अमेरिकी नेवल शिपयार्ड में हुई गोलीबारी, भारतीय वायुसेना प्रमुख सुरक्षित

अमेरिकी नेवल शिपयार्ड में हुई गोलीबारी, भारतीय वायुसेना प्रमुख सुरक्षित
अमेरिकी नेवल शिपयार्ड में हुई गोलीबारी, भारतीय वायुसेना प्रमुख सुरक्षित

नई दिल्ली। अमेरिका के हवाई स्थित मिलिट्री बेस पर्ल हार्बर पर बुधवार दोपहर अचानक एक हमलावर ने खुलेआम गोलीबारी शुरू कर दी। इस दौरान भारतीय वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया भी वहीं मौजूद थे हालांकि गोलीबारी का शिकार होने से वो बाल-बाल बचे। दरअसल घटना के समय भारतीय वायुसेना प्रमुख अपनी टीम के साथ इस बेस पर ही मौजूद थे।

Us Firing At Pearl Harbor Naval Shipyard Security Forces Cordon Off Area :

बताया जा रहा है कि शिपयार्ड पर तैनात एक अमेरिकी नौसैनिक ने ही अचानक गोलीबारी शुरू कर दी और इस घटना में कम से कम तीन लोग घायल हुए हैं, वहीं दो की हालत गंभीर बताई जा रही है। गोलीबारी करने वाले सैनिक ने अंत में खुद को भी गोली मार ली। फिलहाल घटना के बाद पूरे इलाके में घेराबंदी कर दी गई है।

बता दें कि पर्ल हार्बर बेस ओहू समुद्र तट के दक्षिणी किनारे पर स्थित है जहां वायु सेना और नौसेना दोनों के सैन्य अड्डे हैं। पर्ल हार्बर या ‘पर्ल बंदरगाह’ हवाई द्वीप में हॉनलूलू से दस किमी उत्तर-पश्चिम, अमेरिका का प्रसिद्ध बंदरगाह एवं नौसैनिक अड्डा है। वहीं बंदरगाह के 20 वर्ग किलोमीटर के दायरे में ही सैकड़ों जहाजों के रुकने का स्थान है।

नई दिल्ली। अमेरिका के हवाई स्थित मिलिट्री बेस पर्ल हार्बर पर बुधवार दोपहर अचानक एक हमलावर ने खुलेआम गोलीबारी शुरू कर दी। इस दौरान भारतीय वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया भी वहीं मौजूद थे हालांकि गोलीबारी का शिकार होने से वो बाल-बाल बचे। दरअसल घटना के समय भारतीय वायुसेना प्रमुख अपनी टीम के साथ इस बेस पर ही मौजूद थे। बताया जा रहा है कि शिपयार्ड पर तैनात एक अमेरिकी नौसैनिक ने ही अचानक गोलीबारी शुरू कर दी और इस घटना में कम से कम तीन लोग घायल हुए हैं, वहीं दो की हालत गंभीर बताई जा रही है। गोलीबारी करने वाले सैनिक ने अंत में खुद को भी गोली मार ली। फिलहाल घटना के बाद पूरे इलाके में घेराबंदी कर दी गई है। बता दें कि पर्ल हार्बर बेस ओहू समुद्र तट के दक्षिणी किनारे पर स्थित है जहां वायु सेना और नौसेना दोनों के सैन्य अड्डे हैं। पर्ल हार्बर या 'पर्ल बंदरगाह' हवाई द्वीप में हॉनलूलू से दस किमी उत्तर-पश्चिम, अमेरिका का प्रसिद्ध बंदरगाह एवं नौसैनिक अड्डा है। वहीं बंदरगाह के 20 वर्ग किलोमीटर के दायरे में ही सैकड़ों जहाजों के रुकने का स्थान है।