आंखों की रोशनी बनाए रखने के लिए अपनाएं ये फार्मूले

आंखों की रोशनी
आंखों की रोशनी बनाए रखने के लिए अपनाएं ये फार्मूले

कंप्यूटर के बढ़ते प्रयोग और तकनीकि पर बढ़ती निर्भरता ने हमारी जिन्दगी के साथ—साथ हमारे शरीर पर भी बहुत प्रभाव डाला है। विशेषकर हमारी आंखों पर। चाहें कंप्यूटर हो या मोबाइल की बेहतर चमक वाली स्क्रीन सभी का प्रभाव हमारी आंखों पर पड़ता है। घंटों तक मोबाइल में घुसे रहना या फिर लैपटॉप या कंप्यूटर की स्कीन पर नजरें गढ़ाए रहना हमारी आंखों पर बुरा असर डालते हैं। इसके अलावा भागम भाग वाली तनवापूर्ण जिन्दगी में नींद की कमी इस दुष्प्रभाव को और भी बढ़ा देती है।

आंखों की अहमियत जानते हुए भी इनकी सेहत को नजरंदाज करते रहते हैं। जब समस्या गंभीर हो जाती है तब हम डॉक्टर के पास जाते हैं। लेकिन थोड़ी सी गंभीरता से हम आंखों की समस्या से बच सकते हैं। हम अपने खानपान में थोड़ा सा परिवर्तन और दिनचर्या में सुधार लाकर अपनी आंखों को स्वस्थ रख सकते हैं।

{ यह भी पढ़ें:- तो इसलिए मछ्ली खाने के बाद नहीं करना चाहिए दूध का सेवन }

आयुर्वेद में भी ऐसे कई सरल उपाय और खानपान के फार्मूले बताए गए हैं जिनको अपनाकर आखों की रोशनी को लंबे समय तक दुरुस्त रखा जा सकता है। इतना ही नहीं अगर आंखों की रोशनी लगातार कम होती जा रही है तो उसकी भी रोकथाम की जा सकती है। या फिर आप अपने कम नंबर वाले चश्मे से छुटकारा भी पा सकते हैं।

करें ये आसान उपाय —

{ यह भी पढ़ें:- दूध पीने के बाद भूल से भी न खाये ये चीज, होंगे ये नुकसान }

— अगर आप अपनी आंखों की समस्या को लेकर गंभीर हैं तो सबसे पहले सुबह जल्दी जागने की आदत डाले। नित्यकर्म से मुक्त होकर अपने आस पास के किसी घासदार पार्क में पहुंचकर कुछ देर नंगे पर घास पर चहल कदमी करें। ध्यान रहे कि यह उपाय आपको सूर्योदय से पूर्व करना है। क्योंकि सूर्योदय के बाद घास पर मौजूद ओस उड़ जाती है।

— दूसरा और आसान उपाय है कि रात को सोने से पहले तांबे के बर्तन में पानी भर कर रख दें। सुबह उठकर खाली पेट उस बर्तन के पानी को दो से तीन बार में पीकर कर खत्म कर दें।

इन वस्तुओं के सेवन से होगा लाभ—

{ यह भी पढ़ें:- सेहत ही नहीं खूबसूरती के लिए भी फायदेमंद है सरसो का तेल }

सौंफ, बादाम और मिश्री का सेवन —
हमारे आपके घरों में सौंफ, बादाम और मिश्री लगभग नियमित रूप से प्रयोग होने वाली चीज है। एक चम्मच सौंफ, दो बादाम और आधा चम्मच मिश्री पीस लें। इसे नियमित रूप से रात को सोने से पहले एक गिलास दूध के साथ लें।

सरसों का तेल —
सरसों का तेल भी हमारी किचेन में आसानी से उपलब्ध होता है। इस तेल को खाने क साथ—साथ रात को सोने से पहले तलवों पर लगाकर हल्की मालिश करने से आपकी आंखों का आराम मिलेगा।

