मुख्यमंत्री कार्यालय की सुरक्षा में सेंध लगाते धरे गए यूपीटीयू कुलसचिव यूएस तोमर

लखनऊ। यूपी विधानसभा में संदिग्ध विस्फोटक मिलने के बाद यूपी सरकार के तमाम प्रशासनिक भवनों की सुरक्षा कड़ी हो गई है। लेकिन कुछ विशिष्ट लोग अ​भी भी ऐसे हैं जिनकी समझ में ये बात नहीं आई है कि विधानसभा और सचिवालय जैसे कार्यालयों में प्रवेश के नियमों का पालन किया जाना कितना आवश्यक है। ऐसे ही एक विशिष्ट व्यक्ति हैं यूपीटीयू यानी एपीजे अब्दुल कलाम तकनीकि विश्वविद्यालय के कुलसचिव यूएस तोमर। जिन्हें 19 जुलाई को मुख्यमंत्री कार्यालय में प्रवेश के दौरान सुरक्षा कारणों से शर्मिन्दा होना पड़ा।

मिली जानकारी के मुताबिक यूपीटीयू के कुलसचिव यूएस तोमर बुधवार को अपने अधिकारिक वाहन का प्रवेश पास दूसरी गाड़ी पर लगाकर सचिवालय में प्रवेश करने का प्रयास कर रहे थे। मुख्य द्वार पर तैनात सुरक्षाकर्मी ने जब गाड़ी पर चिपकाए गए पास पर अंकित वाहन के रजिस्ट्रेशन नंबर और वहां मौजूद वाहन के रजिस्ट्रेशन नंबर को मिलाया तो दोनों अलग अलग मिले। सुरक्षा​कर्मियों ने वाहन को प्रवेश से रोका तो महाशय सुर​क्षाकर्मियों पर भड़क उठे।

{ यह भी पढ़ें:- अब सचिवालय पर चढ़ा 'भगवा रंग' }

तोमर के तेवरों को देखते हुए सुरक्षाकर्मियों ने उच्च अधिकारियों को सूचित किया। मौके पर पहुंचे उच्च अधिकारियों को देखकर तोमर को अपनी गलती का अहसास हुआ। जिसके बाद तोमर ने लिखित मांफी और भविष्य में गलती न दोहराने की शपथ के साथ सुरक्षा कर्मियों से मुक्ति पाई।

वहीं सचिवालय सुरक्षा के जिम्मेदार अाधिकारियों ने तोमर के वाहन और निजी पास को जब्त कर लिया है। इसके साथ ही मुख्य सुरक्षा अधिकारी से उनके पासों को निरस्त किए जाने की सिफारिश भी कर दी है।

{ यह भी पढ़ें:- CCTV कैमरे लगा रहे थे विधानसभा की सुरक्षा में सेंध, 100 में सिर्फ 6 करते हैं काम }

Loading...