उत्तराखंड सरकार का बड़ा फैसला, गुटखा और पान मसाला पर लगाया प्रतिबंध

ban
उत्तराखंड सरकार का बड़ा फैसला, गुटखा और पान मसाला पर लगाया प्रतिबंध

नई दिल्ली। उत्तराखंड सरकार (Uttarakhand Government) ने गुटखा जैसे पदार्थों और तंबाकू एवं निकोटिन की उच्च मात्रा वाले पान मसाला के उत्पादन, भंडारण, वितरण और बिक्री को पूरी तरह प्रतिबंधित कर दिया है। यह फैसला तंबाकू एवं निकोटिन युक्त गुटखा और पान मसाला जैसे पदार्थों के मानव स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभावों के मद्देनजर लिया गया है।

Uttarakhand Government Ban Gutka Pan Masala :

आदेश में प्रतिबंध के कारणों के बारे में विस्तार से बताया गया कि भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण मानव उपभोग के किसी भी उत्पाद में तंबाकू एवं निकोटिन के प्रयोग को प्रतिबंधित करता है। पाया गया कि गुटखा, पान मसाला और विभिन्न नामों के तहत बेचे जा रहे कई अन्य उत्पादों में इनकी मात्रा बहुत ज्यादा है।

क्या बोले सीएम त्रिवंद्र सिंह?

प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इसे शुरुआत बताया है। उन्होंने कहा कि एक साल तक इस पर अमल कर जनता की प्रतिक्रिया लेना हमारा मकसद है। मुख्यमंत्री ने कहा कि तंबाकू उत्पाद और उनका सेवन उन युवाओं को नशे की गर्त में धकेल देता है। उन्होंने कहा कि युवा पीढ़ी के जो लोग अब तक तंबाकू के सेवन से दूर हैं, उनको इससे दूर ही रखना हमारा पहला लक्ष्य है।

 

नई दिल्ली। उत्तराखंड सरकार (Uttarakhand Government) ने गुटखा जैसे पदार्थों और तंबाकू एवं निकोटिन की उच्च मात्रा वाले पान मसाला के उत्पादन, भंडारण, वितरण और बिक्री को पूरी तरह प्रतिबंधित कर दिया है। यह फैसला तंबाकू एवं निकोटिन युक्त गुटखा और पान मसाला जैसे पदार्थों के मानव स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभावों के मद्देनजर लिया गया है। आदेश में प्रतिबंध के कारणों के बारे में विस्तार से बताया गया कि भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण मानव उपभोग के किसी भी उत्पाद में तंबाकू एवं निकोटिन के प्रयोग को प्रतिबंधित करता है। पाया गया कि गुटखा, पान मसाला और विभिन्न नामों के तहत बेचे जा रहे कई अन्य उत्पादों में इनकी मात्रा बहुत ज्यादा है। क्या बोले सीएम त्रिवंद्र सिंह? प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इसे शुरुआत बताया है। उन्होंने कहा कि एक साल तक इस पर अमल कर जनता की प्रतिक्रिया लेना हमारा मकसद है। मुख्यमंत्री ने कहा कि तंबाकू उत्पाद और उनका सेवन उन युवाओं को नशे की गर्त में धकेल देता है। उन्होंने कहा कि युवा पीढ़ी के जो लोग अब तक तंबाकू के सेवन से दूर हैं, उनको इससे दूर ही रखना हमारा पहला लक्ष्य है।