चीनी मिल घोटाला: माया की बढ़ी मुश्किलें, अब प्रवर्तन निदेशालय करेगा मनी लॉन्ड्रिंग की जांच

mayawati
चीनी मिल घोटाला: माया की बढ़ी मुश्किलें, अब प्रवर्तन निदेशालय करेगा मनी लॉन्ड्रिंग की जांच

लखनऊ। लोकसभा चुनावों के बीच बहुजन समाज पार्टी(बसपा) की मुखिया मायावती की मुश्किलें एक बाद फिर बढ़ती हुई नजर आ रही हैं। दरअसल, चीनी मिल घोटाला अब प्रवर्तन निदेशालय की जांच के दायरे में आ गया है। प्रवर्तन निदेशालय अब इस मामले में मनी लॉन्ड्रिंग की जांच करेगा। मामले की जांच कर रही सीबीआई को मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े दस्तावेज मिले थे, जो ईडी को सौंप दिए गए हैं।

Up Sugar Mill Ed Money Laundering Case Investigation Mayawati :

बता दें कि सीएम योगी ने इस घोटाले की जांच के लिए सीबीआई को 12 अप्रैल 2018 को एक पत्र लिखा था। पत्र में कहा गया था कि प्रदेश की जो भी 21 चीनी मिलें बीचे गईं, वह सब फर्जी दस्तावेजों के आधार पर बनाई गईं बोगस कंपनियों ने खरीदीं। जो चीनी मिलें खरीदी गईं उनमें से देवरिया, बरेली, लक्ष्मीगंज, हरदोई, रामकोला, चित्तौनी और बाराबंकी की बंद पड़ी सात चीनी मिलें भी शामिल थीं। प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार ने जांच में नीलाम की गईं 21 चीनी मिलों में विसंगतियां पाई थीं, जिसके बाद सीबीआई को इसकी जांच सौंपी गई।

चुनावी सरगर्मियों के बीच चीनी मिल केस में प्रवर्तन निदेशालय इस प्रकरण से जुड़े आरोपियों से एक बार फिर पूछताछ करेगी। इस बात की भी आशंका है कि जांच की आंच बसपा अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री मायावती तक भी पहुंच सकती है।

लखनऊ। लोकसभा चुनावों के बीच बहुजन समाज पार्टी(बसपा) की मुखिया मायावती की मुश्किलें एक बाद फिर बढ़ती हुई नजर आ रही हैं। दरअसल, चीनी मिल घोटाला अब प्रवर्तन निदेशालय की जांच के दायरे में आ गया है। प्रवर्तन निदेशालय अब इस मामले में मनी लॉन्ड्रिंग की जांच करेगा। मामले की जांच कर रही सीबीआई को मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े दस्तावेज मिले थे, जो ईडी को सौंप दिए गए हैं। बता दें कि सीएम योगी ने इस घोटाले की जांच के लिए सीबीआई को 12 अप्रैल 2018 को एक पत्र लिखा था। पत्र में कहा गया था कि प्रदेश की जो भी 21 चीनी मिलें बीचे गईं, वह सब फर्जी दस्तावेजों के आधार पर बनाई गईं बोगस कंपनियों ने खरीदीं। जो चीनी मिलें खरीदी गईं उनमें से देवरिया, बरेली, लक्ष्मीगंज, हरदोई, रामकोला, चित्तौनी और बाराबंकी की बंद पड़ी सात चीनी मिलें भी शामिल थीं। प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार ने जांच में नीलाम की गईं 21 चीनी मिलों में विसंगतियां पाई थीं, जिसके बाद सीबीआई को इसकी जांच सौंपी गई। चुनावी सरगर्मियों के बीच चीनी मिल केस में प्रवर्तन निदेशालय इस प्रकरण से जुड़े आरोपियों से एक बार फिर पूछताछ करेगी। इस बात की भी आशंका है कि जांच की आंच बसपा अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री मायावती तक भी पहुंच सकती है।