1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. UP News : पीएम मोदी के स्वच्छ भारत मिशन का उड़ाया मखौल, बिना पार्टिशन एक साथ लगा दी चार टॉयलेट सीट

UP News : पीएम मोदी के स्वच्छ भारत मिशन का उड़ाया मखौल, बिना पार्टिशन एक साथ लगा दी चार टॉयलेट सीट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) के स्वच्छ भारत मिशन (Clean India Mission) की किस कदर धज्जियां उड़ाई जा रही है? इसकी बानगी आपको उत्तर प्रदेश (UP) के बस्ती में देखने को मिल जाएगी। यहां एक ऐसा शौचालय बनाया गया है, जहां एक साथ चार लोग बैठकर टॉयलेट कर सकते हैं। सोशल मीडिया (Social Media)में इस टॉयलेट की तस्वीर वायरल हुई तो जिला प्रशासन (District Administration)की किरकिरी शुरू हो गई।

By संतोष सिंह 
Updated Date

बस्ती। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) के स्वच्छ भारत मिशन (Clean India Mission) की किस कदर धज्जियां उड़ाई जा रही है? इसकी बानगी आपको उत्तर प्रदेश (UP) के बस्ती में देखने को मिल जाएगी। यहां एक ऐसा शौचालय बनाया गया है, जहां एक साथ चार लोग बैठकर टॉयलेट कर सकते हैं। सोशल मीडिया (Social Media)में इस टॉयलेट की तस्वीर वायरल हुई तो जिला प्रशासन (District Administration)की किरकिरी शुरू हो गई।

पढ़ें :- Viral Video : राजाजीपुरम लखनऊ में बाइक-स्कूटी में जोरदार टक्कर से हवा में उड़ा युवक, एक की मौत व एक घायल

बस्ती मुख्यालय (Basti Headquarters) से 40 किलोमीटर दूर तहसील रुदौली क्षेत्र (Tehsil Rudauli Area) के धानसा गांव (Dhansa Village) में बना सामुदायिक शौचालय (Community Toilet) इन दिनों सोशल मीडिया में खूब सुर्खियां बटोर रहा है। कारण यह है कि इस शौचालय के अंदर चार-चार टॉयलेट सीट एक साथ बना दी गई है और पंचायती राज विभाग (Panchayati Raj Department) के अधिकारियों को यह उम्मीद भी है कि एक साथ चार लोग शौच करने के लिए बैठेंगे।

बिना दरवाजों के एक साथ 4 सीट लगाने की बात आपको जरूर अचरज में डाल देगी। ऐसा कारनामा बस्ती के पंचायती राज विभाग के काबिल अधिकारी ही कर सकते हैं। फिलहाल सोशल मीडिया में तस्वीर वायरल होने के बाद चारों टॉयलेट सीट को तोड़ दिया गया है और अधिकारी डैमेज कंट्रोल में जुटे हैं।

इस पूरे मामले में बस्ती के मुख्य विकास अधिकारी राजेश प्रजापति का कहना है कि मानक के अनुरूप रुधौली ब्लॉक (Rudhauli Block) के धानसा गांव (Dhansa Village) में बनाया गया शौचालय नहीं है, जिसकी जांच के लिए जिला पंचायत राज अधिकारी (Jila Panchayat Raj Adhikaari)को नामित किया गया है और रिपोर्ट मिलने के बाद दोषियों पर कार्रवाई होगी।

पढ़ें :- भ्रष्टाचार के आरोपी पूर्व कुलपति ने किया आत्मसमर्पण, भेजे गए जेल, सुप्रीम कोर्ट ने जमानत याचिका कर दी थी खारिज

सीडीओ राजेश प्रजापति (CDO Rajesh Prajapati) ने कहा कि 4 सीट लगाने का शासनादेश तो है मगर यह सीटें मानक के अनुरूप नहीं लगाई गई हैं, जिस वजह से इस शौचालय को बनाने वाले दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...