जनमानस की भावनाओं से खेलने में माहिर हैं अखिलेश: केशव

लखनऊ: यूपी की सियासत के सबसे ताकतवर परिवार के सदस्यों के बीच छिड़ी जंग भले ही सड़कों तक आकर एकबार फिर सरकारी बंगलों के भीतर तक सिमट गई हो, लेकिन घटनाक्रम पर विरोधियों की बयानबाजी बदस्तूर जारी है। जिसे आज यूपी बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्या आगे बढ़ाते नजर आये। उन्होंने चाचा शिवपाल और भतीजे अखिलेश के बीच टकरार को 2017 के विधानसभा चुनावों में बीजेपी की जीत को पक्का करने वाला करार देते हुए कहा परिवार नेता जी के परिवार के ड्रामे को सड़क पर लाकर एक अराजकता भरा माहौल पैदा किया गया है। सूबे की कानून व्यवस्था पहले से ही बदहाल है और अब चाचा भतीजे के समर्थक सड़कों पर खुले आम अराजकता कर रहे हैं।




इसके साथ ही उन्होंने नेता जी द्वारा सीएम अखिलेश के फैसलों को पटले जाने पर चुटकी लेते हुए कहा कि सीएम अखिलेश को अब इस्तीफा दे देना चाहिए क्योंकि उन्होंने पद ग्रहण करते समय जो शपथ ली थी, उसे वे पूरा नहीं कर पा रहे हैं। उन्हें अपने हर फैसले के लिए नेता जी की सलाह लेनी पड़ती है। किसे मंत्री बनाना है और किसे हटाना है ये अभीतक नेता जी तय कर रहे हैं। इससे साबित हो गया है कि अखिलेश यादव बतौर सीएम एक अक्षम, असफल, कमजोर और आम जनमानस की भावनाओं से खेलने में माहिर व्यक्ति हैं। हाल ही के दिनों में हुआ पारिवारिक विवाद एक ड्रामे से ज्यादा कुछ नहीं ये सब अखिलेश की इमेज बिल्डिंग का प्रयास था।