यूपी में 40 लाख स्मार्ट बिजली मीटर लगाने का काम शुरू, विभाग का दावा सुधरेगी गुणवत्ता

Smart Meter
यूपी में 40 लाख स्मार्ट बिजली मीटर लगाने का काम शुरू, विभाग का दावा सुधरेगी गुणवत्ता

Up Government Starts Work Of Replacing 40 Electricity Meters With Smart Meters

लखनऊ । उत्तर प्रदेश में 40 लाख स्मार्ट मीटर लगाने का कार्य वाराणसी से शुरू हो गया है। विभाग का दावा है कि इन मीटरों के लगने से विद्युत आपूर्ति एवं वसूली के वर्तमान स्वरूप में क्रान्तिकारी बदलाव आयेगा। इससे उपभोक्ता के मीटर की रीडिंग, विद्युत ​​ब्रेकडाउन का समय/ अंतराल एवं वोल्टेज प्रोफाइल बिना मानवीय हस्तक्षेप के आॅनलाइन प्राप्त हो सकेगा। इससे उपभोक्ताओं को मीटर रीडर के हस्तक्षेप के बगैरे प्रत्येक माह सही मीटर रीडिंग का बिल प्राप्त हो सकेगा। उपभोक्ता द्वारा खपत का सही आंकलन करते हएु, विद्युत ऊर्जा संरक्षण (बचत) द्वारा अपने विद्युत व्यय को कम किया जा सकेगा। डिस्काॅम द्वारा उपभोक्ता को प्राप्त हो रही विद्युत आपूर्ति के अंतराल, ट्रिपिंग एवं वोल्टेज के अनुश्रवण से इसकी गुणवत्ता में सुधार किया जा सकेगा।

उ0प्र0 पावर कारपोरेशन की 40 लाख स्मार्ट मीटरिंग परियोजना के अंतर्गत प्रदेश के समस्त डिस्काम द्वारा उ0प्र0 नियामक आयोग में प्रदेश के स्मार्ट मीटरिंग प्रोजेक्ट का रोलआउट प्लान प्रस्तुत किया गया। वर्तमान में मेसर्स जीनस मेक के मीटर जिनकी गुणवत्ता की जांच (टाइप टेस्ट) मेसर्स इरेडा, बड़ोदरा (एनएबीएल प्रमाणित लैब) द्वारा आईएस 16444 के अंतर्गत की गयी है। सभी मीटरों को बीआईएस द्वारा जाॅच के उपरान्त प्रमाणपत्र दिया जा चुका है। आईएस के मानक के अनुरूप मीटरों की प्रत्येक लाॅट का ईईएसएल एवं डिस्काम की संयुक्त टीम द्वारा थर्ड पार्टी के साथ सैम्पल टेस्टिंग निर्माता के स्थल पर भी की जा रही है।

इस योजना के अंतर्गत पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लि0 के अंतर्गत 10 शहरों मे वाराणसी (जिला), गोरखपुर, इलाहाबाद, मऊनाथ भंजन, फतेहपुर, आजमगढ़, मिर्जापुर, मुगलसराय एवं जौनपुर में 11.47 लाख स्मार्ट मीटर, मध्यांचल विद्युत वितरण निगम लि0 के तहत 12 शहरों मे लखनऊ, बरेली, फैजाबाद, शाॅहजहांपुर, बाराबंकी, रायबरेली, लखीमपुर, बहराईच, गोण्डा, सुल्तानपुर, हरदोई, एवं उन्नाव में 9.04 लाख स्मार्ट मीटर, दक्षिणांचल विद्युत वितरण निगम लि0 के 09 शहरों मे मथुरा, अलीगढ, झांसी, मैनपुरी, फिरोजाबाद, वृन्दावन, इटावा, फर्रूखाबाद, एवं उरई में 6.29 लाख स्मार्ट मीटर, पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लि0 के अन्र्तगत 15 शहरों मे मेरठ, सहारनपुर, मुरादाबाद, हापुड़, लोनी, बुलन्दशहर, सिकन्दराबाद, रामपुर, मुज्जफरनगर, मोदीनगर, मुरादनगर, खुर्जा, अमरोहा, सम्भल एवं गजरौला में 11.63 लाख स्मार्ट मीटर तथा केस्को कानपुर में 1.57 लाख स्मार्ट मीटर की स्थापना का कार्य पूर्ण किया जाना है। यह कार्य वर्तमान वित्तीय वर्ष में जुलाई 2018 से प्रारम्भ होकर मार्च 2021 तक पूर्ण किया जाएगा।

यह जानकारी देते हुये प्रमुख सचिव ऊर्जा एवं उ0प्र0 पावर कारपोरेशन के अध्यक्ष श्री आलोक कुमार ने बताया कि यह परियोजना भारत सरकार की संस्था मेसर्स ईईएसएल के माध्यम से क्रियांवित की जा रही है। उपरोक्त परियोजना का डिस्काॅम द्वारा भुगतान ओपेक्स आधारित है ईईएसएल द्वारा किये गये व्यय को डिस्काॅम द्वारा पूर्ण पारदर्शिता के साथ काॅस्ट प्लस के आधार पर वास्तविक आंकलित व्यय को ओपेक्स में परिवर्तित करते हुए, मासिक स्मार्ट मीटर के परिचालन के आधार पर दिया जाएगा, जिसका वर्तमान अनुमानित व्यय रू0 86 प्लस जीएसटी प्रतिमीटर देय है।

पावर कारपोरेशन की स्मार्ट मीटरिंग परियोजना से लाइन लॉस कम होने से लगभग 4 हजार करोड़ का लाभ होगा। इस योजना का शुभारम्भ वाराणसी जनपद के गंगापुर टाउन (आईपीडीएस) से किया जा चुका है। गंगापुर टाउन में लगभग 1500 उपभोक्ताओं में से लगभग 450 उपभोक्ताओं के यहां स्मार्ट मीटर की स्थापना की जा चुकी है।

लखनऊ । उत्तर प्रदेश में 40 लाख स्मार्ट मीटर लगाने का कार्य वाराणसी से शुरू हो गया है। विभाग का दावा है कि इन मीटरों के लगने से विद्युत आपूर्ति एवं वसूली के वर्तमान स्वरूप में क्रान्तिकारी बदलाव आयेगा। इससे उपभोक्ता के मीटर की रीडिंग, विद्युत ​​ब्रेकडाउन का समय/ अंतराल एवं वोल्टेज प्रोफाइल बिना मानवीय हस्तक्षेप के आॅनलाइन प्राप्त हो सकेगा। इससे उपभोक्ताओं को मीटर रीडर के हस्तक्षेप के बगैरे प्रत्येक माह सही मीटर रीडिंग का बिल प्राप्त हो सकेगा।…