यूपी को मिला सबसे बड़ा क्वाटैर्निरी केयर हास्पिटल, अपोलो-मेडिक्स सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल ने मिलाया हाथ

apollo-hospital
यूपी को मिला सबसे बड़ा क्वाटैर्निरी केयर हास्पिटल, अपोलो-मेडिक्स सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल ने मिलाया हाथ

लखनऊ। अपोलो हॉस्पिटल और मेडिक्स सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल एक-दूसरे से हाथ मिलाकर अपोलोमेडिक्स जोकि 330 बेड के क्वाटरनेरी केयर अस्पताल के रूप में साथ आ रहे हैं। जिससे उत्तर प्रदेश के हेल्थ केयर इंफ्रास्टकचर में एक नया कीर्तिमान आज स्थापित हो रहा है। अपोलोमेडिक्स सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल वर्तमान वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में चालू होने की उम्मीद है। ये एकीकृत और विस्तृत स्वास्थ्य सुविधाआें जैसे सुरक्षात्मक से उपचारात्मक से सतत होम केयर को एक साथ प्रदान करेगा। अपोलोमेडिक्स मेडिकल क्षेत्र में समाज के सभी सामाजिक-आर्थिक स्तरों के लिये विश्व स्तरीय स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करेगा। अस्पताल का डिज़ाइन उपचार पद्वतियों व कार्य प्रणाली को अंतर्राष्ट्रीय उपचार पद्वतियों व मरीज को सर्वश्रेष्ठ केयर अनुभव प्रदान करने के हिसाब से किया गया है।

अपोलोमेडिक्स के चिकित्सकों के पास उत्कृष्ट क्लीनिकल अनुभव है और वो अपने क्षेत्र में अग्रणी हैं। मेडिक्स के संस्थापक व प्रवर्तक डॉ सुशील गट्टानी हैं जो उत्तर प्रदेश के अग्रणी कार्डियोलॉजिस्ट में से एक हैं। जिन्हें अन्य प्रमुख डॉक्टर जैसे डॉ मयंक सोमानी जोकि सीनियर फीज़ियशन और क्रिटिकल केयर मेडिसिन विशेषज्ञ हैं, डॉ कविता सोमानी जो एक अग्रणी हिस्टोपैथोलॉजिस्ट हैं और जे पी धूत का सहयोग प्राप्त है। अपोलोमेडिक्स न सिर्फ विश्व स्तरीय तकनीक, अग्रणी हेल्थकेयर विशेषज्ञों प्रदान करेगा साथ ही बेमिसाल उच्च स्तरीय मरीज केंद्रित अनुभव भी प्रदान करेगा।

{ यह भी पढ़ें:- विरोधी नेताओं के लिए भी सम्मान का भाव रखते थे अटल जी: अखिलेश यादव }

apollo-hospital
यूपी को मिला सबसे बड़ा क्वाटैर्निरी केयर हास्पिटल, अपोलो-मेडिक्स सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल ने मिलाया हाथ

अपोलो अस्पताल समूह के अध्यक्ष डॉ0 प्रताप रेड्डी ने कहा, “उत्तर प्रदेश भारत का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। मेडिक्स लाइफ साइंसेज के साथ साझेदारी वास्तव में हमारे लिए बहुत ही खास है क्योंकि हम अपनी पहुंच को इस क्षेत्र में भी बढ़ा रहे हैं। मैं अपने को गौरवशाली मानता हूं कि डॉ सुशील गट्टानी जैसे प्रतिष्ठित चिकित्सा विशेषज्ञ के साथ जुड़ने का एक सुनहरा अवसर प्राप्त हुआ है। साथ ही डॉ0 मयंक सोमानी, डॉ0 कविता सोमानी और उनकी टीम पर मुझे पूरा भरोसा है कि अपोलो अस्पताल उनके अनुभवों से काफी लाभ प्राप्त करेगा और हमारे सिद्ध वैश्विक प्रथा स्वास्थ्य देखभाल में बढ़ते नवाचारों को बढ़ाएंगे। मैं टीम की सफलता की कामना करता हूं।”

मेडिक्स सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल के संस्थापक और को-चेयरमैन डॉ0 सुशील गट्टानी ने कहा,”ये एसोसिएशन उत्तर प्रदेश के हेल्थकेयर इकोसिस्टम में एक महत्वपूर्ण कदम है। संस्थान का उद्देश्य लोगों के लिए ऐसे विश्व स्तरीय उपचार देना है जो अब तक सिर्फ देश के मेट्रोपालिटन शहरों में उपलब्ध हैं। साथ ही मध्य पूर्व और दक्षिण एशिया से सीधी फ्लाइट की सुविधा होने के कारण लखनऊ में एक लागत प्रभावी चिकित्सा के ट्रैवल डेस्टिनेशन मूल्य यात्रा गंतव्य के रूप में विकसित होने की क्षमता है।”

संगीता रेड्डी, संयुक्त प्रबंध निदेशक अपोलो अस्पताल समूह ने कहा, “उत्तर प्रदेश के लोगों को उच्च गुणवत्ता की स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने के लिए उत्तर प्रदेश में मेडिक्स लाइफ साइंसेज के साथ भागीदार के रूप में काम करना हमें लिये खुशी की बात है। भारत के सबसे प्रमुख एकीकृत स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के रूप में, हम इस क्षेत्र में हमारी वैश्विक उपचार पद्धतियों, भविष्य प्रौद्योगिकियों और समग्र रोगी देखभाल लाने के लिए तत्पर हैं। हमें विश्वास है कि यह साझेदारी राज्य में स्वास्थ्य सेवाओं की गुणवत्ता में काफी वृद्धि करेगी और उत्ष्टता के नए मानक स्थापित करेगी।”

