अमेरिका की आपत्ति के बाद लटकी पाकिस्तान की NSG सदस्यता

NSG सदस्यता , अमेरिका, बैन
NSG सदस्यता के लिए टूटीं पाकिस्तान की उम्मीद, अमेरिका ने सात कंपनियों पर लगाया बैन

इस्लामाबाद। अमेरिका ने सात पाकिस्तानी कंपनियों पर कथित रूप से परमाणु व्यापार में संलिप्तता को लेकर प्रतिबंध लगा दिया है। इस कदम से पाकिस्तान के परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह में शामिल होने की महत्वाकांक्षा कमजोर पड़ सकती है। यह विशिष्ट देशों का समूह है, जो परमाणु सामग्री और प्रौद्योगिकी का व्यापार कर सकते हैं।

Us Sanctions Ban On 7 Pakistani Companies In Nuclear Trade :

सूत्र ने बताया गया कि इस सूची को अमेरिका के ब्यूरो ऑफ इंडस्ट्री एंड सिक्युरिटी ने तैयार किया है “जिसमें घोषित किया गया है कि पाकिस्तान की सभी सात कंपनियों के राष्ट्रीय सुरक्षा या अमेरिका के विदेश नीति के हितों के विपरीत गतिविधियों में शामिल होने का खतरा है।”

इस सूची में कुल 23 कंपनियों को जोड़ा गया है, जिसे अमेरिकी फेडरल रजिस्टर में प्रकाशित किया गया है। इस सूची में दक्षिण सूडान की 15 और सिंगापुर की एक कंपनी भी शामिल है। सभी 23 कंपनियों को अब सख्त निर्यात नियंत्रण उपायों का सामना करना पड़ेगा, जिससे उनके अंतर्राष्ट्रीय कारोबार पर रोक लग जाएगी। पाकिस्तान की दो कंपनियों पर परमाणु संबंधित संस्थाओं को आपूर्ति करने का आरोप है, जबकि अन्य दो कंपनियों पर इन संस्थाओं की तरफ से काम करने का आरोप है।

वहीं, सिंगापुर की कंपनी पर भी पाकिस्तान की कंपनी से संबंध रखने के आरोप में प्रतिबंध लगाया गया है।

इस्लामाबाद। अमेरिका ने सात पाकिस्तानी कंपनियों पर कथित रूप से परमाणु व्यापार में संलिप्तता को लेकर प्रतिबंध लगा दिया है। इस कदम से पाकिस्तान के परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह में शामिल होने की महत्वाकांक्षा कमजोर पड़ सकती है। यह विशिष्ट देशों का समूह है, जो परमाणु सामग्री और प्रौद्योगिकी का व्यापार कर सकते हैं।सूत्र ने बताया गया कि इस सूची को अमेरिका के ब्यूरो ऑफ इंडस्ट्री एंड सिक्युरिटी ने तैयार किया है "जिसमें घोषित किया गया है कि पाकिस्तान की सभी सात कंपनियों के राष्ट्रीय सुरक्षा या अमेरिका के विदेश नीति के हितों के विपरीत गतिविधियों में शामिल होने का खतरा है।"इस सूची में कुल 23 कंपनियों को जोड़ा गया है, जिसे अमेरिकी फेडरल रजिस्टर में प्रकाशित किया गया है। इस सूची में दक्षिण सूडान की 15 और सिंगापुर की एक कंपनी भी शामिल है। सभी 23 कंपनियों को अब सख्त निर्यात नियंत्रण उपायों का सामना करना पड़ेगा, जिससे उनके अंतर्राष्ट्रीय कारोबार पर रोक लग जाएगी। पाकिस्तान की दो कंपनियों पर परमाणु संबंधित संस्थाओं को आपूर्ति करने का आरोप है, जबकि अन्य दो कंपनियों पर इन संस्थाओं की तरफ से काम करने का आरोप है।वहीं, सिंगापुर की कंपनी पर भी पाकिस्तान की कंपनी से संबंध रखने के आरोप में प्रतिबंध लगाया गया है।