नसीमुद्दीन को बचा रही यूपी सरकार: दयाशंकर सिंह

लखनऊ| भाजपा के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह ने बसपा सुप्रीमो मायावती पर चौतरफा हमला बोला| सिंह ने कहा कि यूपी सरकार मुस्लिम वोटों की खातिर बसपा नेता व पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी को बचा रही है| स्थिति यह है कि अभी तक उनकी पत्नी द्वारा लिखाए गए मामले में नसीमुद्दीन सिद्दीकी और अन्य बसपा नेताओं को नोटिस ही तामील नहीं कराया गया है इसी हकीकत को लेकर वह जनता की अदालत में जा रहे हैं और उनका अभियान तब तक नहीं रुकेगा जब तक नसीमुद्दीन को गिरफ्तार नहीं किया जाता|




उन्होंने कहा कि जब मायावती स्टेट गेस्ट हाउस काण्ड में उनकी जान बचाने वाले पूर्व ऊर्जा मंत्री स्वर्गीय ब्रह्म दत्त द्विवेदी के एहसान को भूल सकती हैं तब वह किसकी हो सकती हैं| उन्होंने कहा कि जिस तरह संसद में नोट के बदले वोट देने वाले सांसदों पर कार्रवाई हो सकती है उसी तरह बसपा में टिकटें बेंचे जाने के आरोप की सीबीआई जाँच कराई जाए जिससे दूध का दूध और पानी का पानी हो सके| दयाशंकर सिंह की पत्नी स्वाति सिंह ने कहा कि इस लड़ाई को लड़ने के लिए वह किसी हद तक जायेंगी| वह जनता के बीच जा रहीं हैं और लोगों से बसपा के बहिष्कार की अपील कर रही हैं|

दया शंकर सिंह अपनी पत्नी स्वाती सिंह के साथ यहां विद्यार्थी परिषद् के प्रतिभा सम्मान समारोह में शिरकत करने आये थे लेकिन यहाँ कार्यक्रम समाप्त होने के बाद पहुँच पाए| वह भले ही भाजपा से निष्काषित हों पर सभी भाजपा नेता उनके साथ रहे और वाहनों का काफिला बनाकर उन्हें जिले में घुमाते रहे| एक होटल में पत्रकारों से बातचीत में दया शंकर सिंह ने कहा कि दोहरी बातें करती है मेरी तो गिरफ़्तारी करा दी लेकिन बसपा नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने गिरोह बनाकर जो कुछ किया उसमे वह बचे हुए हैं| दो महीने हो गए उन्हें अभी तक नोटिस ही तामील नहीं कराया जा सका है यही सच्चाई बताने हम जगह- जगह जा रहे हैं और मुझे विश्वास है कि सरकार को एक दिन झुकना पड़ेगा और नसीमुद्दीन सिद्दीकी को गिरफ्तार करना पड़ेगा|

दया शंकर सिंह ने कहा फर्रुखाबाद आकर स्टेट गेस्ट हॉउस काण्ड की याद दिलाई और बताया कि मायावती पूर्व मंत्री ब्रह्मदत्त द्विवेदी के एहसान को भूल गयीं जिन्होंने उनकी जान बचाई| मायावती ने भाजपा कार्यालय आकर कहा था कि वह ब्रहम दत्त द्विवेदी के एहसान को नहीं भूल सकतीं| लेकिन मायावती ने उन्ही ब्रह्मदत्त द्विवेदी के हत्यारे विजय सिंह को बसपा में शामिल कर लिया| पूर्व स्वास्थ्य मंत्री अंटू मिश्र को फर्रुखाबाद से चुनाव जिताने के लिए ब्रहम दत्त द्विवेदी के पुत्र मेजर सुनील दत्त द्विवेदी को सत्ता का दवाब डालकर बसपा में शामिल किया और अंटू के चुनाव जीतने के बाद मेजर को बाहर निकाल दिया| उन्होंने कहा कि अब तो इस बात के तमाम गवाह हैं कि किस तरह मायावती बसपा के टिकट बेंचती हैं| उन्होंने मांग की कि जिस तरह संसद में नोट के बदले वोट देने वाले सांसदों को चिन्हित कर कार्रवाई की गयी उसी तरह टिकट बेंचने के मामले की भी सीबीआई जांच कराकर हकीकत सामने लायी जाए|