यूपी में एग्जिट पोल के नतीजे चौकाने वाले, भाजपा का हो सकता है नुकसान

a

लखनऊ। लोकसभा चुनाव 2019 के लिए वोटिंग खत्म होने के साथ ही एग्जिट पोल्स के नतीजे आने शुरू हो गए हैं। इन एग्जिट पोल के नतीजों ने सबसे अहम है उत्तर प्रदेश के रूझान। टाइम्स नाउ.वीएमआर सर्वे के मुताबिक सबसे ज्यादा 80 सीटों वाले उत्तर प्रदेश में बीजेपी गठबंधन को 58 सीटें मिल रही हैं जबकि उसे अकेले 56 सीटें मिलने का अनुमान है।

Uttar Pradesh Lok Sabha Chunav Exit Polls 2019 :

यहां सबसे करारा झटका महागठबंधन को लगता दिख रहा है। एसपी-बीएसपी और आरएलडी के साझा गठबंधन को महज 20 सीटें मिलती दिख रही हैं। वहीं प्रियंका गांधी वाड्रा और राहुल गांधी के सघन प्रचार के बाद भी कांग्रेस के महज दो सीटों पर ही जीतने की संभावना है। अलग-अलग पोल्स के नतीजों में अंतर हैं। कई पोल्स में बीजेपी को बड़ी बढ़त दिखाई गई है तो कई स्थानों पर महागठबंधन की लहर बताई जा रही है। यदि अब तक आए 6 पोल्स के नतीजों का औसत निकालें तो बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए को 52 सीटें मिलने का अनुमान है जबकि महागठबंधन को 26 और कांग्रेस को महज 2 सीटें मिलने का ही अनुमान है।

टाइम्स नाउ वीएमआर सर्वे के मुताबिक बीजेपी गठबंधन को भले ही 2014 के मुकाबले यूपी में 15 सीटों का नुकसान होता दिख रहा है। इस पोल के अनुसार एसपी बीएसपी आरएलडी गठबंधन को 20 सीटें मिल सकती हैं। पिछली बार तीनों पार्टियों ने अलग चुनाव लड़ा था और महज 5 सीटें मिली थीं। ऐसे में इन तीनों दलों को 15 सीटों का लाभ होता दिख रहा हैए लेकिन उम्मीदों से यह बेहद कम है।

महापोल में बीजेपी और महागठबंधन में कड़ी टक्कर। 6 एग्जिट पोल्स का औसत निकालें तो बीजेपी और महागठबंधन में कांटे का मुकाबला दिखता है। हालांकि कांग्रेस तीनों सर्वे में महज 2 सीटों पर ही अटकती दिख रही है। महापोल में बीजेपी को 52ए महागठबंधन को 26 और कांग्रेस को 2 सीटें मिलती दिख रही हैं। सी वोटर सर्वे में महागठबंधन को 40 सीटें। भले ही टाइम्स नाउ वीएमआर सर्वे में महागठबंधन को महज 29 सीटें मिल रही हैं लेकिन सी वोटर सर्वे में उसे 40 सीटें मिलने की उम्मीद है।

बीजेपी को सी वोटर सर्वे में भी बहुत नुकसान होता नहीं दिख रहा है और उसे 38 सीटें मिलने का अनुमान है। हालांकि कांग्रेस को सी वोटर के सर्वे में भी झटका लगता दिख रहा है। उसे महज 2 सीटें मिलने का ही अनुमान जताया गया है। एबीपी नील्सन एग्जिट पोल में महागठबंधन की लहर भले ही सी वोटर और टाइम्स नाउ वीएमआर सर्वे ने बीजेपी की स्थिति मजबूत बताई हो लेकिन एबीपी नील्सन एग्जिट पोल सर्वे में बीजेपी को झटका लगता दिख रहा है। सर्वे के मुताबिक बीजेपी को 80 में से 33 सीटें मिलती दिख रही हैं जबकि महागठबंधन को 45 सीटें मिल सकती हैं।

इनमें से बीएसपी को 30 एसपी को 24 और आरएलडी को 2 सीटें मिलने का अनुमान है। हालांकि कांग्रेस एक बार फिर से महज 2 सीटों पर ही अटक सकती है। टाइम्स नाउ वीएमआर सर्वे में समाजवादी पार्टी और बीएसपी गठबंधन के महज 29 सीटों पर सिमटने से साफ है कि दोनों दलों के बीच वोटों का ट्रांसफर नहीं हो सका है। इसके अलावा बीजेपी ने जातिगत समीकरणों से परे बड़े पैमाने पर वोट हासिल किए हैं।

बीजेपी ने अपने टिकट बंटवारे में एक बार फिर से गैर यादव ओबीसीए गैर जाटव दलित राजनीति पर दांव चला था। ऐसे में यह समीकरण उसके पक्ष में जाता दिख रहा है। दोनों सर्वे में कांग्रेस को महज 2 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है। साफ है कि देश की सबसे पुरानी पार्टी अपनी परंपरागत सीटों रायबरेली और अमेठी में ही सिमट सकती है।

रायबरेली में सोनिया गांधीए जबकि अमेठी में राहुल गांधी मैदान में हैं। 80 लोकसभा सीटों वाले यूपी में 7 चरणों में लोकसभा में चुनाव हुए थे।

इस बार मुख्य मुकाबला बीजेपी और एसपी,बीएसपी,आरएलडी महागठबंधन के बीच ही था जबकि कांग्रेस ने अकेले ही चुनावी समर में उतरने का फैसला लिया था। 2014 में बीजेपी ने 71, उसके सहयोगी अपना दल ने 2, समाजवादी पार्टी ने 5 और कांग्रेस ने 2 सीटों पर जीत हासिल की थी, जबकि बीएसपी और आरएलडी का खाता भी नहीं खुल सका था।

