उत्तर प्रदेश: कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 102 तक पहुंची

Corona's havoc
चीन ने बनाई कोरोना वैक्सीन? शुरुआती ट्रायल से जगीं उम्मीदें

लखनऊ। पूरे देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। इसी क्रम में यूपी के बरेली में मंगलवार को एक ही परिवार के पांच सदस्यों के कोरोना संक्रमितों की पुष्टि होने के बाद प्रदेश में कोविड-19 मरीजों की संख्या बढ़ कर 102 हो गई है। यूपी के पहले महाराष्ट्र और केरल में कोरोना मरीजों की संख्या 100 से ज्यादा है। इससे पहले सोमवार को कोरोना के 16 नए मरीज पाए गए थे, जिसमें सात नोएडा, छह मेरठ और 1-1 लखनऊ, आगरा व बुलंदशहर के मरीज शामिल हैं।

Uttar Pradesh Corona Infected Patients Reach 102 :

बरेली के जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ. रंजन गौतम ने बताया कि रविवार को नोएडा की एक कंपनी में कार्यरत युवक कोरोना पॉजीटिव पाया गया था। वह 21 मार्च को यहां अपने घर आया था। सोमवार रात पीड़ित की पत्नी, माता, पिता, भाई और बहन के लिए गये नमूनों में भी वायरस की पुष्टि हो गई।

उन्होने बताया कि सभी मरीजों को शहर के एक अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। अब उस क्षेत्र के लोगों और पीड़ित युवक के रिश्तेदारों के स्वास्थ्य की जांच की जा रही है। एहतियातन पीड़ित परिवार के घर के तीन किमी के दायरे को सील कर सैनेटाइज किया जा रहा है।

इस बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गौतमबुद्ध नगर प्रशासन को नोएडा की उस कंपनी को सील करने के आदेश दिए है जिसमें कार्यरत 16 कर्मचारी कोरोना पाजीटिव पाये गये थे। स्वास्थ्य विभाग ने कंपनी प्रशासन के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कंपनी ने मार्च में विदेश से एक आडीटर को बुलाया था जो कोरोना संक्रमित पाया गया जिसके बाद एक के बाद एक कई कर्मचारी जानलेवा वायरस की चपेट में आ गये।

लखनऊ। पूरे देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। इसी क्रम में यूपी के बरेली में मंगलवार को एक ही परिवार के पांच सदस्यों के कोरोना संक्रमितों की पुष्टि होने के बाद प्रदेश में कोविड-19 मरीजों की संख्या बढ़ कर 102 हो गई है। यूपी के पहले महाराष्ट्र और केरल में कोरोना मरीजों की संख्या 100 से ज्यादा है। इससे पहले सोमवार को कोरोना के 16 नए मरीज पाए गए थे, जिसमें सात नोएडा, छह मेरठ और 1-1 लखनऊ, आगरा व बुलंदशहर के मरीज शामिल हैं। बरेली के जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ. रंजन गौतम ने बताया कि रविवार को नोएडा की एक कंपनी में कार्यरत युवक कोरोना पॉजीटिव पाया गया था। वह 21 मार्च को यहां अपने घर आया था। सोमवार रात पीड़ित की पत्नी, माता, पिता, भाई और बहन के लिए गये नमूनों में भी वायरस की पुष्टि हो गई। उन्होने बताया कि सभी मरीजों को शहर के एक अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। अब उस क्षेत्र के लोगों और पीड़ित युवक के रिश्तेदारों के स्वास्थ्य की जांच की जा रही है। एहतियातन पीड़ित परिवार के घर के तीन किमी के दायरे को सील कर सैनेटाइज किया जा रहा है। इस बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गौतमबुद्ध नगर प्रशासन को नोएडा की उस कंपनी को सील करने के आदेश दिए है जिसमें कार्यरत 16 कर्मचारी कोरोना पाजीटिव पाये गये थे। स्वास्थ्य विभाग ने कंपनी प्रशासन के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कंपनी ने मार्च में विदेश से एक आडीटर को बुलाया था जो कोरोना संक्रमित पाया गया जिसके बाद एक के बाद एक कई कर्मचारी जानलेवा वायरस की चपेट में आ गये।