एमडी यूपी जल निगम के हाथों फिर ठगे गए मुख्य सचिव राजीव कुमार ..?

एमडी यूपी जल निगम के हाथों फिर ठगे गए मुख्य सचिव राजीव कुमार ..?

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार के मुख्य सचिव राजीव कुमार की नाराजगी के बाद हटाए गए यूपी जल निगम की इलाहाबाद यूनिट के चीफ इंजीनियर राजेश कुमार को पुन: उनकी पुरानी तैनाती मिल गई है। 1 अक्टूबर 2017  को एमडी जल निगम राजेश मित्तल ने राजेश कुमार की कार्यशैली से नाराज मुख्य सचिव के आदेश के बाद उन्हें चीफ इंजीनियर की पोस्ट से हटाया था। सूत्र बताते हैं कि एमडी जल निगम ने राजेश मित्तल ने इलाहाबाद में कुंभ के मेले को लेकर चल रहे सैकड़ों करोड़ के विकास कार्यों की जिम्मेदारी राजेश कुमार को दी है। राजेश कुमार को राजेश मित्तल का विश्वासपात्र बताया जाता है।

सूत्रों की माने तो मुख्य सचिव ने 1 अक्टूबर को जल निगम के तमाम शीर्ष इंजीनियरों की विशेष बैठक बुलाई थी। इस बैठक में विभाग की कार्यशैली पर चर्चा प्रस्तावित थी। मुख्य सचिव के आदेश को ध्यान में रखते हुए निगम के तमाम इंजीनियर बैठक में शामिल हुए थे, लेकिन इलाहाबाद के चीफ इंजीनियर राजेश कुमार बैठक से अनुपस्थित मिले। जिससे नाराज मुख्य सचिव ने राजेश कुमार को तत्काल पद से हटाने के निर्देश दिए थे।

{ यह भी पढ़ें:- मुख्य सचिव के आदेश को ठेंगे पर रखते हैं यूपी जल निगम के एमडी }

मुख्य सचिव के आदेश पर कुछ टाल मटोल करने के बाद एमडी जल निगम ने राजेश कुमार को हटा तो दिया लेकिन वह लगातार उन्हें दोबार पुरानी तैनाती देने के लिए प्रयासरत रहे। अब सवाल उठता है कि एमडी जल निगम ने राजेश कुमार को इलाहाबाद यूनिट का चार्ज मुख्य सचिव की जानकारी में दिया है या फिर अपनी मनमर्जी से। फिलहाल तो यही कहा जा सकता है कि एमडी साहब ने सूबे के सबसे कद्दावर नौकरशाह को अपने इरादों से ठग लिया है।

आपको बता दें कि राजेश मित्तल के निदेशक सीएंडडीएस रहते उन पर पर ठेकेदारों से अवैध बसूली के आरोप लगे थे। पर्दाफाश के संपर्क में आए कुछ ठेकेदारों की शिकायत पर नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना, प्रमुख सचिव नगर विकास और मुख्य सचिव को लिखित में शिकायत दी थी। राजेश मित्तल के खिलाफ जांच का आश्वासन भी मिला लेकिन कार्रवाई के नाम पर मित्तल को पदोन्नति देते हुए जल निगम का एमडी बना दिया गया।

{ यह भी पढ़ें:- यूपी जल निगम भर्ती फर्जीवाड़ा: तत्कालीन मंत्री और एमडी ने बदल डाले थे तमाम नियम }

अब ऐसा ही कुछ यूपी जल निगम में होता नजर आ रहा है। सूत्रों की माने तो जल निगम की इलाहाबाद के पास कुंभ की तैयारियों से जुड़े विकासकार्यों के लिए कई सौ करोड़ कर ऐसा बजट है, जिसमें बड़े भ्रष्टाचार को अंजाम दिया जाना है। इसी योजना के चलते एमडी राजेश मित्तल ने अपने विश्वासपात्र और विभाग के भ्रष्टतम् चीफ इंजीनियरों में से एक राजेश कुमार को इलाहाबाद में तैनाती के लिए जमीन आसमान एक कर रखा है। जिसमें वह सफल होते भी नजर आ रहे हैं।

Loading...