1. हिन्दी समाचार
  2. अमेरिकी सीनेटरों ने चीन पर प्रतिबंध लगाने के लिए संसद में पेश किया विधेयक

अमेरिकी सीनेटरों ने चीन पर प्रतिबंध लगाने के लिए संसद में पेश किया विधेयक

Us Senators Introduced A Bill To Ban China

By रवि तिवारी 
Updated Date

अमेरिका से व्यापार को लेकर चीन अपने ही जाल में फंसता दिख रहा है। अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने 6 देशों के विदेश मंत्रियों से मंत्रणा कर चीन को सबक सिखाने का प्लान बनाया है। वहीं अमेरिकी सीनेट में एक ऐसा बिल आया है, जो पास हो गया तो ट्रंप चीन पर प्रतिबंधों की बरसात कर सकते हैं। अगर यह विधेयक पास हो जाता है तो चीन को आर्थिक रूप से बहुत नुकसान उठाना पड़ेगा।

पढ़ें :- गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या: राष्ट्रपति ने कहा-सैनिकों की बहादुरी पर हम सभी देशवासियों को गर्व है

राष्ट्रपति को प्रतिबंध लगाने की अनुमति देने की मांग

संसद में इस विधेयक को नौ प्रभावशाली अमेरिकी सीनेटरों के एक समूह ने पेश किया है। इसमें कहा गया है कि यदि चीन कोरोना वायरस संक्रमण फैलने के पीछे की वजहों की पूरी जानकारी मुहैया नहीं कराता है और इसे काबू करने में सहयोग नहीं देता है, तो अमेरिका के राष्ट्रपति को चीन पर प्रतिबंध लगाने की अनुमति दी जानी चाहिए।

कोविड-19 जवाबदेही अधिनियम है नाम

इस विधेयक को कोविड-19 जवाबदेही अधिनियम नाम दिया गया है। इसे सीनेटर लिंडसे ग्राहम ने तैयार किया है और आठ अन्य सांसदों ने इसमें उनका साथ दिया है। इस विधेयक को मंगलवार को सीनेट में पेश किया गया। इस विधेयक में कहा गया है कि राष्ट्रपति 60 दिन के भीतर कांग्रेस में यह प्रमाणित करेंगे कि चीन ने अमेरिका, उसके सहयोगियों या विश्व स्वास्थ्य संगठन जैसी संयुक्त राष्ट्र से संबद्ध संस्थाओं के नेतृत्व वाली कोविड-19 संबंधी जांच के लिए पूर्ण जानकारी मुहैया कराई है और उसने मांसाहारी वस्तुओं की बिक्री करने वाले उन सभी बाजारों को बंद कर दिया था, जिनसे जानवरों से मनुष्यों में कोई संक्रमण फैलने का खतरा पैदा होता है।

पढ़ें :- गूगल की Gmail यूर्जस को चेतावनी, शर्तें और नियम ना मानने पर बन्द हो जाएंगी ये सुविधायें

चीन पर लग सकते हैं ये प्रतिबंध

विधेयक में आगे कहा गया है कि यदि राष्ट्रपति इसे प्रमाणित नहीं करते हैं तो उन्हें अमेरिका में मौजूद चीन की संपत्तियों को जब्त करने, यात्रा संबंधी प्रतिबंध लगाने, वीजा रद्द करने, अमेरिकी वित्तीय संस्थाओं को चीनी कारोबार को कर्ज देने से रोकने और चीनी कंपनियों को अमेरिकी शेयर बाजार में लिस्टेड किए जाने पर रोक लगाने का अधिकार होगा।

दबाव नहीं बनाया तो चीन नहीं करेगा सहयोग

सीनेटर ग्राहम ने कहा कि मुझे यकीन है कि चाइनीज कम्युनिस्ट पार्टी यदि चीजें नहीं छिपाती, तो वायरस अमेरिका में नहीं पहुंचता। चीन ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय को जांच के लिए वुहान प्रयोगशाला में जाने की अनुमति देने से इनकार कर दिया। मुझे लगता है कि यदि चीन पर दबाव नहीं बनाया गया, तो वह जांच में कभी सहयोग नहीं करेगा।

कोरोना से यूएस सबसे ज्यादा प्रभावित

पढ़ें :- किसान आंदोलन : कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का दावा, जल्द समाप्त होगा किसानों का प्रदर्शन

बता दें कि चीन के वुहान से फैले कोरोना वायरस संक्रमण से दुनिया भर में 2,50,000 लोगों की मौत हो चुकी है और 40 लाख से अधिक लोग इससे संक्रमित हैं। इस वायरस से सबसे अधिक प्रभावित अमेरिका हुआ है, जहां इसके कारण अबतक 80,000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और 14 लाख लोग संक्रमित हैं।  

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...