सिर्फ अनुमान पर आधारित है। उन्होने कहा कि बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने शेरो शायरी कही। इनका बजट पुराने बोतल में नया पानी रखा है। केवल अनुमान पर आधारित बजट है। ये बजट दिशाहीन है। जितने गोवंश स्लाटर हाउस में नही कटे, उससे ज्यादा इस सरकार में गाय की मौत हुई। कांग्रेस ने बताया दिशाहीन, सिर्फ हैं किताबी दावे विधान परिषद में कांग्रेस नेता दीपक सिंह ने कहा, " इस बजट में सिर्फ अभिभाषण के सिवा कुछ नही है, इस बजट में सिर्फ एक ही बात है। इसमें किए गए दावे सिर्फ किताबी हैं। इसमें सिर्फ आयोजन की बात कही गई है। आईपीसी की धाराओं का जिक्र बजट में किया गया है। रोजगार के नाम पर सरकार ने कुछ नही दिया। सिर्फ योजनाओ के नाम बदलकर अपनी पीठ थपथपाई है। वहीं उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू कहा ने कहा कि युवाओं और किसानों को इस बजट से घोर निराशा के साथ धोखा हुआ है। रिटायर्ड शिक्षकों को माध्यमिक शिक्षा बोर्ड में नौकरी देने की घोषणा बेरोजगार युवाओं के साथ विश्वासघात है। वहीं कौशल विकास योजना भी छलावा साबित हुई।