यूपी: राजेंद्र कुमार तिवारी बने स्थाई मुख्य सचिव, अब कार्यवाहक रूप से थे नौकरशाही के मुखिया

CS RK TIWARI
यूपी: राजेंद्र कुमार तिवारी बने स्थाई मुख्य सचिव, अब कार्यवाहक रूप से थे नौकरशाही के मुखिया

लखनऊ। योगी सरकार ने आईएएस अफसर राजेंद्र कुमार तिवारी को प्रदेश का स्थायी मुख्य सचिव नियुक्त कर दिया है। पूर्व मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय के सेवानिवृत्त होने के बाद से राजेंद्र कुमार तिवारी कार्यवाहक मुख्य सचिव के रूप में कार्य कर रहे थे। राज्य सरकार की तरफ से इस संबंध में आवश्यक निर्देश जारी कर दिया गया है।

Up Rajendra Kumar Tiwari Became Permanent Chief Secretary Now Head Of Bureaucracy As Caretaker :

योगी सरकार ने पिछले वर्ष अगस्त माह में अनूप चंद्र पांडेय के रिटायर होने के बाद मुख्य सचिव पद पर कार्यवाहक के तौर पर राजेंद्र कुमार तिवारी को नियुक्त किया था। कई महीनों के इंतजार के बाद आखिरकार शुक्रवार को यूपी को पूर्णकालिक मुख्य सचिव मिल गया। राजेंद्र कुमार तिवारी 1985 बैच के आईएएस अधिकारी हैं।

बीते 31 अगस्त, 2019 को अनूप चंद्र पांडेय के रिटायर होने के बाद नए मुख्य सचिव की खोज शुरू हो गई थी। तब कार्यवाहक के तौर पर राजेंद्र कुमार तिवारी को यह जिम्मेदारी दी गई थी। हालांकि मुख्य सचिव बनने की रेस में वह ही प्रबल दावेदार माने जाते थे। अब तक वह मुख्य सचिव पद की कार्यवाहक जिम्मेदारी के साथ ही कृषि उत्पादन आयुक्त एवं अपर मुख्य सचिव उच्च शिक्षा का पद भी संभाल रहे थे।

लखनऊ। योगी सरकार ने आईएएस अफसर राजेंद्र कुमार तिवारी को प्रदेश का स्थायी मुख्य सचिव नियुक्त कर दिया है। पूर्व मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय के सेवानिवृत्त होने के बाद से राजेंद्र कुमार तिवारी कार्यवाहक मुख्य सचिव के रूप में कार्य कर रहे थे। राज्य सरकार की तरफ से इस संबंध में आवश्यक निर्देश जारी कर दिया गया है। योगी सरकार ने पिछले वर्ष अगस्त माह में अनूप चंद्र पांडेय के रिटायर होने के बाद मुख्य सचिव पद पर कार्यवाहक के तौर पर राजेंद्र कुमार तिवारी को नियुक्त किया था। कई महीनों के इंतजार के बाद आखिरकार शुक्रवार को यूपी को पूर्णकालिक मुख्य सचिव मिल गया। राजेंद्र कुमार तिवारी 1985 बैच के आईएएस अधिकारी हैं। बीते 31 अगस्त, 2019 को अनूप चंद्र पांडेय के रिटायर होने के बाद नए मुख्य सचिव की खोज शुरू हो गई थी। तब कार्यवाहक के तौर पर राजेंद्र कुमार तिवारी को यह जिम्मेदारी दी गई थी। हालांकि मुख्य सचिव बनने की रेस में वह ही प्रबल दावेदार माने जाते थे। अब तक वह मुख्य सचिव पद की कार्यवाहक जिम्मेदारी के साथ ही कृषि उत्पादन आयुक्त एवं अपर मुख्य सचिव उच्च शिक्षा का पद भी संभाल रहे थे।