1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के गोरखपुर दौरे की तैयारियों को लेकर मुख्य सचिव ने दिया ये बड़ा निर्देश

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के गोरखपुर दौरे की तैयारियों को लेकर मुख्य सचिव ने दिया ये बड़ा निर्देश

देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ram Nath Kovind) आगामी 28 अगस्त को पिपरी भटहट में आयुष विश्वविद्यालय के शिलान्यास व सोनबरसा बाजार में श्री गुरु गोरक्षनाथ आयुर्वेद विश्वविद्यालय का उद्घाटन करेंगे। इस दौरान किसी भी प्रकार की सुरक्षा व अन्य व्यवस्थाओं में किसी प्रकार की कमी न रह जाए। लखनऊ से लगाए गोरखपुर (Gorakhpur) तक के आला अधिकारी दिन-रात एक कर राष्ट्रपति के कार्यक्रमों की तैयारियों में लगे हुए हैं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

गोरखपुर। देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ram Nath Kovind) आगामी 28 अगस्त को पिपरी भटहट में आयुष विश्वविद्यालय के शिलान्यास व सोनबरसा बाजार में श्री गुरु गोरक्षनाथ आयुर्वेद विश्वविद्यालय का उद्घाटन करेंगे। इस दौरान किसी भी प्रकार की सुरक्षा व अन्य व्यवस्थाओं में किसी प्रकार की कमी न रह जाए। लखनऊ से लगाए गोरखपुर (Gorakhpur) तक के आला अधिकारी दिन-रात एक कर राष्ट्रपति के कार्यक्रमों की तैयारियों में लगे हुए हैं।

पढ़ें :- अधिकारी अपने-अपने कार्यालयों में बैठकर सुने फरियादियों की फरियाद, जिलाधाकारी ने दिए निर्देश

मंगलवार को लखनऊ से मुख्य सचिव आर के तिवारी (UP Chief Secretary RK Tiwari) व अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी (Additional Chief Secretary Home Avnish Awasthi ) लखनऊ से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर गोरखपुर एनआईसी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग हाल में एडीजी जोन अखिल कुमार, सीडीओ इंद्रजीत सिंह, अपर आयुक्त अजय कांत सैनी, पुलिस अधीक्षक अपराध डॉ महेंद्र पाल सिंह सीएमओ डॉ सुधाकर पांडेय आरटीओ अनिता सिंह आदि मौजूद थे। इन अधिकारियों को राष्ट्रपति व राज्यपाल के 28 अगस्त को गोरखपुर में शिलान्यास व लोकार्पण कार्यक्रम को सकुशल व्यवस्थित बनाने के लिए संबंधित अधिकारी लग जाए। जो भी कमियां दिखाई दे रही हैं उसे दुरुस्त कर लिया जाए। जैसे निमंत्रण पत्र व शिलान्यास और लोकार्पण शिलापट्ट पर सही तरीके से हिंदी और इंग्लिश में सही स्थानों पर नाम अंकित होना चाहिए। कहीं किसी प्रकार की त्रुटि नहीं होना चाहिए। इसका संबंधित अधिकारीगण पूरा ख्याल रखते हुए निमंत्रण पत्र व शिलापट्ट तैयार कराएं। इसके साथ में ही सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद रहना चाहिए।

राष्ट्रपति के आगमन और प्रस्थान के दौरान ट्रैफिक व्यवस्था सुचारू रूप से संचालित करने के लिए कुछ क्षणों के लिए ही यातायात संचालन बाधित किया जाए। जिससे आम जनमानस को किसी भी प्रकार का आवागमन में व्यवधान ना हो सके। इसका संबंधित अधिकारीगण पूर्ण रुप से पालन करेंगे । राष्ट्रपति का कार्यक्रम पूर्व निर्धारित समय के अनुरूप निर्धारित है उसका ध्यान रखते हुए समय के 5 मिनट पहले व 5 मिनट बाद तक ही आम जनमानस को ध्यान में रखते हुए यातायात संचालन को प्रभावित किया जाए। सुरक्षा का पूरा ख्याल रखा जाए यातायात प्रभावित के दौरान किसी भी हालत में किसी भी व्यक्ति को आने-जाने की इजाजत नहीं दी जाएगी। इसका संबंधित अधिकारी पूर्ण रुप से पालन करायेंगे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...