1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. UP Elections 2022 : कांग्रेस व सपा को लगा बड़ा झटका, राकेश सचान और शिवकांत ओझा ने थामा बीजेपी का झंडा

UP Elections 2022 : कांग्रेस व सपा को लगा बड़ा झटका, राकेश सचान और शिवकांत ओझा ने थामा बीजेपी का झंडा

यूपी विधानसभा चुनाव (UP Assembly Elections) से पहले राजनीतिक पार्टियों के बीच दल-बदल की राजनीति थमने का नाम नहीं ले रही है। दलबदलुओं ने यूपी चुनाव (UP elections) को और भी दिलचस्प बना दिया है। विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) से पहले कांग्रेस पार्टी को गुरुवार को बड़ा झटका लगा है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। यूपी विधानसभा चुनाव (UP Assembly Elections) से पहले राजनीतिक पार्टियों के बीच दल-बदल की राजनीति थमने का नाम नहीं ले रही है। दलबदलुओं ने यूपी चुनाव (UP elections) को और भी दिलचस्प बना दिया है। विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) से पहले कांग्रेस पार्टी को गुरुवार को बड़ा झटका लगा है।

पढ़ें :- Lucknow : शिवपाल यादव पांच मई को भतीजे अखिलेश के खिलाफ करेंगे नई जंग का ऐलान

यूपी कांग्रेस कमेटी के महासचिव और फतेहपुर के पूर्व सांसद राकेश सचान कांग्रेस छोड़कर बीजेपी ज्वॉइन कर ली है। पूर्व सांसद 2019 के लोकसभा चुनाव में सपा छोड़ कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की थी। कांग्रेस की टिकट पर फतेहपुर से लोकसभा चुनाव लड़े थे, लेकिन उन्हें बीजेपी की साध्वी निरंजन ज्योति के सामने हार का सामना करना पड़ा था।

पढ़ें :- अखिलेश का कुंडा में कुंडी लगाने दांव पड़ा उलटा, यूपी विधान परिषद चुनाव में राजा भैया ने दिया करारा जवाब

पूर्व सांसद का राजनीतिक कॅरियर

राकेश सचान 1993 और 2002 में घाटमपुर विधानसभा से विधायक रह चुके हैं। शिवपाल सिंह यादव (Shivpal singh Yadav) के कहने पर मुलायम सिंह ने राकेश सचान को 2009 में फतेहपुर लोकसभा सीट से कैंडिडेट बनाया था। राकेश सचान ने बसपा के महेंद्र प्रसाद निषाद को लगभग एक लाख वोटों से हराया था। इस जीत के बाद राकेश सचान मुलायम सिंह और शिवपाल सिंह के बेहद करीबी बन गए थे।

शिवकांत ओझा के भाजपा में शामिल होने से प्रतापगढ़ में सियासत हुई गर्म

समाजवादी पार्टी के दिगग्ज नेता व अखिलेश सरकार में पूर्व मंत्री शिवकांत ओझा ने नई दिल्ली में भाजपा मुख्यालय में पार्टी की प्राथमिक सदस्यता ग्रहण की है। शिवाकांत ओझा के भाजपा में शामिल होने से प्रतापगढ़ में सियासत गर्म हो गई हैं। सपा से टिकट कटने की वजह से शिवाकांत ओझा ने अखिलेश यादव के खिलाफ बगावत कर दी थी। इसके बाद वह भाजपा में शामिल होने के लिए दिल्ली में डेरा डाले हुए थे। शिवाकांत ओझा भाजपा में शामिल होने के बाद रानीगंज विधानसभा से टिकट के लिए दावेदारी कर सकते हैं। आरोप है कि सपा ने रानीगंज विधानसभा से शिवाकांत ओझा को दरकिनार कर आपराधिक छवि के माने जाने वाले विनोद दुबे को टिकट दिया है।

पढ़ें :- UP MLC Election Result 2022 : कमल की आंधी में मुख्य विपक्षी दल सपा का सूपड़ा साफ, तो जनसत्ता दल ने किया धमाका
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...