1. हिन्दी समाचार
  2. UP: योगी सरकार ने किया विशेष सुरक्षा बल का गठन, बिना वारंट के तलाशी और गिरफ्तारी का होगा अधिकार

UP: योगी सरकार ने किया विशेष सुरक्षा बल का गठन, बिना वारंट के तलाशी और गिरफ्तारी का होगा अधिकार

Up Yogi Government Constitutes Special Security Force Will Have The Right To Search And Arrest Without Warrant

By सोने लाल 
Updated Date

लखनऊ। यूपी की योगी सरकार ने UPSSF यानी उत्तर प्रदेश स्पेशल सिक्युरिटी फोर्स नए विशेष सुरक्षा बल का गठन किया है। 26 जून को सीएम योगी आदित्यनाथ ने UPSSF के गठन को मंजूरी दी थी। इस बल की शक्तियां केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF) के समान ही होगी। इस फोर्स के पास बिना वारंट के तलाशी लेने और किसी को भी गिरफ्तार का अधिकार होगा।

पढ़ें :- सुशांत सिंह केस: मीरा चोपड़ा ने ट्वीट कर कह दी ऐसी बात, फैंस हो गए भावुक

राज्य सरकार ने रविवार को यह जानकरी दी, उत्तर प्रदेश स्पेशल सिक्योरिटी फोर्स (UPSSF) उत्तर प्रदेश में उच्च न्यायालय, जिला न्यायालयों, प्रशासनिक कार्यालय एवं परिसर व तीर्थस्थल, मेट्रो रेल, हवाई अड्डा, बैंक अन्य वित्तीय, शैक्षिक संस्थान, औद्योगिक संस्थान आदि की सुरक्षा व्यवस्था करेगी।

यूपी सरकार के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट करके यह जानकारी दी है। एडिशनल चीफ सेक्रेटरी (गृह) अवनीश अवस्थी ने कहा कि इस प्रकार 05 बटालियन के गठन पर कुल व्यय भार 1747.06 करोड़ अनुमानित है जिसमें वेतन भत्ते व अन्य व्यवस्थाएं भी सम्मिलित हैं। उन्होंने बताया कि इनके प्रथम चरण में पीएसी का सहयोग लेकर कुछ इन्फ्रास्ट्रक्चर शेयर करके इसको आगे ले जाया जाएगा। इस बल के सदस्य को विशेष पॉवर नियमावली के तहत दी जाएगी।

अवस्थी ने कहा कि महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों की सुरक्षा हेतु वर्तमान में 9,919 कर्मी कार्यरत रहेंगे। विशेष सुरक्षा बल के रूप में प्रथम चरण में 5 बटालियन का गठन किया जाना प्रस्तावित है। इन बटालियनों के गठन हेतु कुल 1,913 नये पदों का सृजन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि यह बल (UPSSF) मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का ड्रीम प्रोजेक्ट होगा।

ट्वीट में एडिशनल चीफ सेक्रेटरी के हवाले से बताया गया है कि बल का कोई सदस्य किसी मजिस्ट्रेट के किसी आदेश के बिना तथा किसी वारण्ट के बिना किसी व्यक्ति को गिरफ्तार कर सकता है। वारण्ट के बिना तलाशी लेने की शक्ति भी इस फोर्स के पास होगी। सरकार के हालिया कदम को लेकर कई लोगों ने सवाल उठाए हैं। कई आलोचकों का कहना है कि तलाशी लेने और गिरफ्तार करने के अधिकार का दुरुपयोग किया जा सकता है।

पढ़ें :- एसएसपी को फोनकर दी गोरखनाथ मंदिर को उड़ाने की धमकी, कड़ी की गई मंदिर की सुरक्षा व्‍यवस्‍था

सरकार की ओर से इन आलोचनाओं पर फिलहाल कोई औपचारिक जवाब नहीं दिया गया है। हालांकि, सूत्रों ने रेखांकित किया है कि उत्तर प्रदेश स्पेशल सिक्योरिटी फोर्स के पास सीआईएसएफ जैसी ही शक्तियां होंगी। केंद्रीय बल सीआईएसएफ महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों की सुरक्षा करता है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...