वाराणसी: श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे पहुंचे अस्‍सी घाट, गंगा आरती में हुए शामिल

Mahindra Rajpakshe
वाराणसी: श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे पहुंचे अस्‍सी घाट, गंगा आरती में हुए शामिल

वाराणसी। श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे वाराणसी प्रवास के दूसरे दिन सोमवार की सुबह अस्‍सी घाट पर मां गंगा की आरती करने पहुंचे। श्रीलंका के प्रधानमंत्री के अस्‍सी घाट पर पहुंचते ही यूपी सरकार के मंत्री नीलकंठ तिवारी ने घाट पर माल्यार्पण कर स्वागत किया। इसके बाद बटुकों द्वारा परंपरागत तरीके से प्रात: कालीन गंगा आरती की गई।

Varanasi Sri Lankan Prime Minister Mahinda Rajapaksa Arrives At Assi Ghat Joins Ganga Aarti :

गंगा आरती में हिस्‍सा लेने के बाद सुबह दस बजे महिंदा राजपक्षे लाल बहादुर शास्‍त्री अंतरराष्‍ट्रीय एयरपोर्ट बाबतपुर पहुंचे। वहां से विशेष विमान वह नई दिल्‍ली के लिए रवाना हो गए। वाराणसी में गंगा आरती के दौरान गंगा को निहारते हुए तस्‍वीर सोशल मीडिया में भी शेयर की।

<blockquote class=”twitter-tweet”><p lang=”en” dir=”ltr”>Before leaving <a href=”https://twitter.com/hashtag/Varanasi?src=hash&amp;ref_src=twsrc%5Etfw”>#Varanasi</a>, I had the honour of visiting the sacred River Ganga. I commend PM <a href=”https://twitter.com/narendramodi?ref_src=twsrc%5Etfw”>@narendramodi</a>’s <a href=”https://twitter.com/hashtag/NamamiGange?src=hash&amp;ref_src=twsrc%5Etfw”>#NamamiGange</a> effort, not only because of the river’s spiritual and cultural significance but also because it is host to approximately 40% of <a href=”https://twitter.com/hashtag/India?src=hash&amp;ref_src=twsrc%5Etfw”>#India</a>’s population. <a href=”https://t.co/kQ5Vedyju3″>pic.twitter.com/kQ5Vedyju3</a></p>&mdash; Mahinda Rajapaksa (@PresRajapaksa) <a href=”https://twitter.com/PresRajapaksa/status/1226726172064509954?ref_src=twsrc%5Etfw”>February 10, 2020</a></blockquote> <script async src=”https://platform.twitter.com/widgets.js” charset=”utf-8″></script>

उन्‍होंने पोस्‍ट में लिखा कि कि ‘वाराणसी छोड़ने से पहले, मुझे पवित्र गंगा नदी के दर्शन करने का सम्मान मिला। मैं पीएम नरेंद्र मोदी की तारीफ करता हूं। नदी के आध्यात्मिक और सांस्कृतिक महत्व के कारण ही नहीं, बल्कि भारत के नमामि गंगे प्रयास भी अच्‍छा है, क्योंकि इस क्षेत्र में भारत की आबादी का लगभग 40 फीसद हिस्‍सा निवास करता है।

इससे पूर्व सुबह से ही घाट पर सुरक्षा एजेंसियों ने डेरा डाल दिया और घाट पर साफ सफाई के साथ ही गंगा में एनडीआरएफ और जल पुलिस ने मोर्चा संभाल लिया। इस दौरान आम लोगों के लिए घाट पर प्रवेश बंद कर दिया गया। पीएम के आगमन के साथ ही सुरक्षा बलों ने घाट पर सुरक्षा कड़ी कर दी और वीआइपी व वीवीआइपी लोगों को ही गंगा आरती के दौरान घाट पर ठहरने की अनुमति दी गई।

अस्सी घाट आगमन होते ही ‘केशरिया बालम पधारो म्हारे देश’ के साथ ही शास्त्रीय गायन से परंपरागत तरीके से स्वागत किया गया। इसके बाद पारंपरिक तरीके से नैत्यिक गंगा आरती का क्रम शुरू हुआ तो श्रीलंका के पीएम ने मंत्रमुग्‍ध होकर मां गंगा की लहरों को नमन किया। पारंपरिक तरीकों से वेद मंत्रों के बीच मां गंगा का जलाभिषेक कर श्रीलंका के सुख समृद्धि की उन्‍होंने कामना भी की।

