UP का बजट सत्र अनिश्चित काल के लिए स्थगित, बढ़ाई गयी विधायक निधि, अब हुई 3 करोड़

CM Yogi
UP का बजट सत्र अनिश्चित काल के लिए स्थगित, बढ़ाई गयी विधायक निधि, अब हुई 3 करोड़

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानमंडल का बजट सत्र शुक्रवार को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित हो गया है। वहीं अंतिम दिन सिर्फ पांच मिनट में बजट तथा तीन मिनट में विधेयक पारित हो गए। इस दौरान यूपी के विधायकों की निधि बढ़ाने वाला प्रस्ताव भी पारित हुआ। अब विधायकों की निधि 3 करोड़ हो गयी है। वहीं ये सत्र सात मार्च तक चलना था, लेकिन सरकार ने इसे आज ही समाप्त कर दिया। इस दौरान विपक्ष पूरी तरह से मौन दिखा।

Ups Budget Session Postponed Indefinitely Increased Mla Fund Now 3 Crores :

इस दौरान सीएम योगी ने कहा कि विधायक निधि 3 करोड़ की गई है, पहले दो करोड़ थी। वहीं सरकार अपने तीन वर्ष की उपलब्धि पर पत्रिका छपेगी। इस दौरान सीएम ने कहा कि आज पीडि़त व्यक्ति को तीन दिन में बीमारी के इलाज के लिए पैसा दिया जाता है। प्रदेश में जहाँ पर पानी की आवश्कयता है वहाँ पर शुद्ध जल पहुचाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने सदन में प्रस्ताव किया और कहा कि विधायकों की निधि बढ़ाकर तीन करोड़ रुपए की जाए।

आपको बता दें कि पहले विधायकों की विधायक निधि दो करोड़ हुआ करती थी। सीएम ने विधायकों से उनकी राय और सुझाव भी मांगे और कहा कि अपने-अपने विधानसभा में कार्यों की तीन वर्ष की उपलब्धियों को अगर सरकार को दे पाएंगे तो 15 मार्च से पहले सरकार उसे छाप कर विधायकों को उपलब्ध कराएगी। यह कार्य जनपद स्तर पर भी होगा और विधानसभा स्तर पर भी उपलब्धियों की पुस्तिका छापी जाएगी।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानमंडल का बजट सत्र शुक्रवार को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित हो गया है। वहीं अंतिम दिन सिर्फ पांच मिनट में बजट तथा तीन मिनट में विधेयक पारित हो गए। इस दौरान यूपी के विधायकों की निधि बढ़ाने वाला प्रस्ताव भी पारित हुआ। अब विधायकों की निधि 3 करोड़ हो गयी है। वहीं ये सत्र सात मार्च तक चलना था, लेकिन सरकार ने इसे आज ही समाप्त कर दिया। इस दौरान विपक्ष पूरी तरह से मौन दिखा। इस दौरान सीएम योगी ने कहा कि विधायक निधि 3 करोड़ की गई है, पहले दो करोड़ थी। वहीं सरकार अपने तीन वर्ष की उपलब्धि पर पत्रिका छपेगी। इस दौरान सीएम ने कहा कि आज पीडि़त व्यक्ति को तीन दिन में बीमारी के इलाज के लिए पैसा दिया जाता है। प्रदेश में जहाँ पर पानी की आवश्कयता है वहाँ पर शुद्ध जल पहुचाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने सदन में प्रस्ताव किया और कहा कि विधायकों की निधि बढ़ाकर तीन करोड़ रुपए की जाए। आपको बता दें कि पहले विधायकों की विधायक निधि दो करोड़ हुआ करती थी। सीएम ने विधायकों से उनकी राय और सुझाव भी मांगे और कहा कि अपने-अपने विधानसभा में कार्यों की तीन वर्ष की उपलब्धियों को अगर सरकार को दे पाएंगे तो 15 मार्च से पहले सरकार उसे छाप कर विधायकों को उपलब्ध कराएगी। यह कार्य जनपद स्तर पर भी होगा और विधानसभा स्तर पर भी उपलब्धियों की पुस्तिका छापी जाएगी।