कश्मीर मुद्दे पर शरीफ ने बहाए घड़ियाली आंसू

नई दिल्ली: उरी हमले के तीन दिन बाद संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कहा, शांति तब नहीं हो सकती जब अन्याय होता है। उन्होंने कहा, पाकिस्तान आतंकवाद का शिकार रहा है। हमारा देश आतंकवाद से लड़ रहा है। दुनिया के किसी भी देश से ज्यादा हमारे देश में आतंकवाद विरोधी अभियान चलाए जा रहे हैं। आतंकवाद एक विश्वस्तरीय समस्या है। हम विदेशी ताकतों को पाकिस्तान के विकास को अस्थिर करने की अनुमति नहीं देंगे। यह आतंकवाद विदेशों से वित्त पोषित भी है।

नवाज ने कहा, जब तक कश्मीर का मुद्दा निपट न जाए, भारत और पाकिस्तान पूरी तरह से शांति हासिल नहीं कर पाएंगे। उन्होंने कहा, कश्मीर की नई पीढ़ी भारत के कश्मीर पर अनाधिकृत कब्जे के खिलाफ आवाज उठा रही है।प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कहा, हाल ही में कश्मीर में युवा नेता बुरहान बानी को मार डाला गया। मैं कश्मीर में हो रही हत्याओं की जांच के लिए स्वत्रंत्र जांच की मांग करता हूं। कश्मीर में आदमी, बच्चे, औरतें आजादी की मांग कर रहे हैं। पाकिस्तान उनकी इस मांग का समर्थन करता है।हर बैठक में कश्मीर मुद्दा : इससे पहले प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने संयुक्तराष्ट्र महासभा सत्र के इतर विश्व के नेताओं के साथ लगभग अपनी हर बैठक में कश्मीर का मुद्दा उठाया है लेकिन भारत के साथ विवाद का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की उनकी कोशिश किसी का ध्यान खींचती नहीं दिखी।

शरीफ ने अमेरिका, इंग्लैंड, जापान और तुर्की के नेताओं के साथ बातचीत में यह मामला उठाया और यह मसला सुलझाने के लिए हस्तक्षेप की मांग की। उन्होंने जापान के पीएम शिंजो अबे और तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एदरेआन के साथ यहां मुलाकात की। संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की दूत मलीहा लोधी ने ट्वीट किया, पीएम शरीफ ने कश्मीर में हालात के बारे में जापान के पीएम को जानकारी दी। उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, प्रधानमंत्री शरीफ ने जापान में अपने समकक्ष को कश्मीर में भारतीय बलों द्वारा किए जा रहे मानवाधिकार उल्लंघन के बारे में भी बताया।