उत्तर प्रदेश: बिना मास्क पहने घर से बाहर निकलने पर रोक, 30 अप्रैल तक रहेगी पाबंदी

cm yogi
पुलिस प्रशासन बना हैवान, जनप्रतिनिधि हैं हैरान

लखनऊ। लॉकडाउन के बीच उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में कोरोना वायरस के मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए बड़ा फैसला लिया है। सरकार ने बिना मास्क के 30 अप्रैल तक किसी को भी घर से बाहर निकलने पर रोक लगा दी है। अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी से जारी बयान में कहा गया है कि प्रदेश के 15 जिलों के हॉट कलस्टर को सील किया जा रहा है। इनमें लखनऊ, आगरा, गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर , कानपुर, वाराणसी, शामली, मेरठ, बरेली, बुलंदशहर, फिरोजाबाद, महराजगंज,सीतापुर, सहारनपुर और बस्ती जिले शामिल हैं।

Uttar Pradesh Restriction On Exiting The House Without Wearing A Mask Will Be Banned Till April 30 :

मंगलवार को लखनऊ के केजीएमयू में जांच को लाए गए 296 कोरोना सैंपल में से सिर्फ 02 लोग पॉजिटिव पाए गए थे। दोनों मरीज आगरा के हैं। जिनका इलाज एसएन मेडिकल कॉलेज में चल रहा है। बता दें कि मंगलवार को 31 और नए मरीज मिले थे। इसमें 17 तबलीगी जमात के हैं। वही प्रदेश में अब तक 348 संक्रमित मरीज सामने आ चुके हैं। इसमें अकेले तबलीगी जमात के 193 लोग शामिल हैं।

जिन जिलों में जमात से जुड़े लोग संक्रमित पाए गए हैं, उनमें आगरा में 63 में से 33 ,लखनऊ में 24 में से 12, गाजियाबाद में 23 में से 14, लखीमपुर खीरी में चार में तीन, वाराणसी में नौ में चार, शामली में 17 में 16 ,जौनपुर में तीन में से दो ,बागपत में तीन में से दो ,मेरठ में 35 में 15, बुलंदशहर में आठ में सात, बस्ती में 11 में छह, हापुड़ में सभी तीन, गाजीपुर में सभी पांच, आजमगढ़ में सभी चार, फिरोजाबाद में सभी सात, हरदोई में एक, प्रतापगढ़ में सभी तीनों, सहारनपुर में सभी 14, शाहजहांपुर में एक, बांदा में दो, महाराजगंज में सभी छह, हाथरस में सभी 4, मिर्जापुर में सभी दो ,रायबरेली में सभी एक ,औरैया में एक, बाराबंकी में एक, बिजनौर में एक, सीतापुर में आठ, प्रयागराज में एक, मथुरा में दो में एक और बदायूं में एक मरीज शामिल है। अभी तक 27 मरीज स्वस्थ होकर अस्पताल से छुट्टी पा चुके हैं। इसमें आगरा के आठ, नोएडा के 10, लखनऊ के पांच , गाजियाबाद के तीन और कानपुर का एक मरीज शामिल है।

लखनऊ। लॉकडाउन के बीच उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में कोरोना वायरस के मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए बड़ा फैसला लिया है। सरकार ने बिना मास्क के 30 अप्रैल तक किसी को भी घर से बाहर निकलने पर रोक लगा दी है। अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी से जारी बयान में कहा गया है कि प्रदेश के 15 जिलों के हॉट कलस्टर को सील किया जा रहा है। इनमें लखनऊ, आगरा, गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर , कानपुर, वाराणसी, शामली, मेरठ, बरेली, बुलंदशहर, फिरोजाबाद, महराजगंज,सीतापुर, सहारनपुर और बस्ती जिले शामिल हैं। मंगलवार को लखनऊ के केजीएमयू में जांच को लाए गए 296 कोरोना सैंपल में से सिर्फ 02 लोग पॉजिटिव पाए गए थे। दोनों मरीज आगरा के हैं। जिनका इलाज एसएन मेडिकल कॉलेज में चल रहा है। बता दें कि मंगलवार को 31 और नए मरीज मिले थे। इसमें 17 तबलीगी जमात के हैं। वही प्रदेश में अब तक 348 संक्रमित मरीज सामने आ चुके हैं। इसमें अकेले तबलीगी जमात के 193 लोग शामिल हैं। जिन जिलों में जमात से जुड़े लोग संक्रमित पाए गए हैं, उनमें आगरा में 63 में से 33 ,लखनऊ में 24 में से 12, गाजियाबाद में 23 में से 14, लखीमपुर खीरी में चार में तीन, वाराणसी में नौ में चार, शामली में 17 में 16 ,जौनपुर में तीन में से दो ,बागपत में तीन में से दो ,मेरठ में 35 में 15, बुलंदशहर में आठ में सात, बस्ती में 11 में छह, हापुड़ में सभी तीन, गाजीपुर में सभी पांच, आजमगढ़ में सभी चार, फिरोजाबाद में सभी सात, हरदोई में एक, प्रतापगढ़ में सभी तीनों, सहारनपुर में सभी 14, शाहजहांपुर में एक, बांदा में दो, महाराजगंज में सभी छह, हाथरस में सभी 4, मिर्जापुर में सभी दो ,रायबरेली में सभी एक ,औरैया में एक, बाराबंकी में एक, बिजनौर में एक, सीतापुर में आठ, प्रयागराज में एक, मथुरा में दो में एक और बदायूं में एक मरीज शामिल है। अभी तक 27 मरीज स्वस्थ होकर अस्पताल से छुट्टी पा चुके हैं। इसमें आगरा के आठ, नोएडा के 10, लखनऊ के पांच , गाजियाबाद के तीन और कानपुर का एक मरीज शामिल है।