{ यह भी पढ़ें:- देवरिया कांड: शासन ने एसपी-सीओ समेत चार पुलिसकर्मियों पर की कार्रवाई }

अस्पताल के बुनियादी ढांचे की बात करें तो, अपोलो मेडिक्स में 330 बेड का हॉस्पिटल है जिसमें 110 क्रिटिकल केयर यूनिट के लिये हैं। अस्पताल में विश्व स्तरीय उपकरणों में एकीकृत व भविष्य के लिये तैयार प्रौद्योगिकियों का एक संयोजन है जैसे एमआरआई, पेट -स्कैन, ट्रू-बीम लिनैक, 128 स्लाइस सीटी स्कैन, कार्डियाक और न्यूरो कैथ लैब कला प्रयोगशाला और आपातकालीन सुविधा उपलब्ध है। अस्पताल में रात में उपलब्ध विशेषज्ञ डॉक्टरों के साथ 24 घंटे सुपर स्पेशलिटी उपचार भी प्रदान करेगा। कार्डियक देखभाल, कैंसर देखभाल, आघात देखभाल, ऑर्थोपेडिक्स, गैस्ट्रोसाइंस, किडनी, अन्य सभी संबद्ध विशेषताओं और उप विशिष्टताओं के साथ महत्वपूर्ण देखभाल अपोलोमेडिक्स की विशेषता होगी।

अपोलो अस्पताल के बारे में –

1983 में डॉ0 प्रताप सी रेड्डी ने चेन्नई में अपोलो अस्पताल भारत का पहला कॉर्पोरेट अस्पताल प्रारंभ किया। पिछले कुछ वर्षों में अपोलो अस्पताल ने खुद को 160,000 से अधिक कार्डियक सर्जरी के साथ भारत में सबसे बड़े कार्डियक प्रैक्टिस के रूप में स्थापित किया है। अपोलो अस्पताल दुनिया का सबसे बड़ा निजी कैंसर केयर है और दुनिया में सबसे ज्यादा सॉलिड ऑर्गन प्रत्यारोपण कार्यक्रम चलाता है।

एशिया के सबसे बड़े और सबसे भरोसेमंद हेल्थकेयर समूह के रूप में, इसकी उपस्थिति में 64 अस्पतालों में 9,215 बेड, 2,500 फार्मेसी, 90 से अधिक प्राइमरी केयर और डायग्नोस्टिक क्लीनिक, 110 से अधिक टेलीमेडिसिन सेंटर और 80 से अधिक अपोलो म्यूनिख बीमा शाखाएं देश में फैली हैं।

एक एकीकृत हेल्थकेयर सेवा प्रदाता के रूप में, स्वास्थ्य बीमा सेवाओं, ग्लोबल प्रोजेक्ट कंसल्टेंसी क्षमता, 15 से अधिक चिकित्सा शिक्षा केंद्रों और ग्लोबल क्लीनिकल परीक्षण, महामारी अध्ययन, स्टेम सेल और जेनेटिक रिसर्च के साथ अपोलो अस्पताल एशिया, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और चेन्नई, भारत में पहले प्रोटॉन थेरेपी सेंटर को चालू करने के सबसे हालिया निवेश के साथ नई चिकित्सा उपलब्धियों में सबसे आगे रहा है। प्रत्येक चार दिनों में, अपोलो अस्पताल समूह प्रत्येक व्यक्ति को अंतर्राष्ट्रीय मानकों की स्वास्थ्य सुविधा देने के अपने मिशन में लाखों लोगों तक पहुँचता है।

{ यह भी पढ़ें:- मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेप कांड : पूर्व मंत्री मंजू वर्मा के घरों पर CBI का छापा }

भारत सरकार ने अपोलो के योगदान में एक स्मारक डाक टिकट जारी किया, जो स्वास्थ्य संगठन के लिए पहला था। अपोलो अस्पताल के चेयरमैन, डॉ प्रताप सी रेड्डी को 2010 में प्रतिष्ठित पद्म विभूषण सम्मान से सम्मानित किया गया था। 30 से अधिक वर्षों के लिए, अपोलो अस्पताल समूह ने विश्व स्तरीय अत्याधुनिक टेक्नोलॉजी की मदद से लगातार नयी खोज और बेहतरीन क्लीनिकल सुविधाएं देता रहा है। हमारे अस्पताल को चिकित्सा सेवाओं और शोध के लिए विश्व स्तर पर सर्वोत्तम अस्पतालों में लगातार स्थान दिया जाता है।

लखनऊ। अपोलो हॉस्पिटल और मेडिक्स सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल एक-दूसरे से हाथ मिलाकर अपोलोमेडिक्स जोकि 330 बेड के क्वाटरनेरी केयर अस्पताल के रूप में साथ आ रहे हैं। जिससे उत्तर प्रदेश के हेल्थ केयर इंफ्रास्टकचर में एक नया कीर्तिमान आज स्थापित हो रहा है। अपोलोमेडिक्स सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल वर्तमान वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में चालू होने की उम्मीद है। ये एकीकृत और विस्तृत स्वास्थ्य सुविधाआें जैसे सुरक्षात्मक से उपचारात्मक से सतत होम केयर को एक साथ प्रदान करेगा। अपोलोमेडिक्स मेडिकल…
Loading...