1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. UP : मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास की तलाश में पुलिस की छापेमारी जारी

UP : मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास की तलाश में पुलिस की छापेमारी जारी

बाहुबली माफिया (Bahubali Mafia)पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) के बेटे समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के विधायक अब्बास अंसारी (Abbas Ansari) की तलाश में यूपी पुलिस (UP Police) कई जगह  छापेमारी कर रही है

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। बाहुबली माफिया (Bahubali Mafia)पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) के बेटे समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के विधायक अब्बास अंसारी (Abbas Ansari) की तलाश में यूपी पुलिस (UP Police) कई जगह  छापेमारी कर रही है

पढ़ें :- यूपी में  अब छह घंटे चलेंगे मदरसे, दुआ और राष्ट्रगान से होगी शुरुआत

अब्बास अंसारी (Abbas Ansari) की तलाश में यूपी पुलिस राजधानी लखनऊ, गाजीपुर, मऊ नई दिल्ली और नोएडा स्थित आवास पर दबिश दी है। इसी कड़ी में पुलिस आज लखनऊ के कैंट इलाके के एक अपार्टमेंट में पहुंची पुलिस, जहां पूछताछ की जा रही है। दरअसल, वर्ष 2012 में लखनऊ से जारी शस्त्र का लाइसेंस बगैर सूचना दिए। नई दिल्ली के पते पर स्थानांतरित कराने के मामले में गैरहाजिर चल रहे अभियुक्त अब्बास अंसारी के खिलाफ एमपी-एमएलए की विशेष मजिस्ट्रेट कोर्ट ने गिरफ्तारी वारंट जारी किया है। बीते विधानसभा के चुनाव में अब्बास अंसारी मऊ से विधायक निर्वाचित हुए हैं । पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी के पुत्र है।

12 अक्टूबर, 2019 को इस मामले की एफआईआर प्रभारी निरीक्षक अशोक कुमार सि‍ंह ने थाना महानगर में दर्ज कराई थी. वर्ष 2012 में लखनऊ के जिलाधिकारी ने अब्बास अंसारी के नाम डीबीबीएल गन का लाइसेंस जारी किया था। अब्बास अंसारी ने इस लाइसेंस को नई दिल्ली के पते पर स्थानांतरित करा लिया लेकिन इसकी पूर्व सूचना थाना महानगर को नहीं दी। इससे पहले विधानसभा चुनाव के दौरान भड़काऊ बयान देने के मामले में एफआईआर रद्द किए जाने और गिरफ्तारी पर रोक लगाए जाने की मांग वाली अब्बास अंसारी(Abbas Ansari) की याचिका इलाहाबाद हाईकोर्ट ने खारिज कर दी थी।

पुलिस द्वारा चार्जशीट लगाए जाने के बाद कोर्ट ने अब्बास अंसारी (Abbas Ansari) की अर्जी को खारिज करने का फैसला सुनाया था। बता दें कि यूपी विधानसभा चुनाव 2022 के दौरान अब्बास अंसारी ने विवादित बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि नतीजे आने के बाद अधिकारियों को 6 महीने तक हटाया नहीं जाएगा। सपा सरकार बनने के बाद पहले अधिकारियों से हिसाब लिया जाएगा। इसके साथ उन्होंने कहा था कि इस मामले में अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) से बात भी हो चुकी है।

पढ़ें :- IILM 17th Academy Convocation 2022 : प्रो. मनोज दीक्षित ने मेधावियों को दिया मंत्र 'पढ़ें, कमाएं और लौटाऐं'
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...