वाराणसी। श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे वाराणसी प्रवास के दूसरे दिन सोमवार की सुबह अस्‍सी घाट पर मां गंगा की आरती करने पहुंचे। श्रीलंका के प्रधानमंत्री के अस्‍सी घाट पर पहुंचते ही यूपी सरकार के मंत्री नीलकंठ तिवारी ने घाट पर माल्यार्पण कर स्वागत किया। इसके बाद बटुकों द्वारा परंपरागत तरीके से प्रात: कालीन गंगा आरती की गई। गंगा आरती में हिस्‍सा लेने के बाद सुबह दस बजे महिंदा राजपक्षे लाल बहादुर शास्‍त्री अंतरराष्‍ट्रीय एयरपोर्ट बाबतपुर पहुंचे। वहां से विशेष विमान वह नई दिल्‍ली के लिए रवाना हो गए। वाराणसी में गंगा आरती के दौरान गंगा को निहारते हुए तस्‍वीर सोशल मीडिया में भी शेयर की। <blockquote class="twitter-tweet"><p lang="en" dir="ltr">Before leaving <a href="https://twitter.com/hashtag/Varanasi?src=hash&amp;ref_src=twsrc%5Etfw">#Varanasi</a>, I had the honour of visiting the sacred River Ganga. I commend PM <a href="https://twitter.com/narendramodi?ref_src=twsrc%5Etfw">@narendramodi</a>’s <a href="https://twitter.com/hashtag/NamamiGange?src=hash&amp;ref_src=twsrc%5Etfw">#NamamiGange</a> effort, not only because of the river’s spiritual and cultural significance but also because it is host to approximately 40% of <a href="https://twitter.com/hashtag/India?src=hash&amp;ref_src=twsrc%5Etfw">#India</a>’s population. <a href="https://t.co/kQ5Vedyju3">pic.twitter.com/kQ5Vedyju3</a></p>&mdash; Mahinda Rajapaksa (@PresRajapaksa) <a href="https://twitter.com/PresRajapaksa/status/1226726172064509954?ref_src=twsrc%5Etfw">February 10, 2020</a></blockquote> <script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script> उन्‍होंने पोस्‍ट में लिखा कि कि 'वाराणसी छोड़ने से पहले, मुझे पवित्र गंगा नदी के दर्शन करने का सम्मान मिला। मैं पीएम नरेंद्र मोदी की तारीफ करता हूं। नदी के आध्यात्मिक और सांस्कृतिक महत्व के कारण ही नहीं, बल्कि भारत के नमामि गंगे प्रयास भी अच्‍छा है, क्योंकि इस क्षेत्र में भारत की आबादी का लगभग 40 फीसद हिस्‍सा निवास करता है। इससे पूर्व सुबह से ही घाट पर सुरक्षा एजेंसियों ने डेरा डाल दिया और घाट पर साफ सफाई के साथ ही गंगा में एनडीआरएफ और जल पुलिस ने मोर्चा संभाल लिया। इस दौरान आम लोगों के लिए घाट पर प्रवेश बंद कर दिया गया। पीएम के आगमन के साथ ही सुरक्षा बलों ने घाट पर सुरक्षा कड़ी कर दी और वीआइपी व वीवीआइपी लोगों को ही गंगा आरती के दौरान घाट पर ठहरने की अनुमति दी गई। अस्सी घाट आगमन होते ही 'केशरिया बालम पधारो म्हारे देश' के साथ ही शास्त्रीय गायन से परंपरागत तरीके से स्वागत किया गया। इसके बाद पारंपरिक तरीके से नैत्यिक गंगा आरती का क्रम शुरू हुआ तो श्रीलंका के पीएम ने मंत्रमुग्‍ध होकर मां गंगा की लहरों को नमन किया। पारंपरिक तरीकों से वेद मंत्रों के बीच मां गंगा का जलाभिषेक कर श्रीलंका के सुख समृद्धि की उन्‍होंने कामना भी की।