यूपी में हादसों की रेल: डिरेल हुई पैसेंजर ट्रेन, मालगाड़ी का इंजन पटरी से उतरा

sitapur-rail

लखनऊ। लगातार रेल हादसों से भारतीय रेल से यात्रियों का भरोसा टूटता जा रहा है। यूपी के सीतापुर में बुढ़वाल-बालामऊ पैसेंजर ट्रेन का इंजन बेपटरी होने के महज कुछ ही घंटे के अंदर मंगलवार सुबह एक मालगाड़ी का इंजन फिर पटरी से उतर गया। हालांकि इसमें किसी के हताहत होने की खबर नहीं है।

Uttar Pradesh Sitapur Passenger Train Derailment :

घटना सुबह लगभग सात बजे के आसपास की है, जिसके बाद हड़कंप मच गया। घटना की सूचना विभाग के अधिकारियों को भी दी गई। पुलिस लाइन रेलवे क्रसिंग के पास सोमवार रात बुढ़वाल-बालामऊ पैसेंजर ट्रेन के इंजन के दो पहिये पटरी से उतर गए। इस घटना की सूचना पाकर रेल विभाग के आलाधिकारी मौके पर पहुंचे और उनकी देखरेख में ट्रैक की मरम्मत का कार्य कराया गया।

पटरी के दुरुस्त होने के बाद मंगलवार सुबह जब मालगाड़ी निकालकर इसका परीक्षण किया जा रहा था, उस दौरान मालगाड़ी के इंजन के पहिये पटरी से उतर गए, जिसके बाद रेलवे ट्रैक फिर बाधित हो गया।

बताते चलें बीते दिनों खतौली में हुए बड़े रेल हादसे के बाद भी ट्रेनों का पटरियों से उतरना जारी है। मुजफ्फरनगर के खतौली में ट्रेन हादसे में 23 लोगों की जान चली गए थी। औरेया में भी कैफियत एक्सप्रेस भी कुछ दिन पहले डिरेल हो गई थी, जिसमें करीब 21 यात्री घायल हुए थे।

लखनऊ। लगातार रेल हादसों से भारतीय रेल से यात्रियों का भरोसा टूटता जा रहा है। यूपी के सीतापुर में बुढ़वाल-बालामऊ पैसेंजर ट्रेन का इंजन बेपटरी होने के महज कुछ ही घंटे के अंदर मंगलवार सुबह एक मालगाड़ी का इंजन फिर पटरी से उतर गया। हालांकि इसमें किसी के हताहत होने की खबर नहीं है।घटना सुबह लगभग सात बजे के आसपास की है, जिसके बाद हड़कंप मच गया। घटना की सूचना विभाग के अधिकारियों को भी दी गई। पुलिस लाइन रेलवे क्रसिंग के पास सोमवार रात बुढ़वाल-बालामऊ पैसेंजर ट्रेन के इंजन के दो पहिये पटरी से उतर गए। इस घटना की सूचना पाकर रेल विभाग के आलाधिकारी मौके पर पहुंचे और उनकी देखरेख में ट्रैक की मरम्मत का कार्य कराया गया।पटरी के दुरुस्त होने के बाद मंगलवार सुबह जब मालगाड़ी निकालकर इसका परीक्षण किया जा रहा था, उस दौरान मालगाड़ी के इंजन के पहिये पटरी से उतर गए, जिसके बाद रेलवे ट्रैक फिर बाधित हो गया।बताते चलें बीते दिनों खतौली में हुए बड़े रेल हादसे के बाद भी ट्रेनों का पटरियों से उतरना जारी है। मुजफ्फरनगर के खतौली में ट्रेन हादसे में 23 लोगों की जान चली गए थी। औरेया में भी कैफियत एक्सप्रेस भी कुछ दिन पहले डिरेल हो गई थी, जिसमें करीब 21 यात्री घायल हुए थे।