तबाही मचाने को तैयार हैं ‘Vardah’, रहें सावधान

चेन्नई। बंगाल की खाड़ी के ऊपर सक्रिय शक्तिशाली चक्रवती तूफान वरदा (Vardah) आंध्र प्रदेश के कवाली और मछलीपट्टनम के इलाकों के आसपास तबाही मचा सकता है। इसके प्रभाव के तहत भारी बारिश होने की भी पूरी आशंका है। मौसम विभाग की माने तो चेन्नई से सिर्फ 60 किलोमीटर की दूरी पर ही है यह तूफान। फिलहाल प्रशासन ने इस तूफान से निपटने के लिए सारे इंतजाम कर लिए हैं। एनडीआरएफ की टीमें मौके पर पहुँच चुकी हैं। तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में हाई अर्लट घोषित कर दिया गया हैं। सोमवार को चेन्नई, कांचीपुरम और तिरुवलूर समेत तटीय इलाकों के सभी स्कूल-कॉलेजों की छुट्टी कर दी गई है। मौसम खराब रहने के चलते मछुआरों को अगले 48 घंटों तक समुद्र में नहीं जाने के लिए कहा गया है।



क्या हैं वरदा तूफान, कैसे निपटे इससे-

बंगाल की खाड़ी से उठा वरदा इस सीजन का तीसरा चक्रवाती तूफान है। ‘वरदा’ का मतलब उर्दू में ‘गुलाब’ होता है। नॉर्थ हिंद महासागर में चक्रवाती तूफानों का नामकरण आईएमडी करता है। जब हवा की स्पीड कम से कम 63 किमी/ घंटा हो जाती है और यह कुछ देर बरकरार रहती है तो 3 मिनट के भीतर ये चक्रवाती तूफान का रूप धारण कर लेती है। चक्रवात वरदा से निपटने के लिए तमिलनाडु में एनडीआरएफ की 7 और आंध्र प्रदेश में 6 टीमें भेजी गई हैं। बताया जा है कि राहत-बचाव के लिए तैयारियां पूरी हैं। कुल 13 टीमें भेजी गई हैं, जिसमें आंध्र प्रदेश में 7 टीम नेल्लोर, टाडा, सलूरपेटा, ओंगले, चित्तोर, विशाखापट्टनम में, जबकि तमिलनाडु में 6 टीमें तैनात की गई है। जिनमें 3 टीम चेन्नई के लिए रवाना हुई है। 2 टीमें त्रिवलूर और 1 महाबलीपुरम में है। इसके अलावा कुछ टीमें रिजर्व भी हैं।




तूफान से निपटने के लिए सारे इंतजाम-

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्र बाबू नायडू ने अधिकारियों को भरपूर खाद्य पदार्थ और अन्य जरूरी वस्तुएं उपलब्ध रखने को कहा है। इस बीच, मौसम विज्ञान विभाग के दिल्ली कार्यालय ने चक्रवाती तूफान के बारे में प्रधानमंत्री कार्यालय और कैबिनेट सचिवालय को जानकारी दे दी है। विभाग के महानिदेशक केजे रमेश ने बताया कि मैंने व्यक्तिगत रूप से तमिलनाडु और आंध्र के मुख्य सचिवों से बात की है। इसके अलावा क्षेत्रीय मौसम केंद्र इन दोनों राज्यों के आपदा प्रबंधन आयुक्तों से संपर्क बनाए हुए हैं।

तटीय जिलों में भारी बारिश के आसार-

इस चक्रवात के कारण तमिलनाडु और दक्षिणी आंध्र प्रदेश के तटीय जिलों में भारी बारिश के आसार है। क्षेत्रीय चक्रवात चेतावनी केंद्र के निदेशक एस बालचंद्रन ने चेन्नई में कहा कि वरदाह आज सुबह साढ़े आठ बजे चेन्नई से करीब 440 किलोमीटर दूर केंद्रित था और इसके दक्षिण दिशा में बढ़ने तथा 12 दिसंबर को दोपहर तक चेन्नई पहुंचने की उम्मीद है। हालांकि, उम्मीद जताई गई है कि चेन्नई पहुंचने तक इसकी तीव्रता कम हो जाएगी।




शैक्षणिक संस्थानों में छुट्टियों की घोषणा-

तमिलनाडु ने चार जिलों में सभी शैक्षणिक संस्थानों में छुट्टियों की घोषणा भी कर दी है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि बंगाल की खाड़ी से लगे समूचे आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु में अलर्ट जारी कर दिया गया है। क्षेत्रीय मौसम केंद्र ने बताया कि वरदाह रविवार को दोपहर ढाई बजे चेन्नई से 330 किलोमीटर पूर्व में केंद्रित था और यह सोमवार दोपहर उत्तर तमिलनाडु और दक्षिण आंध्र प्रदेश को अपनी चपेट में लेने से पहले पश्चिम की ओर बढ़ेगा। ताजा जानकारी के अनुसार वरदा की चेतावनी के तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में रेल सेवा प्रभावित हुई है। इस रूट पर आने और जाने वाली कई ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है।