पूर्व बीजेपी विधायक के बेटे की हत्या करने वाले सभी गिरफ्तार, सीसीटीवी से हुईं पहचान

लखनऊ। शनिवार रात पूर्व बीजेपी विधायक जिप्पी तिवारी के बेटे वैभव तिवारी (36) की हजरतगंज चौराहे के नजदीक स्थित कसमंडा हाउस परिसर में गोली मारकर हत्या कर दी गयी। जानकारी के मुताबिक वैभव तिवारी की हत्या में शामिल सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस के मुताबिक वैभव की हत्या की साजिश उनके दोस्त सूरज ने रची थी और वारदात को अंजाम हिस्ट्रीशीटर विक्रम सिंह ने दिया था।

Up Former Bjp Mla Son Vaibhav Tiwari Shot Dead Near At Lucknow All Accused Arrested :

सिद्धार्थनगर के डुमरियागंज विधान सभा से भाजपा से विधायक रहे प्रेम प्रकाश उर्फ जिप्पी तिवारी के ग्राम प्रधान बेटे वैभव तिवारी (30) की कल रात हजरतगंज में गोली मारकर हत्या कर दी गई। वैभव को उसके एक दोस्त ने फोन कर बुलाया था। एसएसपी दीपक कुमार के मुताबिक कसमंडा हाउस के गेट के बाहर ही परिचित ने हजरतगंज के हिस्ट्रीशीटर संग मिलकर वैभव के सीने में गोली मार दी।

इससे पहले अपर पुलिस महानिदेशक लखनऊ जोन अभय प्रसाद ने बताया कि प्रारंभिक जांच में यह पता लगा है कि वैभव को कुछ लोगों ने कसमंडा हाउस स्थित उनके आवास से नीचे बुलाया और उनके बीच बातचीत के दौरान विवाद हो गया और उन्हें गोली मार दी गयी, जिससे उनकी मौत हो गयी। मालूम हो कि यह घटना जिस जगह हुई वह विधान भवन से तकरीबन 300 मीटर की दूरी पर ही स्थित है और इस समय विधानमंडल का शीतकालीन सत्र चल रहा है। पूरा इलाका चूंकि सीसीटीवी से लैस था, इसलिए वारदात को अंजाम देने वाले अपराधियों की पहचान में खास दिक्कत नहीं हुई।

भाजपा के विधायक रहे जिप्पी तिवारी ने विक्रम सिंह व सुरज शुक्ला पर हत्या का आरोप लगाया था। यह दोनों उनके पुत्र वैभव के पुराने परिचित हैं। पूर्व विधायक के पुत्र की हत्या के मामले में एसएसपी लखनऊ ने चार टीमें गठित कर हत्यारों की गिरफ्तारी शुरू की थी। हालांकि गिरफ्तारी कहां से हुई है इस बात का अभी खुलासा नहीं हो पाया है।

लखनऊ। शनिवार रात पूर्व बीजेपी विधायक जिप्पी तिवारी के बेटे वैभव तिवारी (36) की हजरतगंज चौराहे के नजदीक स्थित कसमंडा हाउस परिसर में गोली मारकर हत्या कर दी गयी। जानकारी के मुताबिक वैभव तिवारी की हत्या में शामिल सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस के मुताबिक वैभव की हत्या की साजिश उनके दोस्त सूरज ने रची थी और वारदात को अंजाम हिस्ट्रीशीटर विक्रम सिंह ने दिया था। सिद्धार्थनगर के डुमरियागंज विधान सभा से भाजपा से विधायक रहे प्रेम प्रकाश उर्फ जिप्पी तिवारी के ग्राम प्रधान बेटे वैभव तिवारी (30) की कल रात हजरतगंज में गोली मारकर हत्या कर दी गई। वैभव को उसके एक दोस्त ने फोन कर बुलाया था। एसएसपी दीपक कुमार के मुताबिक कसमंडा हाउस के गेट के बाहर ही परिचित ने हजरतगंज के हिस्ट्रीशीटर संग मिलकर वैभव के सीने में गोली मार दी। इससे पहले अपर पुलिस महानिदेशक लखनऊ जोन अभय प्रसाद ने बताया कि प्रारंभिक जांच में यह पता लगा है कि वैभव को कुछ लोगों ने कसमंडा हाउस स्थित उनके आवास से नीचे बुलाया और उनके बीच बातचीत के दौरान विवाद हो गया और उन्हें गोली मार दी गयी, जिससे उनकी मौत हो गयी। मालूम हो कि यह घटना जिस जगह हुई वह विधान भवन से तकरीबन 300 मीटर की दूरी पर ही स्थित है और इस समय विधानमंडल का शीतकालीन सत्र चल रहा है। पूरा इलाका चूंकि सीसीटीवी से लैस था, इसलिए वारदात को अंजाम देने वाले अपराधियों की पहचान में खास दिक्कत नहीं हुई। भाजपा के विधायक रहे जिप्पी तिवारी ने विक्रम सिंह व सुरज शुक्ला पर हत्या का आरोप लगाया था। यह दोनों उनके पुत्र वैभव के पुराने परिचित हैं। पूर्व विधायक के पुत्र की हत्या के मामले में एसएसपी लखनऊ ने चार टीमें गठित कर हत्यारों की गिरफ्तारी शुरू की थी। हालांकि गिरफ्तारी कहां से हुई है इस बात का अभी खुलासा नहीं हो पाया है।