उत्कल एक्सप्रेस हादसा : 14 बोगियां डिरेल, अब तक 200 घायल 23 से ज्यादा की मौत

उत्कल एक्सप्रेस हादसा : 14 बोगियां डिरेल, अब तक 200 घायल 23 से ज्यादा की मौत

मुजफ्फरनगर। पुरी से हरिद्वारा जा रही उत्कल एक्सप्रेस के मुजफ्फरनगर के खतौली में डीरेल होने से हुए हादसे के बारे में रेल मंत्रालय की ओर से दी गई अाधिकारिक जानकारी के मुताबिक गाड़ी संख्या 18477 में 23 बोगियां जुड़ीं थी जिनमें से 14 बोगियां डिरेल हुई हैं। क्षतिग्रस्त हुई तीन बोगियों की हालत बेहद खराब है। जिनमें फंसे यात्रियों को निकालने के लिए चलाये जा रहे राहत कार्य के लिए प्रशासन ने गैस कटर और क्रेनों का सहारा लिया है।

रेल मंत्रालय के पीआरओ अनिल सक्सेना के मुताबिक इस हादसे के बाद 23 यात्रियों की मौत की पुष्टि हो चुकी है, जबकि 200 से ज्यादा घायलों को अस्पतालों तक पहुंचाया जा चुका है।

{ यह भी पढ़ें:- गरीबों का दर्द नहीं समझते प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी: मनमोहन सिंह }

इससे पहले रेल मंत्रालय की ओर से छह बोगियों के डिरेल होने की बात कही गई थी। हालांकि हादसे में बुरी तरह से प्रभावित होने वाले यात्री इन्हीं छह बोगियों के बताए जा रहे हैं।

वहीं मौके से आ रही अलग अलग रिपोर्टों के मुताबिक आने वाले कुछ घंटों में मृतकों की संख्या में इजाफा हो सकता है, क्योंकि दबी हुई बोगियों में राहत कार्य देर से शुरू हो सका है। कई यात्री ऐसी जगह दबे हुए हैं जिन्हें निकालने के लिए गैस कटर और क्रेन की मदद लेनी पड़ेगी। जब तक राहत कार्य पूरा नहीं कर लिया जा सकता तब तक मलबे में से शवों के मिलने की खबरें आती रहेंगी।

{ यह भी पढ़ें:- डिरेल हुआ दिल्ली-गाजियाबाद यात्री रेलगाड़ी का एक डिब्बा, जांच के आदेश }

इस बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हादसे पर दुख जताया है। वहीं केन्द्र सरकार की ओर से इस हादसे में घायल हुए लोगों को मुआवजे के रूप में 50,000 रुपए और मृतकों के परिजनों को 3,50,000 रुपए ​देने को कहा है। वहीं ओडिशा सरकार ने इस हादसे के मृतकों को 5 लाख का मुआवजा देने की घोषणा की है।

Loading...