नोटबंदी का असर: किडनैपर्स ने फिरौती लिये बिना ही छोड़ दिया लड़के को





लखनऊ। नोटबंदी के असर ने अपराधियों पर भी नकेल कसनी शुरू कर दी है, एक ऐसा ही चौंकाने वाला मामला यूपी के वाराणसी से प्रकाश में आया है, जहां किडनैपर्स ने फिरौती लिए बिना ही एक लड़के को छोड़ दिया। परिजनों का दावा है कि कि‍डनैपर्स रवि‍वार सुबह 14 साल के संकल्प को फतेहपुर जिले के बाईपास पर छोड़कर फरार हो गए।

पुलिस ने परिजनों को मामले की सूचना देने के साथ ही लड़के को घर पहुंचाया। इस घटना के बाद से लड़के के परिजन बहुत खुश हैं। उन्होने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के फैसले का स्वागत किया है और कहा कि इस पीएम मोदी के इस फैसले से बढ़ रहे अपराध पर रोक लग सकेगी।




प्राप्त जानकारी के मुताबिक वाराणसी में रहने वाला 9th का स्‍टूडेंट संकल्प रिटायर्ड प्रिंसिपल मंगला प्रसाद मिश्रा का पोता है। संकल्प के पिता देवेन्द्र मिश्रा दवा व्‍यापारी है। बीते 8 नवंबर की शाम वह साइकिल से अपने दोस्त के घर जा रहा था। इसी दौरान रास्ते में एक गाड़ी में सवार कुछ लोगों ने पता पूछने के बहाने संकल्प को पास बुलाया और किडनैप कर लिया।




संकल्प के परिजनों ने इस मामले की शि‍कायत ठाणे में की, लेकिन पुलिस ने सिर्फ गुमशुदगी दर्ज की। संकल्प ने बताया कि‍ कि‍डनैपर्स ने नाक पर रूमाल रखा, जि‍ससे मैं बेहोश हो गया। उसके बाद कुछ पता नहीं। होश आने पर देखा कि‍ मेरे साथ कि‍डनैप कि‍ए गए वहां कुछ और लड़के भी थे।
संकल्प ने बताया कि वह कि‍डनैपर्स को देखकर पहचान सकता है। उसने कहा कि‍ कि‍डनैपर्स ने खाने को भी नहीं दिया, सिर्फ पानी पिलाया था।




परिजन बोले, नोटबंदी से मिला उनका बेटा–

संकल्प के पिता देवेंद्र मिश्रा का कहना है कि उनका बेटा सकुशल वापस आ गया। इसके लिए उन्होने भगवान के साथ-साथ पीएम नरेंद्र मोदी को धन्यवाद किया। उन्‍होंने कहा कि‍ 500 और 1000 रुपए के नोट बंद होने से कि‍डनैपर्स परेशान हो गए, इसलि‍ए बेटे की रि‍हाई हुई।