1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. UPTET 2021 : टीईटी से वंचित हो सकते हैं हजारों अभ्यर्थी,बीएड प्रथम वर्ष का रिजल्ट है रुका

UPTET 2021 : टीईटी से वंचित हो सकते हैं हजारों अभ्यर्थी,बीएड प्रथम वर्ष का रिजल्ट है रुका

UPTET 2021: डॉ. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा (Dr. Bhimrao Ambedkar University Agra) से संबद्ध बीएड कॉलेजों का सत्र 2020-21 का प्रथम वर्ष का परिणाम अभी तक जारी नहीं हुआ है। इस सत्र के जिन छात्रों ने उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपीटीईटी-2021) का फॉर्म भरा है। उनकी 28 नवंबर को (UPTET 2021) है। इसमें प्रवेशपत्र के साथ पत्र के साथ अंकपत्र की प्रति भी मांगी गई है। अभ्यर्थियों को डर है कि वह परीक्षा में शामिल होने से वंचित न हो जाएं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

UPTET 2021: डॉ. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा (Dr. Bhimrao Ambedkar University Agra) से संबद्ध बीएड कॉलेजों का सत्र 2020-21 का प्रथम वर्ष का परिणाम अभी तक जारी नहीं हुआ है। इस सत्र के जिन छात्रों ने उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपीटीईटी-2021) का फॉर्म भरा है। उनकी 28 नवंबर को (UPTET 2021) है। इसमें प्रवेशपत्र के साथ पत्र के साथ अंकपत्र की प्रति भी मांगी गई है। अभ्यर्थियों को डर है कि वह परीक्षा में शामिल होने से वंचित न हो जाएं।

पढ़ें :- UPTET Paper Leaked : योगी बोले-पेपर लीक कराने वालों के खिलाफ दर्ज होगा गैंगस्टर एक्ट के तहत मुकदमा

2020-21 में बीएड प्रथम वर्ष (BEd first year) में प्रवेश लेने वाले छात्रों ने द्वितीय वर्ष में अध्ययनरत छात्र के तौर पर टीईटी (UPTET ) का फॉर्म भरा है। बीएड छात्र देवांश उपाध्याय ने बताया कि सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी (Secretary Examination Regulatory Authority) की ओर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार परीक्षा केंद्र पर प्रवेशपत्र के साथ पहचान पत्र और किसी भी सेमेस्टर में निर्गत अंकपत्र की मूल प्रति या प्रमाणित प्रति ले जाना होगा। जो कि प्रथम वर्ष का परिणाम न जारी होने से अभ्यर्थियों के पास नहीं है। 1200 रुपये फीस जमा करके फॉर्म भरा है, परीक्षा के लिए प्रवेशपत्र जारी हो गया है।

परीक्षा से होना पड़ सकता है  वंचित

बीएड परिणाम (BEd Result) न जारी होने से परीक्षा से वंचित होना पड़ सकता है। सेंट जोंस कॉलेज की छात्रा श्वेता जादौन, आरबीएस कॉलेज के छात्र अमित सिंह, आचार्य ताराचंद शास्त्री महाविद्यालय, एत्मादपुर के छात्र आशुतोष शर्मा व छात्रा नूतन ने भी टीईटी के लिए फार्म भरा है। इनको परिणाम का इंतजार है। बीएड प्रथम वर्ष की परीक्षा कोरोना की वजह से नहीं हुई थी। छात्र छात्राओं को प्रोन्नत किया जाना है।

21 हजार में महज 7000 छात्रों की जमा हुई फीस

पढ़ें :- यूपी की भर्तियों में भ्रष्टाचार, पेपर आउट होना बन चुका है योगी सरकार की पहचान : Priyanka Gandhi

विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक अजय कृष्ण यादव (University Examination Controller Ajay Krishna Yadav) ने बताया कि सत्र 2020-21 में बीएड प्रथम वर्ष (BEd first year) में 21,000 छात्र-छात्राएं पंजीकृत हैं। इसमें से महज 7000 की ही फीस जमा है। जिन कॉलेजों की ओर से फीस जमा कर दी गई है, उनके परिणाम जारी करने के निर्देश एजेंसी को दे दिए गए हैं। सोमवार तक परिणाम जारी कर दिया जाएगा। बाकी कॉलेजों के परिणाम फीस जमा होने के बाद जारी किए जाएंगे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...