1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. UP News: रामचरित मानस पर विवादित बयान देकर चौतरफा घिरे स्वामी प्रसाद मौर्य, पार्टी ने भी किया किनारा

UP News: रामचरित मानस पर विवादित बयान देकर चौतरफा घिरे स्वामी प्रसाद मौर्य, पार्टी ने भी किया किनारा

सपा नेता रविदास मेहरोत्रा ने बयान जारी कर कहा कि ये स्वामी प्रसाद मौर्य का निजी बयान है। बता दें कि, स्वामी प्रसाद मौर्य ने रामचरित मानस पर प्रतिबंध लगाने की बात कही थी। स्वामी प्रसाद मौर्य के बयान पर अर्पणा यादव ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि स्वामी प्रसाद मौर्य अपने चरित्र का उदाहरण दे रहे हैं। सच तो ये है कि उन्होंने रामचरित मानस पढ़ा ही नहीं हैं।

By शिव मौर्या 
Updated Date

UP News:  समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के नेता स्वामी प्रसाद मौर्य  (Swami Prasad Maurya) रामचरित मानस पर विवादित बयान देकर चौतरफा घिर गए हैं। प्रदेशभर में उनके खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहा है। साथ ही उनके खिलाफ कई थानों में तहरीर भी दी गई है। स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya) के साथ समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) भी मुश्किलों में फंस गई है। हालांकि, पार्टी ने स्वामी के इस बयान से किनारा किया है। सूत्रों की माने तो अखिलेश यादव ने भी इस बयान पर नाराजगी जताई है।

पढ़ें :- UP News: स्वामी प्रसाद मौर्य ने मुलायम सिंह यादव को भारत रत्न देने की उठाई मांग, कहा-पद्म विभूषण देकर किया अपमान

सपा नेता रविदास मेहरोत्रा ने बयान जारी कर कहा कि ये स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya)  का निजी बयान है। बता दें कि, स्वामी प्रसाद मौर्य ने रामचरित मानस पर प्रतिबंध लगाने की बात कही थी। स्वामी प्रसाद मौर्य के बयान पर अर्पणा यादव ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya)  अपने चरित्र का उदाहरण दे रहे हैं। सच तो ये है कि उन्होंने रामचरित मानस पढ़ा ही नहीं हैं। राम आज भी उतने की महत्वपूर्ण हैं। इतने महत्वपूर्ण ग्रंथ पर टिप्पणी करना गलत है। ये बयान स्वामी प्रसाद की मानसिकता को दर्शाता है।

इसके साथ ही यूपी बीजेपी अध्यक्ष भूपेंद्र चौधरी ने कहा कि, तुष्टिकरण की राजनीति के लिए सनातन संस्कृति का अपमान अब सपा का रिवाज बन गया है। “विनाश काले विपरीत बुद्धि” की कथा को चरितार्थ कर रहे स्वामी प्रसाद मौर्य को अपने पूरे होश में श्री रामचरितमानस को पढ़ना चाहिए और करोड़ों रामभक्तों की आस्था को ठेस पहुंचाने के लिए माफी मांगनी चाहिए।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...