1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत आज शाम राजभवन पहुंच, राज्यपाल को सौंप सकते हैं इस्तीफा

उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत आज शाम राजभवन पहुंच, राज्यपाल को सौंप सकते हैं इस्तीफा

By शिव मौर्या 
Updated Date

Uttarakhand Cm Trivendra Singh Rawat Reaches Raj Bhavan This Evening May Resign To The Governor

देहरादून। बीतें दिनों उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत को दिल्ली तलब किया गया था। जिसके बाद से ये अटकलें लगनी शुरु हो गयी थी की सीएम को मुख्यमंत्री के पद से हटाया जा सकता है। दिल्ली जा कर उन्होंने गृहमंत्री अमित शाह और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की। उत्तराखंड में पिछले तीन दिन से मचे सियासी भूचाल के बीच उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत मंगलवार सुबह करीब साढ़े 10 बजे देहरादून पहुंच गए हैं।

पढ़ें :- WTC Final : साउथैम्पटन में टीम इंडिया पहली पारी में 217 पर ऑल आउट, जैमिसन ने झटके पांच विकेट

वो दिल्ली से लौंट आये हैं। जौलीग्रांट एयरपोर्ट पहुंचने के बाद सीएम त्रिवेंद्र ने किसी से कुछ भी बात नहीं की और वह कुछ भी बात करने से बचते रहे। हैरानी की बात थी कि एक दिन बाद दून पहुंचे सीएम त्रिवेंद्र से मिलने को कोई भी विधायक एयरपोर्ट नहीं पहुंचा था। सूत्रों की मानें तो उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत आज शाम राजभवन पहुंच कर राज्यपाल को इस्तीफा सौंप सकते हैं। एयरपोर्ट से त्रिवेंद्र सीधे ही सीएम आवास के लिए रवाना हो गए थे।

सीएम आवास जाने के दौरान वह अपने विधानसभा क्षेत्र डोईवाला से भी होकर गुजरे थे। सीएम त्रिवेंद्र मंगलवार शाम चार बजे  प्रेस कांफ्रेंस करेंगे। सूत्रों की मानें तो सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत आज शाम करीब चार बजे करीब राजभवन में राज्यपाल बेबी रानी मौर्य से मिलने जा सकते हैं। हालांकि पार्टी हाईकमान की ओर से सीएम चेहरा बदलने की अभी तक कोई औपचारिक घोषणा नहीं की गई है। अगले साल 2022 में उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव हैं तो ठीक एक साल पहले मुख्यमंत्री को बदलना कितना सही होगा, इसपर भी पार्टी को गंभीरता से विचार करना होगा।

गौरतलब है कि राजधानी देहरादून में दिल्ली से विशेषतौर से भेजे गए पर्यवेक्षक व झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह की अध्यक्षता में हुई कोर कमेटी की बैठक के बाद सिंह ने अपनी रिपोर्ट पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को सौंप दी है। सूत्रों की मानें तो उत्तराखंड में असंतुष्ट नेताओं सहित बेलगाम होती ब्यूरोक्रेसी सहित मंत्रिमंडल विस्तार में देरी की बातों का उल्लेख किया गया है। रिपोर्ट के आधार पर ही सीएम त्रिवेंद्र के भाग्य का फैसला होना तय है।

 

पढ़ें :- खुशखबरी : देश में अब मुफ्त टीकाकरण, Co-Win पर पंजीकरण की अनिवार्य खत्म,न करें देर

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X