1. हिन्दी समाचार
  2. अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा- भारतीय बॉर्डर के पास बढ़े चीनी सैनिक, हालात तनावपूर्ण

अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा- भारतीय बॉर्डर के पास बढ़े चीनी सैनिक, हालात तनावपूर्ण

By रवि तिवारी 
Updated Date

Us Secretary Of State Said Chinese Troops Increased Near Indian Border Situation Tense

लद्दाख में भारतीय चीन सीमा पर दोनों देशों के बीच पिछले कई दिनों से चला आ रहा तनाव बढ़ता ही जा रहा है। अब अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पेंस ने अपने एक बयान में कहा है कि चीन LAC पर भारत की ओर सेना बढ़ा रहा है। लद्दाख और सिक्किम में एलएसी पर चीन कई जगह अपनी मिलिट्री की तैनाती बढ़ा रहा है। इसके जवाब में भारतीय सेना भी अपने सैनिकों की तैनाती एलएसी पर कर रही है।

पढ़ें :- दिल्ली एम्स में ओपीडी सेवा शुक्रवार से , ऑनलाइन होगा पंजीकरण

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने एक बातचीत के दौरान कहा कि आज हम देख रहे हैं कि चीन, भारत के उत्तर में एलएसी पर अपनी सेना की तैनाती बढ़ा रहा है। पोम्पियो ने कहा कि हम देख रहे हैं कि चीन अपनी सैन्य ताकत बढ़ा रहा है और काफी उग्र रवैया दिखा रहा है।

उन्होंने कहा कि चीन दुनिया में अपने बेल्ट एंड रोड इनीशिएटिव के चलते कई जगह बंदरगाह बना रहा है और वहां अपनी सेना की तैनाती कर रहा है।
बता दें कि भारतीय सेना द्वारा अपनी सीमा पर सड़क निर्माण किया जा रहा है, जिसका लद्दाख सीमा पर चीनी सैनिकों द्वारा विरोध किया गया। इसके चलते पहले 5 मई को लद्दाख की सीमा पर और फिर 9 मई को सिक्किम सीमा पर भारत और चीन के सैनिकों के बीच झड़प की भी खबर आयी थी।

इसके बाद चीन की तरफ से एलएसी पर बड़ी संख्या में अपनी सेना की तैनाती कर दी गई है। इसके जवाब में भारत ने भी अपनी सेना की तैनाती बढ़ा दी है। जिससे दोनों देशों के बीच स्टैंडऑफ की स्थिति बनी हुई है। हाल ही में खबरें आयीं थी कि चीन की तरफ से सीमा पर आर्टिलरी भी तैनात की जा रही है। वहीं भारत ने भी लद्दाख में अपने फाइटर प्लेन उतारकर चीन को अपनी तैयारी दिखा दी है।

सूत्रों के हवाले से खबर आयी थी कि चीन के सैनिकों की संख्या को देखते हुए भारत ने भी जम्मू कश्मीर से अपने सैनिकों को लद्दाख भेज दिया है। हालांकि दोनों देशों के बीच सैन्य और डिप्लोमैटिक लेवल पर बातचीत की कोशिशें हो रही हैं लेकिन अभी तक उनका कोई नतीजा नहीं निकला है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बीते दिनों भारत और चीन के बीच मध्यस्थता की बात कही थी। हालांकि दोनों ही देशों ने इससे इंकार कर दिया है।

पढ़ें :- विश्वविद्यालय में कैश बुक व बैलेन्स सीट अनिवार्य रूप से तैयार की जाये : आनंदीबेन पटेल

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X