यूपी: संभल में पुजारी और उसके बेटे की हत्या, मंदिर परिसर में मिले शव

murder
यूपी: संभल में पुजारी और उसके बेटे की हत्या, मंदिर परिसर में मिले शव

लखनऊ। यूपी के संभल जिले में पुजारी और उसके बेटे के शव मिलने का मामला सामने आया है। शुक्रवार सुबह मंदिर में दोनों के शव मिलने से हड़कंप मच गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों के शवों को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है।घटना संभल जिले के नखासा थाना इलाके के रसूलपुर सराय गांव की है।

Up Priest And His Son Murdered In Sambhal Dead Bodies Found In Temple Premises :

पुजारी पिता-पुत्र के शव शिव मंदिर में शुक्रवार को सुबह मिले। दोनों के गले पर निशान मिले हैं। घटना को पुलिस आत्महत्या मानकर चल रही है। इसके साथ ही घटना से जुड़े पहलुओं पर छानबीन चल रही है। पुजारी का नाम अमर सिंह उम्र 60 वर्ष है। बेटे का नाम जयवीर उम्र 21 वर्ष है। पुलिस ने दोनों के शव पोस्टमार्टम के लिए भेजे हैं।

इससे पहले 27 अप्रैल की देर रात बुलंदशहर के अनूपशहर कोतवाली में दो साधुओं की हत्या कर दी गई थी। मंदिर परिसर में सो रहे दोनों साधुओं पर धारदार हथियार से वार कर घटना को अंजाम दिया गया था। घटना के बाद लोगों ने आरोपी को पकड़कर पुलिस को सौंप दिया था। दोनों साधु शिव मंदिर की देखरेख और पुरोहित का काम करते थे। देर रात मंदिर परिसर में ही दोनों साधुओं की हत्या कर दी गई थी। मंदिर में साधुओं के खून से लथपथ शव पड़े मिले थे। पुलिस मामले में एक नशेड़ी को गिरफ्तार किया था।

लखनऊ। यूपी के संभल जिले में पुजारी और उसके बेटे के शव मिलने का मामला सामने आया है। शुक्रवार सुबह मंदिर में दोनों के शव मिलने से हड़कंप मच गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों के शवों को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है।घटना संभल जिले के नखासा थाना इलाके के रसूलपुर सराय गांव की है। पुजारी पिता-पुत्र के शव शिव मंदिर में शुक्रवार को सुबह मिले। दोनों के गले पर निशान मिले हैं। घटना को पुलिस आत्महत्या मानकर चल रही है। इसके साथ ही घटना से जुड़े पहलुओं पर छानबीन चल रही है। पुजारी का नाम अमर सिंह उम्र 60 वर्ष है। बेटे का नाम जयवीर उम्र 21 वर्ष है। पुलिस ने दोनों के शव पोस्टमार्टम के लिए भेजे हैं। इससे पहले 27 अप्रैल की देर रात बुलंदशहर के अनूपशहर कोतवाली में दो साधुओं की हत्या कर दी गई थी। मंदिर परिसर में सो रहे दोनों साधुओं पर धारदार हथियार से वार कर घटना को अंजाम दिया गया था। घटना के बाद लोगों ने आरोपी को पकड़कर पुलिस को सौंप दिया था। दोनों साधु शिव मंदिर की देखरेख और पुरोहित का काम करते थे। देर रात मंदिर परिसर में ही दोनों साधुओं की हत्या कर दी गई थी। मंदिर में साधुओं के खून से लथपथ शव पड़े मिले थे। पुलिस मामले में एक नशेड़ी को गिरफ्तार किया था।