लखनऊ। लोकसभा चुनाव 2019 के लिए वोटिंग खत्म होने के साथ ही एग्जिट पोल्स के नतीजे आने शुरू हो गए हैं। इन एग्जिट पोल के नतीजों ने सबसे अहम है उत्तर प्रदेश के रूझान। टाइम्स नाउ.वीएमआर सर्वे के मुताबिक सबसे ज्यादा 80 सीटों वाले उत्तर प्रदेश में बीजेपी गठबंधन को 58 सीटें मिल रही हैं जबकि उसे अकेले 56 सीटें मिलने का अनुमान है। यहां सबसे करारा झटका महागठबंधन को लगता दिख रहा है। एसपी-बीएसपी और आरएलडी के साझा गठबंधन को महज 20 सीटें मिलती दिख रही हैं। वहीं प्रियंका गांधी वाड्रा और राहुल गांधी के सघन प्रचार के बाद भी कांग्रेस के महज दो सीटों पर ही जीतने की संभावना है। अलग-अलग पोल्स के नतीजों में अंतर हैं। कई पोल्स में बीजेपी को बड़ी बढ़त दिखाई गई है तो कई स्थानों पर महागठबंधन की लहर बताई जा रही है। यदि अब तक आए 6 पोल्स के नतीजों का औसत निकालें तो बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए को 52 सीटें मिलने का अनुमान है जबकि महागठबंधन को 26 और कांग्रेस को महज 2 सीटें मिलने का ही अनुमान है। टाइम्स नाउ वीएमआर सर्वे के मुताबिक बीजेपी गठबंधन को भले ही 2014 के मुकाबले यूपी में 15 सीटों का नुकसान होता दिख रहा है। इस पोल के अनुसार एसपी बीएसपी आरएलडी गठबंधन को 20 सीटें मिल सकती हैं। पिछली बार तीनों पार्टियों ने अलग चुनाव लड़ा था और महज 5 सीटें मिली थीं। ऐसे में इन तीनों दलों को 15 सीटों का लाभ होता दिख रहा हैए लेकिन उम्मीदों से यह बेहद कम है। महापोल में बीजेपी और महागठबंधन में कड़ी टक्कर। 6 एग्जिट पोल्स का औसत निकालें तो बीजेपी और महागठबंधन में कांटे का मुकाबला दिखता है। हालांकि कांग्रेस तीनों सर्वे में महज 2 सीटों पर ही अटकती दिख रही है। महापोल में बीजेपी को 52ए महागठबंधन को 26 और कांग्रेस को 2 सीटें मिलती दिख रही हैं। सी वोटर सर्वे में महागठबंधन को 40 सीटें। भले ही टाइम्स नाउ वीएमआर सर्वे में महागठबंधन को महज 29 सीटें मिल रही हैं लेकिन सी वोटर सर्वे में उसे 40 सीटें मिलने की उम्मीद है। बीजेपी को सी वोटर सर्वे में भी बहुत नुकसान होता नहीं दिख रहा है और उसे 38 सीटें मिलने का अनुमान है। हालांकि कांग्रेस को सी वोटर के सर्वे में भी झटका लगता दिख रहा है। उसे महज 2 सीटें मिलने का ही अनुमान जताया गया है। एबीपी नील्सन एग्जिट पोल में महागठबंधन की लहर भले ही सी वोटर और टाइम्स नाउ वीएमआर सर्वे ने बीजेपी की स्थिति मजबूत बताई हो लेकिन एबीपी नील्सन एग्जिट पोल सर्वे में बीजेपी को झटका लगता दिख रहा है। सर्वे के मुताबिक बीजेपी को 80 में से 33 सीटें मिलती दिख रही हैं जबकि महागठबंधन को 45 सीटें मिल सकती हैं। इनमें से बीएसपी को 30 एसपी को 24 और आरएलडी को 2 सीटें मिलने का अनुमान है। हालांकि कांग्रेस एक बार फिर से महज 2 सीटों पर ही अटक सकती है। टाइम्स नाउ वीएमआर सर्वे में समाजवादी पार्टी और बीएसपी गठबंधन के महज 29 सीटों पर सिमटने से साफ है कि दोनों दलों के बीच वोटों का ट्रांसफर नहीं हो सका है। इसके अलावा बीजेपी ने जातिगत समीकरणों से परे बड़े पैमाने पर वोट हासिल किए हैं। बीजेपी ने अपने टिकट बंटवारे में एक बार फिर से गैर यादव ओबीसीए गैर जाटव दलित राजनीति पर दांव चला था। ऐसे में यह समीकरण उसके पक्ष में जाता दिख रहा है। दोनों सर्वे में कांग्रेस को महज 2 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है। साफ है कि देश की सबसे पुरानी पार्टी अपनी परंपरागत सीटों रायबरेली और अमेठी में ही सिमट सकती है। रायबरेली में सोनिया गांधीए जबकि अमेठी में राहुल गांधी मैदान में हैं। 80 लोकसभा सीटों वाले यूपी में 7 चरणों में लोकसभा में चुनाव हुए थे। इस बार मुख्य मुकाबला बीजेपी और एसपी,बीएसपी,आरएलडी महागठबंधन के बीच ही था जबकि कांग्रेस ने अकेले ही चुनावी समर में उतरने का फैसला लिया था। 2014 में बीजेपी ने 71, उसके सहयोगी अपना दल ने 2, समाजवादी पार्टी ने 5 और कांग्रेस ने 2 सीटों पर जीत हासिल की थी, जबकि बीएसपी और आरएलडी का खाता भी नहीं खुल सका था।