उत्तर प्रदेश: लखनऊ में कोरोना के चार नए मरीज, केजीएमयू में भर्ती में 9 लोग

corona
उत्तर प्रदेश: लखनऊ में कोरोना के चार नए मरीज, केजीएमयू में भर्ती में 9 लोग

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में कोरोना के चार नए मामले सामने आए हैं। शुक्रवार को आई जांच रिपोर्ट में चार और लोगों में कोरोना वायरस पाए जाने की पुष्टि हुई है। लखनऊ में अब तक आठ लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। वहीं लखीमपुर खीरी के कोराना वायरस से पीड़ित युवक का इलाज भी लखनऊ में ही चल रहा है। बता दें कि लखनऊ में गुरुवार को भी दो और लोग संक्रमण की चपेट में आ गए थे। ये दोनों मरीज विदेशों से यात्रा कर लौटे थे। इन्हें केजीएमयू में भर्ती कराया गया। इस समय केजीएमयू में नौ मरीज भर्ती हैं। डॉक्टरों का कहना है कि सभी मरीजों की हालत स्थिर बनी हुई है।

Uttar Pradesh Four New Corona Patients In Lucknow 9 People Admitted In Kgmu :

जानकारी के मुताबिक गोमतीनगर निवासी युवक सोमवार को लंदन की यात्रा कर लौटा था। बुधवार को युवक को सर्दी-जुकाम और सूखी खांसी हुई। कोरोना के आशंका में जांच कराई गई। जांच रिपोर्ट में संक्रमण की पुष्टि हुई। इसके बाद युवक को केजीएमयू के आईसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया। दूसरा मरीज लखीमपुर खीरी स्थित मैगलगंज कस्बे का है। 57 साल के बुजुर्ग आठ मार्च को टर्की की यात्रा कर लौटे थे। सर्दी-जुकाम और बुखार हुआ। कोरोना की आशंका में जांच कराई गई। जांच में संक्रमण का पता चला।

केजीएमयू प्रवक्ता डॉ. सुधीर सिंह के मुताबिक संक्रमण की पुष्टि के बाद दोनों मरीजों को आईसोलेशन वार्ड में भर्ती कर दिया गया है। पहले से तीन मरीज भर्ती हैं। सभी मरीजों की तबीयत स्थिर है। उन्होंने बताया कि कुल 28 नमूने जांच के लिए माइक्रोबायोलॉजी विभाग भेजे गए। इनमें छह नमूनों की जांच अभी भी चल रही है। 20 लोगों के नमूने जांच में नेगेटिव पाए गए हैं। उन्होंने बताया कि आठ संदिग्ध लोगों को भर्ती किया गया है।

लोकबंधु अस्पताल के निदेशक डॉ. डीएस नेगी ने बताया कि बुधवार को कोरोना वायरस की आशंका में जिसे भर्ती किया गया था। जांच रिपोर्ट संक्रमण की पुष्टि नहीं हुई है। लिहाजा गुरुवार को उसकी छुट्टी कर दी। उन्होंने बताया कि 14 यात्रियों को लोकबंधु अस्पताल के क्वारंटाइन वार्ड में रखा गया है। ज्यादातर की उम्र 60 साल के ऊपर है। ज्यादातर यात्री ओमान की यात्रा कर लौटे हैं।

केजीएमयू में रेजिडेंट डॉक्टर में संक्रमण की पुष्टि के बाद उसके संपर्क में आए 20 चिकित्सक व कर्मचारियों को क्वारंटाइन वार्ड में रखा गया है। अच्छी बात यह है कि सभी डॉक्टर व कर्मचारी सेहतमंद हैं। फोन पर ये सभी डॉक्टर-कर्मचारी दूसरी टीम को इलाज संबंधी जानकारी दे रहे हैं।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में कोरोना के चार नए मामले सामने आए हैं। शुक्रवार को आई जांच रिपोर्ट में चार और लोगों में कोरोना वायरस पाए जाने की पुष्टि हुई है। लखनऊ में अब तक आठ लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। वहीं लखीमपुर खीरी के कोराना वायरस से पीड़ित युवक का इलाज भी लखनऊ में ही चल रहा है। बता दें कि लखनऊ में गुरुवार को भी दो और लोग संक्रमण की चपेट में आ गए थे। ये दोनों मरीज विदेशों से यात्रा कर लौटे थे। इन्हें केजीएमयू में भर्ती कराया गया। इस समय केजीएमयू में नौ मरीज भर्ती हैं। डॉक्टरों का कहना है कि सभी मरीजों की हालत स्थिर बनी हुई है। जानकारी के मुताबिक गोमतीनगर निवासी युवक सोमवार को लंदन की यात्रा कर लौटा था। बुधवार को युवक को सर्दी-जुकाम और सूखी खांसी हुई। कोरोना के आशंका में जांच कराई गई। जांच रिपोर्ट में संक्रमण की पुष्टि हुई। इसके बाद युवक को केजीएमयू के आईसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया। दूसरा मरीज लखीमपुर खीरी स्थित मैगलगंज कस्बे का है। 57 साल के बुजुर्ग आठ मार्च को टर्की की यात्रा कर लौटे थे। सर्दी-जुकाम और बुखार हुआ। कोरोना की आशंका में जांच कराई गई। जांच में संक्रमण का पता चला। केजीएमयू प्रवक्ता डॉ. सुधीर सिंह के मुताबिक संक्रमण की पुष्टि के बाद दोनों मरीजों को आईसोलेशन वार्ड में भर्ती कर दिया गया है। पहले से तीन मरीज भर्ती हैं। सभी मरीजों की तबीयत स्थिर है। उन्होंने बताया कि कुल 28 नमूने जांच के लिए माइक्रोबायोलॉजी विभाग भेजे गए। इनमें छह नमूनों की जांच अभी भी चल रही है। 20 लोगों के नमूने जांच में नेगेटिव पाए गए हैं। उन्होंने बताया कि आठ संदिग्ध लोगों को भर्ती किया गया है। लोकबंधु अस्पताल के निदेशक डॉ. डीएस नेगी ने बताया कि बुधवार को कोरोना वायरस की आशंका में जिसे भर्ती किया गया था। जांच रिपोर्ट संक्रमण की पुष्टि नहीं हुई है। लिहाजा गुरुवार को उसकी छुट्टी कर दी। उन्होंने बताया कि 14 यात्रियों को लोकबंधु अस्पताल के क्वारंटाइन वार्ड में रखा गया है। ज्यादातर की उम्र 60 साल के ऊपर है। ज्यादातर यात्री ओमान की यात्रा कर लौटे हैं। केजीएमयू में रेजिडेंट डॉक्टर में संक्रमण की पुष्टि के बाद उसके संपर्क में आए 20 चिकित्सक व कर्मचारियों को क्वारंटाइन वार्ड में रखा गया है। अच्छी बात यह है कि सभी डॉक्टर व कर्मचारी सेहतमंद हैं। फोन पर ये सभी डॉक्टर-कर्मचारी दूसरी टीम को इलाज संबंधी जानकारी दे रहे हैं।