गाजर का सेवन —
आजकल गाजर हर सीजन में मिलने लगी है। अगर आप हर सीजन में गाजर खाते हैं तो ठीक है, नहीं तो गाजर के सीजन में इसका पर्याप्त सेवन करें। क्योंकि गाजर विटामिन A, B और C का एक बेहतर श्रोत है। आप चाहें तो इसका जूस भी पी सकते हैं। ऐसा माना जाता है कि गाजर का जूस आंखों की रोशनी बढ़ाने का रामबाण इलाज है।

इलायची —
अगर आप रोज दूध पीते हैं तो इसमें दो चुटकी हरी इलाइची का पाउडर और सौंफ का पाउडर मिला कर पियें, आखों की समस्या में छुटकारा मिलेगा।

{ यह भी पढ़ें:- लौंग के चमत्कारी फायदों को जानकार चौंक जाएंगे आप }

त्रिफला —
त्रिफला में यूं तो बहुत से गुण होते हैं। त्रिफला का चूर्ण आमतौर पर कब्ज संबन्धित समस्या से निजात दिलाने के लिए लिया जाता है, लेकिन अगर आपको त्रिफला आसानी से उपलब्ध है तो इसे रात को सोते समय पानी में भिगोकर रख दें। सुबह इसके पानी से आंखों को धोएं।

शुद्ध देसी घी —
कनपटी पर शुद्ध देसी घी की हल्के हाथ से रोजाना पांच-दस मिनट तक मसाज करें। इससे आंखों की रोशनी बढ़ेगी।

बादाम और अखरोट का सेवन—
रोज रात को छह-सात बादाम पानी में भिगोकर रख दें। इसे सुबह खाएं। इसके अलावा आप अखरोट के तेल से आंखों के आसपास मालिश करें।

आंवला—
आंवले का मुरब्बा बनाकर दिन में दो बार खाएं। इससे आंखों की रोशनी बढाने में काफी मदद मिलेगी। आजकल आंवले का मुरब्बा बाजार में आसानी से उपलब्ध रहता है।

मुलेठी —
एक-एक चम्मच मुलेठी पाउडर, शहद और आधा चम्मच देसी घी को मिला लें। इसे सुबह-शाम दूध के साथ पिएं।

{ यह भी पढ़ें:- जानिये पुरुषों में स्पर्म काउंट बढ़ाने का अचूक आयुर्वेदिक नुस्खा }

ग्रीन टी —
आजकल ग्रीन टी का प्रयोग काफी प्रचलन में है। अगर आप भी ग्रीन टी का सेवन कर सकते हैं तो दिन में दो से तीन कप ग्रीन टी पिएं। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स आंखों को हेल्दी रखते है।

जीरा —
जीरे और मिश्री को बराबर मात्रा में पीस लें। इसे रोजाना एक चम्मच घी के साथ खाएं।

हरी सब्जियां —
हरी सब्जियां जैसे की पालक, मेथी और हरे सलाद को अपनी डाइट में शामिल करें। इनमें पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट्स आंखों को हेल्दी रखते है।

कंप्यूटर के बढ़ते प्रयोग और तकनीकि पर बढ़ती निर्भरता ने हमारी जिन्दगी के साथ—साथ हमारे शरीर पर भी बहुत प्रभाव डाला है। विशेषकर हमारी आंखों पर। चाहें कंप्यूटर हो या मोबाइल की बेहतर चमक वाली स्क्रीन सभी का प्रभाव हमारी आंखों पर पड़ता है। घंटों तक मोबाइल में घुसे रहना या फिर लैपटॉप या कंप्यूटर की स्कीन पर नजरें गढ़ाए रहना हमारी आंखों पर बुरा असर डालते हैं। इसके अलावा भागम भाग वाली तनवापूर्ण जिन्दगी में नींद की कमी इस…
Loading...