1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. UP Election 2022 : धर्म संसद के सवाल पर आग बबूला केशव, BBC का आरोप- जबरन डिलीट कराया वीडियो फुटेज

UP Election 2022 : धर्म संसद के सवाल पर आग बबूला केशव, BBC का आरोप- जबरन डिलीट कराया वीडियो फुटेज

यूपी के उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य (keshav prasad maurya) मंगलवार को एक सवाल के जवाब में अपना आपा खो बैठे। बीबीसी के रिपोर्ट ने जब उनसे धर्म संसद से जुड़ा सवाल पूछा गया तो वह भड़क गए। इंटरव्यू को बीच में छोड़ते हुए मौर्य ने कहा कि धर्म संसद चुनाव से जुड़ा मुद्दा नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि धर्माचार्यों को अपने मंच से अपनी बात कहने का अधिकार है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। यूपी के उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य (keshav prasad maurya) मंगलवार को एक सवाल के जवाब में अपना आपा खो बैठे। बीबीसी के रिपोर्ट ने जब उनसे धर्म संसद से जुड़ा सवाल पूछा गया तो वह भड़क गए। इंटरव्यू को बीच में छोड़ते हुए मौर्य ने कहा कि धर्म संसद चुनाव से जुड़ा मुद्दा नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि धर्माचार्यों को अपने मंच से अपनी बात कहने का अधिकार है।

पढ़ें :- UP Global Investors Summit-2023 : प्रो. निशी पाण्डेय बोलीं- यूपी एक ट्रिलियन अर्थव्यवस्था का लक्ष्य हासिल करने में तेजी से है अग्रसर

बता दें कि बीबीसी हिंदी के इंटरव्यू में यूपी के उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य से हरिद्वार और रायपुर में हुई धर्म संसदों पर सवाल पूछा गया था। यह सवाल उन्हें इतना नागवार गुजरा कि इंटरव्यू के आखिर में उन्होंने माइक भी उतार फेंक दिया। बीबीसी का आरोप है कि मौर्य ने अपने सुरक्षाकर्मी को बुलाकर इंटरव्यू की फुटेज भी डिलीट करा दी थी,हालांकि बाद में किसी तरह रिकवर कर लिया गया है। बता दें कि दोनों धर्म संसद चर्चा में आई थीं क्योंकि एक में मुस्लिमों तो दूसरी में महात्मा गांधी के लिए भड़काऊ बयानबाजी और अपशब्दों का इस्तेमाल हुआ था।

पढ़ें :- Adani Row : राहुल गांधी बोले- अडानी मुद्दे पर चर्चा से डरी हुई है सरकार, इनके पीछे कौन सी शक्ति यह भी देश को पता चले

मौर्य ने पहले कहा कि बीजेपी को किसी तरह का प्रमाण पत्र देने की जरूरत नहीं है। वह सबका साथ, सबका विकास की बात करती है। धर्म संसदों से जुड़े सवाल पर मौर्य ने कहा कि धर्माचार्यों को अपने मंच से अपनी बात कहने का अधिकार है। वह बोले कि आप सिर्फ हिंदू धर्म आचार्यों की ही बात क्यों करते हैं? बाकी धर्माचार्यों (दूसरे धर्म के) द्वारा क्या-क्या बयान दिए गए हैं, उनकी बात क्यों नहीं करते हो?

केशव ने कहा कि जम्मू कश्मीर से 370 हटने से पहले कितने लोगों को वहां से पलायन हुआ उसकी बात क्यों नहीं होती? उन्होंने कहा कि धर्म संसद भारतीय जनता पार्टी की नहीं थी। संत अपनी बैठक में क्या बात करते हैं ये उनका विषय है? और जो उनके मंच से उचित बात होती है वही वे (संत) लोग कहते हैं। केशव ने कहा कि क्या धर्म संसद से जुड़े लोग यूपी चुनाव के लिए माहौल बनाने की कोशिश नहीं कर रहे? इस पर मौर्य ने कहा कि ऐसा कोई माहौल बनाने की कोशिश नहीं हो रही। मौर्य ने कहा कि धर्म संसद में किसी के नरसंहार की बात नहीं हुई। यह मुद्दा चुनाव से जुड़ा नहीं है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...