यूपी के ऊर्जा मंत्री और उप मुख्यमंत्री नहीं भरते बिजली का बिल, विभाग भी नहीं काटता कनेक्शन

shrikant sharma electricity
धनतेरस व दीपावली पर पूरे प्रदेश को मिलेगी कटौती मुक्त विद्युत आपूर्ति

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में सरकारी कानून केवल आम जनता के लिए ही बनते हैं। अगर आप आम आदमी है तो आपको बिजली का बिल हर महीने भरना होगा, अगर नहीं भर पाए तो बिजली विभाग के लोग सीढ़ी लेकर खंभे पर चढ़ेंगे और पूरी गुंडई के साथ आपका कनेक्शन काट जाएंगे।​ फिर आप लगाते रहिए ​अधिकारियों के चक्कर।

Up Power Minister Electricity Bill :

मगर यही कानून मंत्रियों के बंगलों पर लागू नहीं होता। ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा के अपने बंगले पर 5,43,197 रूपए का बिल बकाया है, लेकिन मंत्री जी की बात है तो भला विभाग कनेक्शन कैसे काट दे।

उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या तो मानो बिजली बिल न जमा करवाने का रिकार्ड बनाने की कोशिश में हैं, ऐसा उनके बिल को देखकर कहा जा सकता है क्योंकि उनके बंगले पर 10,34,500 रुपए का बिल बकाया है। केशव के अलावा उनके पड़ोसी मंत्री सूर्य प्रताप शाही के बंगले पर 8,99,385 रुपए का बिल, सत्यदेव पचौरी के बंगले पर 3,75,000 रुपए का बकाया, सुरेश खन्ना पर 8,69,000 रुपए और ओम प्रकाश राजभर पर 1,99,000 रुपए के बकाएदार हैं।

बिजली विभाग के बकाएदारों में योगी सरकार ही नहीं मोदी सरकार के सबसे कद्दावर कैबिनेट मंत्री राजनाथ सिंह का नाम भी शामिल है। राजनाथ सिंह के कालीदास मार्ग स्थित बंगला नंबर 4 ए पर बिजली विभाग का 4,32,566 रूपए का बकाया है।

वहीं उत्तर प्रदेश के लोकायुक्त जस्टिस संजय कुमार मिश्रा के बंगले की देनदारी भी किसी मंत्री से कम नहीं है। लोकायुक्त आवास, 14 कालीदास मार्ग पर बिजली विभाग का बकाया बिल 10,44,209 रुपए का है।

आपको बता दें कि इस खबर का आधार उत्तर प्रदेश में सोशल मीडिया पर वायरल हो रही बिजली विभाग की वह लिस्ट है जिसमें कालिदास मार्ग के बंगलों पर बकाया राशि क्रमवद्ध और बंगला संख्या के साथ लिखी दर्ज है।

नए मुख्यमंत्री कार्यालय का बिल भी बकाया-

यूपी सरकार के मंत्रियों के बिजली के बिल के अलावा नए सचिवालय की निर्माणाधीन बिल्डिंग का करीब तीन करोड़ 55 लाख रुपये बकाया है। अब अंदाजा लगाया जा सकता है कि जब सरकार में बैठे मंत्री बिजली विभाग के बकायेदार हैं तो विभाग तो घाटे में रहेगा ही।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में सरकारी कानून केवल आम जनता के लिए ही बनते हैं। अगर आप आम आदमी है तो आपको बिजली का बिल हर महीने भरना होगा, अगर नहीं भर पाए तो बिजली विभाग के लोग सीढ़ी लेकर खंभे पर चढ़ेंगे और पूरी गुंडई के साथ आपका कनेक्शन काट जाएंगे।​ फिर आप लगाते रहिए ​अधिकारियों के चक्कर।मगर यही कानून मंत्रियों के बंगलों पर लागू नहीं होता। ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा के अपने बंगले पर 5,43,197 रूपए का बिल बकाया है, लेकिन मंत्री जी की बात है तो भला विभाग कनेक्शन कैसे काट दे।उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या तो मानो बिजली बिल न जमा करवाने का रिकार्ड बनाने की कोशिश में हैं, ऐसा उनके बिल को देखकर कहा जा सकता है क्योंकि उनके बंगले पर 10,34,500 रुपए का बिल बकाया है। केशव के अलावा उनके पड़ोसी मंत्री सूर्य प्रताप शाही के बंगले पर 8,99,385 रुपए का बिल, सत्यदेव पचौरी के बंगले पर 3,75,000 रुपए का बकाया, सुरेश खन्ना पर 8,69,000 रुपए और ओम प्रकाश राजभर पर 1,99,000 रुपए के बकाएदार हैं।बिजली विभाग के बकाएदारों में योगी सरकार ही नहीं मोदी सरकार के सबसे कद्दावर कैबिनेट मंत्री राजनाथ सिंह का नाम भी शामिल है। राजनाथ सिंह के कालीदास मार्ग स्थित बंगला नंबर 4 ए पर बिजली विभाग का 4,32,566 रूपए का बकाया है।वहीं उत्तर प्रदेश के लोकायुक्त जस्टिस संजय कुमार मिश्रा के बंगले की देनदारी भी किसी मंत्री से कम नहीं है। लोकायुक्त आवास, 14 कालीदास मार्ग पर बिजली विभाग का बकाया बिल 10,44,209 रुपए का है।आपको बता दें कि इस खबर का आधार उत्तर प्रदेश में सोशल मीडिया पर वायरल हो रही बिजली विभाग की वह लिस्ट है जिसमें कालिदास मार्ग के बंगलों पर बकाया राशि क्रमवद्ध और बंगला संख्या के साथ लिखी दर्ज है।

नए मुख्यमंत्री कार्यालय का बिल भी बकाया-

यूपी सरकार के मंत्रियों के बिजली के बिल के अलावा नए सचिवालय की निर्माणाधीन बिल्डिंग का करीब तीन करोड़ 55 लाख रुपये बकाया है। अब अंदाजा लगाया जा सकता है कि जब सरकार में बैठे मंत्री बिजली विभाग के बकायेदार हैं तो विभाग तो घाटे में रहेगा ही।