1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. UP Election 2022: प्रथम चरण के मतदाओं से PM मोदी ने मांगी माफी, जानिए कारण?

UP Election 2022: प्रथम चरण के मतदाओं से PM मोदी ने मांगी माफी, जानिए कारण?

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) फिजिकल रैली के लिए सहारनपुर पहुंचे। इस दौरान उन्होंने मतदाताओं को संबोधित करते हुए विपक्ष पर जमकर हमला बोला। पीएम मोदी ने कहा कि, जो हमारी बहन-बेटियों को भय मुक्त रखेगा, हम उसे ही वोट देंगे।

By शिव मौर्या 
Updated Date

UP Election 2022: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) फिजिकल रैली के लिए सहारनपुर पहुंचे। इस दौरान उन्होंने मतदाताओं को संबोधित करते हुए विपक्ष पर जमकर हमला बोला। पीएम मोदी ने कहा कि, जो हमारी बहन-बेटियों को भय मुक्त रखेगा, हम उसे ही वोट देंगे। जो अपराधियों को जेल भेजेगा, हम उसे ही वोट देंगे। पीएम ने कहा कि, भाजपा ने यूपी चुनावों के लिए अपना जो घोषणा पत्र जारी किया है, ये घोषणा पत्र लोक कल्याण का संकल्प पत्र है।

पढ़ें :- राहुल का मोदी से बड़ा सवाल, कहा- क्या ‘नए भारत’ में सिर्फ़ ‘मित्रों’ की सुनवाई होगी, देश के वीरों की नहीं?

डबल इंजन की सरकार जो काम कर रही है, उसके लिए यूपी में भाजपा सरकार (BJP government) बहुत जरूरी है। साथ ही कहा कि, गरीबों को पीएम आवास योजना के घर मिलते रहें, इसके लिए यूपी में भाजपा सरकार बहुत जरूरी है। गरीबों को अच्छे अस्पतालों में पांच लाख रुपये तक के इलाज की मुफ्त सुविधा मिलती रहे, इसके लिए यूपी में भाजपा सरकार बहुत जरूरी है।

पीएम ने कहा कि, गरीबों को कोरोना की वैक्सीन मुफ्त लगने में दिक्कत ना हो, इसके लिए यूपी में भाजपा सरकार जरूरी है। क्योंकि ये घोर परिवारवादी लोग सरकार में होते तो वैक्सीन रास्ते में ही कहीं बिक जाती। मैं आज यहां से प्रथम चरण का मतदान जो चल रहा है, वहां के मतदाताओं से भी क्षमा चाहता हूं। मेरा ये फर्ज बनता था कि चुनाव घोषित होने के बाद उनके बीच जाऊं। लेकिन मैं जा नहीं पाया था, चुनाव आयोग ने कुछ मर्यादाएं रखी थी।

इसके साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि, गन्ना किसानों को जितना पैसा, पहले की सरकारों को 10 साल में मिला था उससे ज्यादा राशि योगी जी की सरकार ने उन्हें दी है। हम गन्ना किसानों को एक और परेशानी से मुक्ति दिलाने का स्थायी उपाय भी कर रहे हैं। हमारे गन्ना किसानों के सामने एक ऐसी समस्या होती है कि चीनी की कीमतें कम हो, या फिर चीनी मिलें बन्द हो तो गन्ना किसान परेशान हो जाता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...