शर्मनाक : सबसे ज्यादा आबादी वाले उत्तर प्रदेश और बिहार हैं स्वास्थ्य सेवाओं में सबसे फिसड्डी

health rankimg
शर्मनाक : स्वास्थ्य रैंकिंग में उत्तर प्रदेश और बिहार सबसे पीछे, ये राज्य हैं आगे

नई दिल्ली। स्वास्थ्य और चिकित्सा सेवाओं के मोर्चे पर पिछड़े बिहार, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और ओडिशा फिसड्डी साबित हुए हैं। इसके विपरीत हरियाणा, राजस्थान और झारखंड हालातों में काफी सुधार आया है। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय तथा विश्वबैंक के तकनीकी सहयोग से तैयार नीति आयोग की ‘स्वस्थ राज्य प्रगतिशील भारत शीर्षक से जारी रिपोर्ट में राज्यों की रैंकिंग से यह बात सामने आयी है। इस रिपोर्ट में 21 राज्यों का ब्योरा दिया गया है, जिसमें बिहार 21वें स्थान पर सबसे नीचे रहा है जबकि उत्तर प्रदेश 20वें, उत्तराखंड 19वें और ओड़िशा 18वें स्थान पर है।

Uttar Pradesh And Bihar In The Health Rankings Behind These States Are Ahead :

वहीं अगर संपूर्ण रैंकिंग की बात की जाए तो 21 बड़े राज्यों की सूची में उत्तर प्रदेश सबसे नीचे 21वें स्थान पर है। उसके बाद क्रमश: बिहार, ओड़िशा, मध्य प्रदेश और उत्तराखंड का स्थान है। वहीं पहले नंबर पर केरल है, जिसके बाद क्रमश: आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र और गुजरात का स्थान हैं।

बता दें कि रैंकिंग 23 संकेतकों के आधार पर तैयार की गयी है। इन संकेतकों को स्वास्थ्य योजना परिणाम, संचालन व्यवस्था और सूचना तथा प्रमुख इनपुट/प्रक्रियाओं में बांटा गया है। बताया जा रहा है कि ये दूसरा मौका है जब आयोग ने स्वास्थ्य सूचकांक के आधार पर राज्यों की रैंकिंग की है। इस तरह की पिछली रैंकिंग फरवरी 2018 में जारी की गयी थी।

नई दिल्ली। स्वास्थ्य और चिकित्सा सेवाओं के मोर्चे पर पिछड़े बिहार, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और ओडिशा फिसड्डी साबित हुए हैं। इसके विपरीत हरियाणा, राजस्थान और झारखंड हालातों में काफी सुधार आया है। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय तथा विश्वबैंक के तकनीकी सहयोग से तैयार नीति आयोग की 'स्वस्थ राज्य प्रगतिशील भारत शीर्षक से जारी रिपोर्ट में राज्यों की रैंकिंग से यह बात सामने आयी है। इस रिपोर्ट में 21 राज्यों का ब्योरा दिया गया है, जिसमें बिहार 21वें स्थान पर सबसे नीचे रहा है जबकि उत्तर प्रदेश 20वें, उत्तराखंड 19वें और ओड़िशा 18वें स्थान पर है। वहीं अगर संपूर्ण रैंकिंग की बात की जाए तो 21 बड़े राज्यों की सूची में उत्तर प्रदेश सबसे नीचे 21वें स्थान पर है। उसके बाद क्रमश: बिहार, ओड़िशा, मध्य प्रदेश और उत्तराखंड का स्थान है। वहीं पहले नंबर पर केरल है, जिसके बाद क्रमश: आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र और गुजरात का स्थान हैं। बता दें कि रैंकिंग 23 संकेतकों के आधार पर तैयार की गयी है। इन संकेतकों को स्वास्थ्य योजना परिणाम, संचालन व्यवस्था और सूचना तथा प्रमुख इनपुट/प्रक्रियाओं में बांटा गया है। बताया जा रहा है कि ये दूसरा मौका है जब आयोग ने स्वास्थ्य सूचकांक के आधार पर राज्यों की रैंकिंग की है। इस तरह की पिछली रैंकिंग फरवरी 2018 में जारी की गयी थी।